Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजनूँह में पत्थरबाजी-फायरिंग: बाइक की रफ्तार का विवाद सांपद्रायिक हिंसा में बदला, नत्थूराम के...

नूँह में पत्थरबाजी-फायरिंग: बाइक की रफ्तार का विवाद सांपद्रायिक हिंसा में बदला, नत्थूराम के घर पर भीड़ का हमला; छावनी में बदला इलाका

हिंसा के वायरल वीडियो में कई लोगों को छतों से पथराव करते देखा जा सकता है। कई वाहनों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया। तनाव को देखते हुए भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है।

हरियाणा के नूँह में बाइक की रफ्तार को लेकर हुआ विवाद सांप्रदायिक हिंसा में बदल गया। पत्थरबाजी और फायरिंग की खबर है। नत्थूराम के घर पर मुस्लिम भीड़ के हमले के बाद दोनों तरफ से लाठी-डंडे और गोलियाँ चली हैं। करीब दर्जन भर लोग घायल हुए हैं। भारी पुलिस बल की तैनाती है। घटना सोमवार (20 फरवरी 2023) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला गाँव खेड़ा खलीलपुर का है। विवाद की शुरुआत रविवार को हुई थी। एक नाबालिग लड़का तेज रफ्तार बाइक चला रहा था। आरोप है कि उसकी चपेट में आने से गाँव के ही नत्थूराम के घर की एक 8 वर्षीया बच्ची बाल-बाल बच गई। इसको ले कर नत्थूराम के घर वालों की नाबालिग लड़के से बहस करने लगा। कहा जा रहा है कि इस दौरान नत्थूराम ने पक्ष के लोगों ने नाबालिग लड़के की पिटाई कर दी।

हालाँकि थोड़ी देर बाद मामला शांत हो गया और लोग अपने-अपने घरों को चले गए। सोमवार को इसी बात को लेकर नाबालिग लड़के और नत्थूराम के घर वाले आमने-सामने आ गए। इस दौरान दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर पत्थर फेंके और लाठी-डंडों से हमला किया। आरोप है कि इस दौरान गोलियाँ भी चलीं। झगड़े में नत्थूराम पक्ष के करीब 12 लोग घायल हैं। इनका इलाज स्थानीय सोहना अस्पताल में चल रहा है। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

वायरल वीडियो में कई लोगों को छतों से पथराव करते देखा जा सकता है। हमले में कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। घटना की सूचना मिलने पर भारी संख्या में पुलिस बल गाँव पहुँचा। हालात काबू में हैं। लेकिन गाँव में अभी भी तनाव होने की बात कही जा रही है। इसे देखते हुए पूरे इलाका छावनी में बदल दिया गया है। कुछ पत्थरबाजों को हिरासत में लिए जाने की जानकारी सामने आई है। लेकिन खबर लिखे जाने तक आधिकारिक तौर पर गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं हुई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -