चीन में 41 लोगों की जान लेने वाले Corona Virus ने भारत में दी दस्तक, 11 लोगों को निगरानी में रखा गया

चीन में कोरोना वायरस के फैलते ही भारत सरकार अपने सभी एयरपोर्ट्स को अलर्ट जारी कर चुकी है। इसके तहत चीन से आने वाले यात्रियों की गहनता के साथ जाँच की जा रही है।

चीन में तेजी से फैला कोरोना (Coronavirus) वायरस अब दुनिया के लिए एक बड़ी चिंता का विषय बन चुका है। इतना ही नहीं यह वायरस चीन से निकलकर दूसरे कई देशों तक भी पहुँच चुका है। इस वायरस को गंभीरता से लेते हुए भारत ने दूसरे देशों से आने वाले 11 लोगों को जाँच के लिए निगरानी में रखा है। चीन में इसकी चपेट में आने से होने वाली मौतों की संख्या 26 से बढ़कर 41 हो गई है।

द न्यू यॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन में पिछले दिनों इस वायरस से हुई 26 मौतों का आँकड़ा बढ़कर 41 हो गया है। इन मौतों में से सिर्फ तीन लोगों की मौत चीन के वुहान (Wuhan) शहर के बाहर हुई हैं और इसी शहर को इस वायरस का केंन्द्र बताया गया है।

चीन में इससे पहले राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की रिपोर्ट ने पुष्टि की थी कि 800 से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे, जबकि 26 लोगों की मौत हो गई थी। 15 मौतों की ताजा रिपोर्ट के साथ अब यह संख्या 41 हो गई है। वर्तमान में चीन के तेरह शहर लॉकडाउन के अधीन हैं क्योंकि देश और विदेशों में घातक वायरस का प्रसार जारी है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसी बीच, भारत सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार (24 जनवरी) को जानकारी देते हुए कहा था कि भारत में कुल 11 लोगों को इसलिए निगरानी पर रखा गया है कि कहीं वो इस वायरस की चपेट में तो नहीं आ गए हैं। इनमें से तीन को मुंबई, सात लोगों को केरल और एक को हैदराबाद के अस्पताल में रखा गया है। इन 11 लोगों में से 4 लोगों में इस वायरस के होने की आशंका जताई जा रही है। हालाँकि, अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। ये चारों लोग हाल ही में चीन से भारत लौटे हैं।

इससे पहले, बीते शुक्रवार को दिल्‍ली स्‍थित एम्‍स अस्‍पताल ने भी कोरोना वायरस से निपटने को लेकर तमाम ठोस इंतजाम किए जाने की बात कही। इस सन्दर्भ में, अस्‍पताल के निदेशक डॉक्‍टर रणदीप गुलेरिया ने बताया था कि ‘कोरोना वायरस’ के मरीजों के इलाज के लिए हमारे पास तमाम तरह की सुविधाएँ उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया था कि इस वायरस से निपटने के लिए एक अलग से वार्ड भी तैयार किया गया है। इस वायरस की चपेट में आने से बचने के लिए स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को मास्क, हैंड सैनिटाइजर जैसी तमाम तरह की सुविधाएँ भी उपलब्‍ध कराई जा चुकी हैं।

चीन में कोरोना वायरस के फैलते ही भारत सरकार अपने सभी एयरपोर्ट्स को अलर्ट जारी कर चुकी है। इसके तहत चीन से आने वाले यात्रियों की गहनता के साथ जाँच की जा रही है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए एक बयान में बताया गया था कि 24 जनवरी तक भारत में 20,844 यात्रियों की जाँच की जा चुकी है।

इसके अलावा, थाईलैंड, वियतनाम, सिंगापुर, जापान, दक्षिण कोरिया, ताइवान, नेपाल, फ्राँस और संयुक्त राज्य अमेरिका में भी इस वायरस के होने की पुष्टि की गई है। थाईलैंड में पाँच, सिंगापुर और ताइवान तीन में तीन, जापान, वियतनाम, दक्षिण कोरिया और संयुक्त राज्य अमेरिका में दो-दो मामले सामने आए हैं, वहीं, नेपाल में एक मामला सामने आया है।

चीन के वुहान शहर से निकला कोरोना वायरस दूसरे देशों में भी फैलने के साथ-साथ अब ये वैश्विक स्तर पर महामारी का रूप ले चुका है। इसकी रोकथाम करना दुनिया भर के स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि अब तक दुनिया भर के क़रीब 1200 लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं।

‘Corona Virus’ को लेकर हम गंभीर, इलाज के लिए पर्याप्त इंतजाम: एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

मोदी, उद्धव ठाकरे
इस मुलाकात की वजह नहीं बताई गई है। लेकिन, सीएम बनने के बाद दिल्ली की अपनी पहली यात्रा पर उद्धव ऐसे वक्त में आ रहे हैं जब एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के साथ अनबन की खबरें चर्चा में हैं। इससे महाराष्ट्र में राजनीतिक सरगर्मियॉं अचानक से तेज हो गई हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,868फैंसलाइक करें
42,158फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: