Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाजमौलाना साद की अम्मी को मिलेगी निजामुद्दीन मरकज की चाबी: हाईकोर्ट का पुलिस को...

मौलाना साद की अम्मी को मिलेगी निजामुद्दीन मरकज की चाबी: हाईकोर्ट का पुलिस को निर्देश, कोरोना से चर्चा में आया था

कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए इस बात को भी स्पष्ट किया है कि मरकज के आवासीय हिस्से में रहने वाले लोग किसी भी गैर -आवासीय हिस्से में प्रवेश नहीं कर सकते हैं।

दिल्ली हाई कोर्ट ने सोमवार (अगस्त 23, 2021) को तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद की अम्मी खालिदा की याचिका पर सुनवाई करते हुए पुलिस को निर्देश दिए कि पुलिस उनके परिवार (मौलाना साद की अम्मी) को मरकज के आवासीय हिस्से की चाबी सौंपे।

जानकारी के मुताबिक, पिछले वर्ष एक प्राथमिकी के मद्देनजर अधिकारियों द्वारा इस मरकज को बंद किया गया था। मगर, अब मौलाना साद की अम्मी खालिदा की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस योगेश खन्ना ने पुलिस को निर्दश दिया कि उन्हें दो दिनों के भीतर चाबियाँ सौंपीं जाएँ। वहीं अपने फैसले में कोर्ट ने ये भी स्पष्ट किया कि मरकज के आवासीय हिस्से में रहने वाले लोग संपत्ति के किसी भी गैर-आवासीय हिस्से में प्रवेश नहीं कर सकते हैं।

बता दें कि खालिदा की इस याचिका में निचली अदालत के एक आदेश को चुनौती दी गई थी। उस आदेश में उन्हें उनके आवास में जाने से इनकार किया गया था। इस आवास की चाबी पिछले साल अप्रैल से पुलिस अधिकारियों के पास है।

कथिततौर पर, सुनवाई के समय अदालत ने इस तथ्य पर भी ध्यान दिया कि उक्त परिसर को सील करने या जब्त करने के संबंध में कोई आदेश नहीं है और यह पिछले साल अप्रैल से बंद है। कोर्ट ने इस मामले में नोटिस भी जारी कर दिल्ली सरकार, दिल्ली पुलिस और एसडीएम, डिफेंस कॉलोनी, नई दिल्ली से जवाब माँगा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस जगह पर इस परिवार के 11 सदस्य रहते थे। याचिकाकर्ता खालिदा ने अपनी याचिका में बताया था कि 31 मार्च, 2020 को, अधिकारियों द्वारा सैनिटाइजेशन के उद्देश्य से पूरी निजामुद्दीन मस्जिद को खाली करवाया गया था और फिर उसको बंद कर दिया गया। इसके बाद अधिकारियों ने आवासीय हिस्से सहित मरकज की चाबियाँ 1 अप्रैल, 2020 को दिल्ली पुलिस को सौंप दी। याचिका में कहा गया है कि चाबियाँ सौंपे हुए कई महीने बीत जाने के बावजूद याचिकाकर्ता या उसके परिवार के सदस्यों को अपने आवास में प्रवेश करने से रोका जा रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -