Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजरतन लाल की हत्या से बस थोड़ी देर पहले का विडियो, बुरके-टोपी वालों की...

रतन लाल की हत्या से बस थोड़ी देर पहले का विडियो, बुरके-टोपी वालों की भीड़ ने तोड़ डाला था CCTV कैमरा

विडियो में देखा जा सकता है कि किस तरह से भीड़ ने आकर सबसे पहले वहाँ पर CCTV कैमरा को तोड़ा।

नागरिकता कानून (CAA) के समर्थकों और विरोधियों के बीच हुई हिंसा के दौरान जान गँवाने वाले दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल को जिस जगह पर पत्थरबाजों ने घेर कर मारा था, वहाँ का एक विडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है।

इस विडियो में देखा जा सकता है कि किस तरह से भीड़ ने आकर सबसे पहले वहाँ पर CCTV कैमरा को तोड़ा। बता दें कि फरवरी 24, 2020 को पत्थरबाजी के दौरान हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की जान चली गई थी।

ट्विटर यूजर @pokershash ने एक विडियो शेयर करते हुए लिखा है- “यही वो जगह है, जहाँ हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल का बलिदान हुआ था। यही वो जगह है, जहाँ बुरका और टोपी पहने हुए हजारों की भीड़ ने दिल्ली पुलिस पर हमला किया। देखिए, किस तरह से उन्होंने पुलिस पर हमला करने से पहले CCTV कैमरा को तोड़ दिया। यहाँ तक कि इसके बाद उन्होंने जश्न भी मनाया। #AntiHinduRiot।”

विडियो बना रहे व्यक्ति को कहते हुए सुना जा सकता है कि मास्क लगाकर वो लोग CCTV कैमरा तोड़ रहे हैं।

दिल्ली हिंसा में मारे गए राजस्थान में सीकर जिले के रहने वाले हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल को केंद्र सरकार ने शहीद का दर्जा दिया है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत दौरे से ठीक पहले दिल्ली में भड़के इन दंगों में कई लोगों को अपनी जान गँवानी पड़ी, जिनमें से हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल भी एक हैं।

रतन लाल के अलावा आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की भी निर्ममता से चार सौ बार चाकू गोदकर हत्या की गई। उनकी लाश अगले दिन एक नाले से बरामद हुई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe