Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजआगरा के पारस अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई थी 22 मौतें:...

आगरा के पारस अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई थी 22 मौतें: जाँच में खुलासा, पर्याप्त थे सिलेंडर

अस्पताल में 25 अप्रैल 2021 को 149 ऑक्सीजन सिलेंडर इस्तेमाल किए जा रहे थे, जिसमें 20 रिजर्व में रखे गए थे। 26 अप्रैल को 121 सिलेंडरों का इस्तेमाल किया गया था और 15 रिजर्व में थे। इतना ऑक्सीजन अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए यह पर्याप्त था।

उत्तर प्रदेश के आगरा स्थित पारस अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 22 मरीजों की मौत के मामले में प्रशासन की जाँच रिपोर्ट आ गई है। इसमें प्रशासन ने अस्पताल को क्लीन चिट दे दी है। जाँच रिपोर्ट में कहा गया है कि मॉक ड्रिल का कोई सबूत नहीं है, जिसके दौरान ऑक्सीजन की आपूर्ति ठप हो गई और अस्पताल में 22 लोगों की मौत हो गई।

दरअसल, आगरा के पारस अस्पताल में ऑक्सीजन की कथित कमी से 22 कोरोना मरीजों की मौत पर काफी हंगामा हुआ था। इस मामले में सियासत भी काफी हुई थी। अस्पताल के मालिक डॉ अरिंजय जैन का एक वीडियो सामने आया था। उसमें कथित तौर पर एक ‘मॉक ड्रिल’ का जिक्र करते हुए कहा गया था कि ‘मॉक ड्रिल’ के दौरान अस्पताल में 5 मिनट के लिए ऑक्सीजन सप्लाई रोक दी गई थी। इसके बाद के घटनाक्रम में मरने वाले 22 मरीजों में हाइपोक्सिया के गंभीर लक्षण दिखाई दिए थे और अस्पताल पर मौतों को छुपाने का आरोप लगा था।

इसके बाद आगरा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने ‘पारस अस्पताल’ को सील कर उसके मालिक के खिलाफ महामारी रोग अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया था।

प्रशासन की जाँच रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट

प्रशासन की जाँच में पता चली हकीकत

पारस अस्पताल की घटना के बाद उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने इसके जाँच के आदेश दिए थे। इन्वेस्टिगेशन टीम ने अपनी रिपोर्ट में पाया कि 15 से 25 अप्रैल के बीच संबंधित अस्पताल में 16 मौतें हुई थीं। इन 16 मौतों में से कोई भी ‘मॉक ड्रिल’ के कारण नहीं हुई। रिपोर्ट के अनुसार, सभी रोगियों की मृत्यु या तो हालत गंभीर होने के कारण हुई थी, या उन्हें गंभीर बीमारी थी।

जाँच टीम के मुताबिक, अस्पताल में 25 अप्रैल 2021 को 149 ऑक्सीजन सिलेंडर इस्तेमाल किए जा रहे थे, जिसमें 20 रिजर्व में रखे गए थे। 26 अप्रैल को 121 सिलेंडरों का इस्तेमाल किया गया था और 15 रिजर्व में थे। इतना ऑक्सीजन अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए यह पर्याप्त पाया गया था। इसके अलावा जाँच में यह भी सामने आया है कि कुछ मरीजों के अटेंडेंट अपने साथ ही ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर आए थे।

जाँच रिपोर्ट में यह भी सामने आया है कि जिस वीडियो को लेकर बवाल हो रहा है, उसमें अस्पताल संचालक ने कहा है, “पैसे ले लो, गाड़ी ले लो, भोपाल-वोपाल जहाँ से भी मिले वहाँ से ले लो, कितने पैसे चाहिए, कैसे बचे 96 जिन्दगी, करियर बचे, सोने का भाव लगा लो, कैसे भी मिले, बस ऑक्सीजन का टैंकर उठाओ” – इससे अस्पताल की हर संभव कोशिश करने की मंशा जाहिर होती है। माना जा रहा है कि यह वीडियो 28 अप्रैल 2021 को रिकॉर्ड किया गया था।

प्रशासन की जाँच रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट

बयानों का गलत मतलब निकाला गया: अस्पताल का मालिक

8 जून 2021 को आगरा के जिला मजिस्ट्रेट प्रभु एन सिंह ने कहा था कि जिस दिन कथित वीडियो रिकॉर्ड किया गया था, उस दिन ऑक्सीजन की कमी के कारण कोई मौत नहीं हुई थी। अस्पताल के मालिक अरिंजय जैन ने भी दावा किया था कि उनके बयानों का गलत अर्थ निकाला गया।

जैन ने कहा था, “मेरे वीडियो में मैंने कहीं भी मरीजों की मौत का जिक्र नहीं किया। हाँ, यह पता लगाने के लिए एक मॉक ड्रिल की गई थी कि कितने मरीज गंभीर हैं और अगर ऑक्सीजन खत्म हो जाए तो उन्हें बचाया नहीं जा सकता। कोई मरीज नहीं मरा। मैं एक डॉक्टर हूँ और कोई डॉक्टर ऐसी बात नहीं करेगा। मैसेज को मैनिपुलेट किया गया।” जैन ने वायरल मॉक ड्रिल वीडियो के आधार पर 22 कोविड मरीजों के मरने के दावे को ख़ारिज किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साँवरें के रंग में रंगी हरियाणा की तेजतर्रार महिला IPS भारती अरोड़ा, श्रीकृष्‍ण भक्ति के लिए माँगी 10 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने इस खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है।

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe