Friday, July 12, 2024
Homeदेश-समाजचीन में 41 लोगों की जान लेने वाले Corona Virus ने भारत में दी...

चीन में 41 लोगों की जान लेने वाले Corona Virus ने भारत में दी दस्तक, 11 लोगों को निगरानी में रखा गया

चीन में कोरोना वायरस के फैलते ही भारत सरकार अपने सभी एयरपोर्ट्स को अलर्ट जारी कर चुकी है। इसके तहत चीन से आने वाले यात्रियों की गहनता के साथ जाँच की जा रही है।

चीन में तेजी से फैला कोरोना (Coronavirus) वायरस अब दुनिया के लिए एक बड़ी चिंता का विषय बन चुका है। इतना ही नहीं यह वायरस चीन से निकलकर दूसरे कई देशों तक भी पहुँच चुका है। इस वायरस को गंभीरता से लेते हुए भारत ने दूसरे देशों से आने वाले 11 लोगों को जाँच के लिए निगरानी में रखा है। चीन में इसकी चपेट में आने से होने वाली मौतों की संख्या 26 से बढ़कर 41 हो गई है।

द न्यू यॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन में पिछले दिनों इस वायरस से हुई 26 मौतों का आँकड़ा बढ़कर 41 हो गया है। इन मौतों में से सिर्फ तीन लोगों की मौत चीन के वुहान (Wuhan) शहर के बाहर हुई हैं और इसी शहर को इस वायरस का केंन्द्र बताया गया है।

चीन में इससे पहले राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की रिपोर्ट ने पुष्टि की थी कि 800 से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे, जबकि 26 लोगों की मौत हो गई थी। 15 मौतों की ताजा रिपोर्ट के साथ अब यह संख्या 41 हो गई है। वर्तमान में चीन के तेरह शहर लॉकडाउन के अधीन हैं क्योंकि देश और विदेशों में घातक वायरस का प्रसार जारी है।

इसी बीच, भारत सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार (24 जनवरी) को जानकारी देते हुए कहा था कि भारत में कुल 11 लोगों को इसलिए निगरानी पर रखा गया है कि कहीं वो इस वायरस की चपेट में तो नहीं आ गए हैं। इनमें से तीन को मुंबई, सात लोगों को केरल और एक को हैदराबाद के अस्पताल में रखा गया है। इन 11 लोगों में से 4 लोगों में इस वायरस के होने की आशंका जताई जा रही है। हालाँकि, अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। ये चारों लोग हाल ही में चीन से भारत लौटे हैं।

इससे पहले, बीते शुक्रवार को दिल्‍ली स्‍थित एम्‍स अस्‍पताल ने भी कोरोना वायरस से निपटने को लेकर तमाम ठोस इंतजाम किए जाने की बात कही। इस सन्दर्भ में, अस्‍पताल के निदेशक डॉक्‍टर रणदीप गुलेरिया ने बताया था कि ‘कोरोना वायरस’ के मरीजों के इलाज के लिए हमारे पास तमाम तरह की सुविधाएँ उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया था कि इस वायरस से निपटने के लिए एक अलग से वार्ड भी तैयार किया गया है। इस वायरस की चपेट में आने से बचने के लिए स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को मास्क, हैंड सैनिटाइजर जैसी तमाम तरह की सुविधाएँ भी उपलब्‍ध कराई जा चुकी हैं।

चीन में कोरोना वायरस के फैलते ही भारत सरकार अपने सभी एयरपोर्ट्स को अलर्ट जारी कर चुकी है। इसके तहत चीन से आने वाले यात्रियों की गहनता के साथ जाँच की जा रही है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए एक बयान में बताया गया था कि 24 जनवरी तक भारत में 20,844 यात्रियों की जाँच की जा चुकी है।

इसके अलावा, थाईलैंड, वियतनाम, सिंगापुर, जापान, दक्षिण कोरिया, ताइवान, नेपाल, फ्राँस और संयुक्त राज्य अमेरिका में भी इस वायरस के होने की पुष्टि की गई है। थाईलैंड में पाँच, सिंगापुर और ताइवान तीन में तीन, जापान, वियतनाम, दक्षिण कोरिया और संयुक्त राज्य अमेरिका में दो-दो मामले सामने आए हैं, वहीं, नेपाल में एक मामला सामने आया है।

चीन के वुहान शहर से निकला कोरोना वायरस दूसरे देशों में भी फैलने के साथ-साथ अब ये वैश्विक स्तर पर महामारी का रूप ले चुका है। इसकी रोकथाम करना दुनिया भर के स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि अब तक दुनिया भर के क़रीब 1200 लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं।

‘Corona Virus’ को लेकर हम गंभीर, इलाज के लिए पर्याप्त इंतजाम: एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

उधर कॉन्ग्रेसी बक रहे गाली पर गाली, इधर राहुल गाँधी कह रहे – स्मृति ईरानी अभद्र पोस्ट मत करो: नेटीजन्स बोले – 98 चूहे...

सवाल हो रहा है कि अगर वाकई राहुल गाँधी को नैतिकता का इतना ज्ञान है तो फिर उन्होंने अपने समर्थकों के खिलाफ कभी कार्रवाई क्यों नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -