Friday, October 22, 2021
Homeदेश-समाजदिल्ली दंगों और IB ऑफिसर की हत्या में आरोपित ताहिर हुसैन को नहीं मिली...

दिल्ली दंगों और IB ऑफिसर की हत्या में आरोपित ताहिर हुसैन को नहीं मिली जमानत, कोर्ट ने जाँच में बाधा डालने की जताई आशंका

मामले में आगे की जाँच अभी जारी है और आशंका है कि यदि आरोपित को जमानत पर रिहा कर दिया गया, तो वह गवाहों को धमका सकता है और आगे की जाँच में बाधा डाल सकता है, इसलिए जमानत की अर्जी खारिज की जाती है। अदालत ने यह भी कहा कि ताहिर हुसैन ने दंगाइयों को मानव हथियार के रूप में इस्तेमाल किया।

दिल्ली की एक अदालत ने राष्ट्रीय राजधानी के उत्तर पूर्वी हिस्से में पिछले साल हिंसा के दौरान खुफिया ब्यूरो (IB) अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या के मामले में आरोपित ताहिर हुसैन की जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा कि उसके खिलाफ गंभीर आरोप हैं। कोर्ट ने कहा कि पूर्व AAP पार्षद और मुख्य आरोपित ताहिर हुसैन ने भीड़ को साम्प्रदायिक रूप से भड़काया, जिस कारण उसने दूसरे समुदाय पर हमले के लिए योजना बनाई।

न्यायाधीश ने कहा कि रिकॉर्ड में यह बताने वाली पर्याप्त सामग्री है कि आरोपित दंगा करने वाली भीड़ का हिस्सा था। न्यायाधीश ने कहा कि आरोपित पर लगे आरोप गंभीर हैं, मामले में आगे की जाँच अभी जारी है और आशंका है कि यदि आरोपित को जमानत पर रिहा कर दिया गया, तो वह गवाहों को धमका सकता है और आगे की जाँच में बाधा डाल सकता है, इसलिए जमानत की अर्जी खारिज की जाती है। अदालत ने यह भी कहा कि ताहिर हुसैन ने दंगाइयों को मानव हथियार के रूप में इस्तेमाल किया। 

इससे पहले, दिल्ली हाईकोर्ट ने हाल ही में दो अन्य आरोपितों- समीर खान और कासिम की जमानत याचिका को भी खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि यदि उन्हें जमानत दी गई, तो उनके भागने की पूरी आशंका है। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में बीते साल संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प होने के बाद 24 फरवरी को दंगे भड़क गए थे, जिसमें कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई थी और लगभग 200 लोग घायल हो गए थे। IB अधिकारी अंकित शर्मा का शव उनके लापता होने के एक दिन बाद 26 फरवरी को दंगा प्रभावित चाँद बाग इलाके में उनके घर के निकट एक नाले से मिला था।

अंकित शर्मा की हत्या के पीछे रची गई थी गहरी साजिश

अंकित के परिजनों ने शक जताया था कि उनका हत्यारा कोई और नहीं बल्कि ताहिर हुसैन ही था। अंकित के पिता और भाई का आरोप था कि हिंसा के दौरान ताहिर हुसैन के समर्थक अंकित को खींचकर ले गए और उनकी हत्या करने के बाद शव नाले में फेंक दिया गया था। अंकित शर्मा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उनके सिर, चेहरे, छाती, पीठ और कमर पर धारदार हथियार से 450 से ज्यादा बार वार करने का पता चला था। दिल्ली पुलिस ने पिछली जून में दायर अपनी चार्जशीट में आरोप लगाया था कि शर्मा की हत्या के पीछे गहरी साजिश थीं, क्योंकि वह विशेष रूप से हुसैन के नेतृत्व वाली भीड़ का लक्ष्य थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंक पर योगी सरकार लगाएगी नकेल: जम्मू-कश्मीर में बंद 26 आतंकियों को भेजा जा रहा यूपी, स्लीपर सेल के जरिए फैला रहे थे आतंकवाद

कश्मीर घाटी की अलग-अलग सेंट्रल जेलों में बंद 26 आतंकियों का पहला ग्रुप उत्तर प्रदेश की आगरा सेंट्रल जेल के लिए रवाना कर दिया गया।

‘बधाई देना भी हराम’: सारा ने अमित शाह को किया बर्थडे विश, आरफा सहित लिबरलों को लगी आग, पटौदी की पोती को बताया ‘डरपोक’

सारा ने गृहमंत्री को बधाई दी लेकिन नाराज हो गईं आरफा खानुम शेरवानी। उन्होंने सारा को डरपोक कहा और पारिवारिक बैकग्राउंड पर कमेंट किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,880FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe