Thursday, September 29, 2022
Homeदेश-समाजजंगल में गाय काटने आया था ₹25000 का इनामी ताजू, सरेंडर करने को कहा...

जंगल में गाय काटने आया था ₹25000 का इनामी ताजू, सरेंडर करने को कहा गया तो करने लगा फायरिंग: पाँव में लगी यूपी पुलिस की गोली, दबोचा गया

ADCP विशाल ने बताया कि जब पुलिस ने ताजू को सरेंडर करने के लिए कहा तब वह गोली चलाने लगा, जिसके बाद पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में अपनी आत्मरक्षा के लिए गोली चलाई।

उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर जिले में नोएडा पुलिस और गोहत्यारों के बीच मुठभेड़ हुई है। इस मुठभेड़ में गौ तस्कर बताए जा रहे ताजू नाम के व्यक्ति के पैर में गोली लगी है। आरोपित ताजू पर पुलिस ने 25 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया था। पुलिस को अभी ताजू के 2 साथियों की भी तलाश है। पुलिस द्वारा सभी आरोपितों पर गैंगस्टर लगाने की भी जानकारी दी गई है। मुठभेड़ रविवार (18 सितम्बर, 2022) की रात में हुई है।

जानकारी के मुताबिक, यह मुठभेड़ दनकौर थाना क्षेत्र में हुई है। ग्रेटर नोएडा पुलिस के ADCP विशाल पांडेय ने पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि एक रात पहले 4 गौ हत्यारों ने एक गाय को काटने का प्रयास किया था, जिन्हें रोकने के लिए पुलिस बल पहुँच गया था। इस दौरान पुलिस और गौ हत्यारों में मुठभेड़ हुई, जिसमें एक बदमाश घायल हुआ था। विशाल पांडे के मुताबिक, एक दिन पहले हुई घटना के चलते उस दिन पुलिस सतर्क थी और जंगलों में गश्त कर रही थी। पुलिस के मुताबिक, इसी गश्त के दौरान उन्हें ताजू नाम का व्यक्ति गौकशी के मकसद में दिखा।

ADCP विशाल ने बताया कि जब पुलिस ने ताजू को सरेंडर करने के लिए कहा तब वह गोली चलाने लगा, जिसके बाद पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में अपनी आत्मरक्षा के लिए गोली चलाई। पुलिस का कहना है कि पुलिस की गोली आरोपित ताजू के पैर में गली और वो घायल हो गया। इस दौरान पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। उसकी तलाशी के बाद उसके पास से कट्टा और कारतूस भी बरामद हुआ है।

आगे की जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ में घायल हुआ गौकश ताजू बेहद शातिर किस्म का अपराधी है। उस पर और उसके साथियों पर पुलिस द्वारा 25 हजार रुपए का इनाम भी रखा था। पुलिस ने यह भी बताया कि गायों को काटने वाले ताजू के गैंग पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई भी जा रही है। फ़िलहाल इस मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘क्या कंडोम भी देना पड़ेगा मुफ्त’: IAS अफसर की विवादित टिप्पणी पर महिला आयोग ने 7 दिन में जवाब माँगा, बिहार छात्राओं के ‘सैनिटरी...

IAS हरजोत कौर ने कहा था, “बेवकूफी की भी हद होती है। मत दो वोट। चली जाओ पाकिस्तान। वोट तुम पैसों के लिए देती हो क्या।”

‘सरकारी अधिकारी से लेकर PHD होल्डर, लाइब्रेरियन से लेकर तकनीशियन तक’: PFI में शामिल थे कई नामी लोग; ट्विटर ने अकॉउंट बंद किया, वेबसाइट...

प्रतिबंधित PFI के शीर्ष पदों को पूर्व सरकारी कर्मचारी, लाइब्रेरियन और पीएचडी होल्डर संभाल रहे थे। अब इसके सोशल मीडिया अकॉउंट बंद हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,049FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe