Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजजिस इलाके में मोहम्मद असलम ने सफाईकर्मी को मारा था, वहाँ के लोग अब...

जिस इलाके में मोहम्मद असलम ने सफाईकर्मी को मारा था, वहाँ के लोग अब इंफोर्समेंट टीम पर थूक रहे, FIR दर्ज करने का आदेश

इस मामले को गंभीरता पूर्वक लेते हुए दूसरी पाली की इंफोर्समेंट टीम को निर्देश दिया गया है कि थूकने वालों की वीडियो बनाएँ। इस मामले की सूचना जिला प्रशासन को भी दी जाएगी, ताकि इस प्रकार की हरकत करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा सके।

झारखंड की राजधानी राँची के हिंदपीढ़ी इलाके में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने के बाद भी वहाँ लोग अपनी मनमानी करने से बाज नहीं आ रहे। इसलिए अब जिला प्रशासन ने वहाँ पूरे इलाके को ही सील कर दिया है और लोगों को घरों से निकलने से रोकने के लिए वहाँ पुलिस चप्पे-चप्पे पर तैनात है। मगर, फिर भी स्थानीय लोग बदसलूकी कर रहे हैं। खबर है कि इस क्षेत्र में सफाई कार्य करने वाले सफाईकर्मियों, कूड़ा उठाने वाले वाहनों व इंफोसर्मेंट टीम के ऊपर कुछ लोग अपने-अपने घर की छत पर खड़े होकर थूक रहे हैं। जिसके मद्देनजर गुरुवार को इंफोर्समेंट टीम के सदस्यों ने उप नगर आयुक्त रजनीश कुमार व सहायक लोक स्वास्थ्य से इस मामले को लेकर शिकायत भी की।

राँची नगर निगम में सहायक लोक स्वास्थ्य पदाधिकारी डॉ. किरण कुमारी का इस मामले पर कहना है कि टीम ने उन्हें शिकायत की है कि सैनिटाइजेशन करा रहे इंफोर्समेंट टीम के ऊपर स्थानीय लोग ने थूका है। इस मामले को गंभीरता पूर्वक लेते हुए दूसरी पाली की इंफोर्समेंट टीम को निर्देश दिया गया है कि थूकने वालों की वीडियो बनाएँ। इस मामले की सूचना जिला प्रशासन को भी दी जाएगी, ताकि इस प्रकार की हरकत करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा सके।

हिंदपीढ़ी इलाके के लोगों से तंग आकर इंफोर्समेंट टीम के सदस्यों ने अधिकारियों से कहा है कि यदि इलाके में लोग यूँ ही उनके ऊपर थूकते रहेंगे तो वे उस क्षेत्र में सैनिटाइजेशन का काम कराने नहीं जाएँगे। उधर प्रशासन ने ऐसे लोगों को खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया है।

बता दें इसी इलाके में 4 अप्रैल को हिंदपीढ़ी क्षेत्र में वाटर टैंकर से सैनिटाइजेशन का काम कर रहे चालक मुके मुकेश कुमार के साथ वार्ड-22 के पार्षद पति मोहम्मद असलम ने मारपीट की थी। इस मामले को लेकर सफाईकर्मियों ने 5 अप्रैल को काम बंद कर दिया था। हिंदपीढ़ी में कोरोना के दहशत से सफाईकर्मी काम करने के लिए तैयार नहीं थे।

गौरतलब है कि एक ओर जहाँ हिंदीपाढी इलाके में स्थानीयों द्वारा ऐसे कारनामों को अंजाम दिया जा रहा है। वहीं, दूसरी ओर कोरोना पॉजिटिव 5 और नए मामले सामने आए हैं। जिसके बाद पूरे हिंदपीढ़ी क्षेत्र को अभी और 72 घंटे के लिए सील कर दिया गया है। साथ ही पूरे क्षेत्र में पेट्रोलिंग की व्यवस्था की गई है, ताकि लोग अपने घरों से बाहर न निकलें। दैनिक जागरण के अनुसार, उपायुक्त राय महिमापत रे ने बताया कि आवश्यक वस्तुओं के लिए वॉलिंटियर्स की नियुक्ति की गई है। हिंदपीढ़ी क्षेत्र में इन वॉलिंटियर्स के माध्यम से आवश्यक सामान लोगों के घर तक पहुँचाए जा रहे हैं।

दैनिक जागरण में हिंदपीढ़ी से प्रकाशित खबर

उपायुक्त का कहना है कि राँची में 7 लोग कोरोना पॉजिटिव हैं, इनमें छह एक ही परिवार के हैं। 5 नए कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आए हैं। इन सभी व्यक्तियों को रिम्स के आइसोलेशन सेंटर में रखा गया है। जो नए पाँच मामले कोरोना पॉजिटिव के आए हैं, उनकी कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा चुकी है और जो भी उनके संपर्क में आए हैं उनकी सैंपलिंग का कार्य किया जा रहा है।

उन्होंने लोगों से एक बार फिर से अपील की है कि अगर उनमें कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं या वे किसी कोरोना संक्रमित के संपर्क में आए हैं या किसी अन्य शहर की यात्रा कर लौटे हैं तो खुद जाँच के लिए जिला प्रशासन से संपर्क करें। डीसी ने लोगों से यह भी अपील की है कि वो मास्क का इस्तेमाल करें। मास्क के इस्तेमाल से कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को कम किया जा सकता है। रांची के एसएसपी अनीश गुप्ता ने बताया कि पूरे इलाके की निगरानी 4 ड्रोन कैमरे से की जा रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

‘हिंदी राष्ट्रभाषा है, थोड़ी-बहुत सबको आनी चाहिए’: ये कहने पर Zomato ने कर्मचारी को कंपनी से निकाला, तमिल ग्राहक ने की थी शिकायत

फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato ने अपने एक कस्टमर केयर कर्मचारी को फायर कर दिया, क्योंकि उसने कहा था कि थोड़ी-बहुत हिंदी सबको आनी चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe