Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजदावा- 100 से ज्यादा लोगों को SC/ST एक्ट में फॅंसा चुका है अलीगढ़ का...

दावा- 100 से ज्यादा लोगों को SC/ST एक्ट में फॅंसा चुका है अलीगढ़ का एक परिवार, पुलिस ने बताया- शिकायत करने वाला खुद भी वांछित

मनोज की मानें तो उन्हें अब तक लगभग 122 लोग ऐसे मिल चुके हैं, जो इस परिवार द्वारा SC/ST एक्ट में आरोपित बनाए गए हैं। पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में मनोज ने ऐसे 9 मामलों का जिक्र किया है।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में एक व्यक्ति ने एक महिला और उसके पूरे परिवार पर SC/ST एक्ट के दुरुपयोग का आरोप लगाया है। शिकायत में दावा किया गया है कि यह परिवार अब तक 100 से अधिक लोगों को SC/ST एक्ट में फँसा चुका है। वहीं पुलिस के मुताबिक शिकायतकर्ता ने यह आरोप अपने ऊपर चल रहे केस में बचाव में लगाए हैं। मामले की जाँच की जा रही है लेकिन उसके दावे को लेकर पर्याप्त सबूत अब तक नहीं मिले हैं।

जिस व्यक्ति ने आरोप लगाया है, उनका नाम मनोज है। वो OBC समुदाय से आते हैं। उन्होंने खुद को भी इस महिला से पीड़ित बताते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है। मनोज अलीगढ़ के क्वार्सी थानाक्षेत्र में आने वाले नगला छीतर गाँव के निवासी हैं। आरोप टप्पल थानाक्षेत्र की रेखा सूर्यवंशी, धर्मेंद्र सूर्यवंशी और उनके अन्य परिजनों पर है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में महिला द्वारा आरोपित किए गए लोगों की संख्या 150 के आसपास बताई गई है। ऐसे केसों की संख्या 15 बताई गई है, लेकिन अपनी शिकायत में मनोज ने 9 मुकदमों का जिक्र किया है।

ऑपइंडिया से बात करते हुए शिकायतकर्ता मनोज ने बताया:

“नवंबर 2020 में मैंने जिस परिवार से ब्याज पर पैसे उधार लिए थे, उन्होंने ही पैसे के लेन-देन में ठगी कर मेरे घर को कब्ज़ाने का प्रयास किया। हमें मारने-पीटने तक का प्रयास किया गया। मैंने इसकी शिकायत पुलिस में की पर मेरी कोई सुनवाई नहीं हुई। मकान पर कब्ज़ा करने में सफल न होने पर फरवरी 2022 में विपक्षी द्वारा मेरे और मेरे परिवार पर छेड़खानी और मारपीट के साथ SC/ST एक्ट में केस दर्ज करवा दिया गया।

मनोज ने आगे बताया कि इस केस में शिकायतकर्ता और गवाह सभी एक ही परिवार के हैं। उनके अनुसार इस केस में उनकी माँ और उनके भाई को लगभग 20 दिन जेल काटनी पड़ी। बाकी परिवार मुकदमे से बचने के लिए अभी भी हाईकोर्ट में प्रयास कर रहा है।

शिकायतकर्ता मनोज पर दर्ज FIR की कॉपी

मनोज ने अपनी बात जारी रखते हुए जो बताया, वो हैरतअंगेज है। उनके अनुसार जब उन्होंने आरोप लगाने वाले परिवार के बारे में जाँच-पड़ताल की तो SC/ST एक्ट वाले और भी कई केस इस परिवार से जुड़े मिले। मनोज की मानें तो उन्हें अब तक लगभग 122 लोग ऐसे मिल चुके हैं, जो इस परिवार द्वारा SC/ST एक्ट में आरोपित बनाए गए हैं। पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में मनोज ने ऐसे 9 मामलों का जिक्र किया है।

SC/ST एक्ट मामले में मुकदमे करने वाली महिला को लेकर मनोज ने बताया कि एक-एक मामले में दर्जन भर लोग आरोपित किए गए हैं। जिन परिवारों पर ऐसे मुकदमे दर्ज किए गए हैं, वो सभी अब इस परिवार (केस करने वाले) पर कार्रवाई चाहते हैं।

मनोज ने बताया कि आरोप लगाने वाली महिला बहुजन समाज पार्टी से जिला पंचायत का चुनाव भी लड़ चुकी है। साथ ही उनके परिवार के लोग भाजपा और पुलिस विभाग में भी हैं। इस वजह से पीड़ित लोग (जिन पर आरोप है, SC/ST एक्ट मामले में मुकदमे हैं) बचते फिरते हैं। इनके घरों पर ताले लटक रहे हैं। इनका जो किराने का काम था, वो भी इस वजह से अब ठप्प हो गया है। इन्होंने यह भी बताया कि इनकी जान को भी खतरा है।

ऑपइंडिया से बात करते हुए मनोज ने कहा, “मैंने पुलिस में जो शिकायत दी है, उस पर अभी कोई कार्रवाई नहीं हुई है। जिले के हर बड़े अधिकारी से मिला हूँ मैं। वहाँ मुझे सिर्फ जाँच करवाने का आश्वासन दिया जाता है। जिस महिला ने मेरे पर केस दर्ज करवाया है, वो अपने एक रिश्तेदार पर भी अपने साथ छेड़छाड़ का केस दर्ज करवा चुकी है।”

शिकायत की कॉपी

मनोज द्वारा दी गई शिकायत में लिखा गया है:

“ये 2011 से ही कमजोर पक्ष के साफ-स्वच्छ छवि के लोगों को अपना शिकार बनाते हैं। इसके लिए उन पर मुकदमे दर्ज करा कर उन पर दबाव बनाते हैं। बाद में समझौते के नाम पर लाखों रुपए ऐंठे जाते हैं। यदि कोई व्यक्ति सवर्ण जाति का होता है तो उस पर एससी/एसटी एक्ट लगाकर राज्य सरकार से सहायता धनराशि प्राप्त करते हैं। इसके बाद में आरोपितों से समझौता करके लाखों रुपयों की अवैध ठगी की जाती है।”

मनोज ने खुद ही ऐसे तमाम लोगों से सम्पर्क बनाया, जो उनकी तरह ही कथित तौर पर इस परिवार द्वारा आरोपित बनाए गए हैं। उनका दावा है कि वो सभी इस मामले में फर्जी केस करवाने वालों पर कार्रवाई चाहते हैं।

पुलिस के मुताबिक शिकायतकर्ता अपने बचाव में लगा रहा आरोप

इन आरोपों पर अलीगढ़ के DSP श्वेताभ पांडेय ने 30 अप्रैल 2022 को अपनी रिपोर्ट एसएसपी को प्रेषित की। रिपोर्ट में कहा गया, “सब इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार ने इस मामले की जाँच की है। जाँच के दौरान पाया गया कि शिकायतकर्ता और उसके परिवार पर रेखा देवी ने SC / ST एक्ट, 307 IPC व अन्य धाराओं में 20 फरवरी 2022 को केस दर्ज करवाया था। इसमें शिकायतकर्ता के परिवार के 2 सदस्य 12 मार्च 2022 को जेल भी भेजे गए थे। इसी केस में शिकायतकर्ता खुद भी वांछित है। उसने शिकायत अपने बचाव में दी है। अन्य आरोपों के संदर्भ में कोई ठोस सबूत नहीं मिला है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -