Tuesday, August 3, 2021
Homeदेश-समाजभगवा चोगा-रुद्राक्ष की माला में बिशप की तस्वीरों से बवाल, हिन्दुओं को गुमराह करने...

भगवा चोगा-रुद्राक्ष की माला में बिशप की तस्वीरों से बवाल, हिन्दुओं को गुमराह करने का आरोप

"पहले यह चर्च विरक्त मठ था। ईसाई पादरी वहाँ करीब 40 साल पहले गए और भगवा चोगा पहनने की जैसी परंपराओं को अपनाया। यहाँ तक कि जो तंबू बनाया गया था, वह भी शिवलिंग के आकार में था।"

बेलगाम डायसिस (Belgaum diocese) के बिशप डेरेक फर्नांडीस की वो तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं, जिनमें उन्होंने भगवा वस्त्र पहनकर सिंदूर का टीका लगा रखा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर विवाद का कारण बनती जा रही हैं। दरअसल, डेरेक पर आरोप लगाए जा रहे हैं कि इस भगवाकरण के जरिए उनका उद्देश्य हिन्दुओं का धर्म परिवर्तन करवाना है।

इन तस्वीरों में डेरेक के साथ कुछ और भी लोग वैसे ही कपड़ों में नजर आ रहे हैं। कुछ ने रुद्राक्ष की माला भी पहनी है। तस्वीरों से ऐसा संकेत मिला है कि ये परम प्रसाद ग्रहण करने के संस्कार की हैं।

डेरेक को पोप फ्रांसिस ने बेलगावी के छठे बिशप के तौर पर 1 मई को नियुक्त किया था। ये तस्वीरें सामने आने के बाद लोग डेरेक पर हिंदुओं को गुमराह कर के उनका धर्म परिवर्तन कराने का आरोप लगा रहे हैं और इस वजह से डेरेक के इस रूप का विरोध किया जा रहा है। कई ईसाइयों ने ट्विटर पर बिशप की ऐसी गतिविधियों को लेकर चेतावनी दी और कुछ ने इसे ईशनिंदा भी करार दिया।

हालाँकि, बेलगाम डायसिस के पदाधिकारी फिलिप कुट्टी ने बताया कि ये तस्वीरें 29 अगस्त को बिशप के दूशनूर की एक चर्च के दौरे पर ली थीं। उन्होंने कहा- “पहले यह चर्च विरक्त मठ था। ईसाई पादरी वहाँ करीब 40 साल पहले गए और भगवा चोगा पहनने की जैसी परंपराओं को अपनाया। यहाँ तक कि जो तंबू बनाया गया था, वह भी शिवलिंग के आकार में था।”

डायसिस के एक पादरी फादर नेल्सन पिंटो के अनुसार, जब सबसे पहले पादरी देशनूर गए तो उन्होंने स्थानीय संस्कृति को अपना लिया। उस इलाके में मुख्यत: लिंगायत समुदाय के लोग रहते थे। पिंटो ने बताया कि पादरी शाकाहारी भी हो गए।

उन्होंने स्पष्टीकरण दिया कि पादरियों ने लोगों का धर्म परिवर्तन करने की कोशिश नहीं की है। आर्कबिशप फिलिप नेरी फराओ ने भी कहा कि यह ऐसी ही परंपरा की तस्वीरें लग रही हैं, जिसमें स्थानीय संस्कृति को अपनाया जाता है।

एक ओर जहाँ चर्च विवाद पर सफाई दे रहा है, वहीं तस्वीरें पोस्ट करने वाले ऐक्टिविस्ट सैवियो रॉड्रिग्ज को धमकियाँ मिल रही हैं। बिशप की ये तस्वीरें ट्वीट करने के कारण रॉड्रिग्ज को एक ट्विटर यूजर Adv Don Vaz ने रॉड्रिग्ज की तस्वीर लगाकर उनका चेहरा काला कर जूतों की माला पहनाने वाले को 50,000 रुपए देने का वादा तक कर दिया।

एक अन्य यूजर ने रॉड्रिग्ज के एक ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा- “हे सेविओ, आप जो कोई भी हैं, कृपया हमारे धर्म के खिलाफ कुछ मत लिखिए। तुम्हें हमारे धर्म के खिलाफ बात करने का कोई अधिकार नहीं है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुख्तार अंसारी की बीवी और उसके सालों की ₹2 करोड़ 18 लाख की संपत्ति जब्त: योगी सरकार ने गैंगस्टर एक्ट के तहत की कार्रवाई

योगी सरकार द्वारा कुख्यात माफिया और अपराधी मुख्तार अंसारी की लगभग 2 करोड़ 18 लाख रुपए मूल्य की संपत्ति की कुर्की की गई। यह संपत्ति अंसारी की बीवी और उसके सालों के नाम पर थी।

अमित शाह ने बना दी असम-मिजोरम के बीच की बिगड़ी बात, अब विवाद के स्थायी समाधान की दरकार

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के प्रयासों के पश्चात दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जिस तरह की सतर्कता और संयम दिखाया है उसका स्वागत होना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,804FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe