Sunday, April 14, 2024
Homeदेश-समाजदिल्ली सरकार ने ऑक्सीजन जरूरत को 4 गुना बढ़ा कर दिखाया... 12 राज्यों में...

दिल्ली सरकार ने ऑक्सीजन जरूरत को 4 गुना बढ़ा कर दिखाया… 12 राज्यों में इसके कारण संकट: सुप्रीम कोर्ट पैनल

ऑक्सीजन आवंटन के लिए केंद्र सरकार द्वारा सुझाए गए फॉर्मूले को माना जाता तो केवल 289 मीट्रिक टन की आवश्यकता होती लेकिन दिल्ली की सरकार ने 183 अस्पतालों के लिए 1140 मीट्रिक टन की आवश्यकता बता कर...

दिल्ली को ऑक्सीजन की जितनी आवश्यकता थी, उससे चार गुना से अधिक बढ़ा कर दिखाया गया। यह कहीं और से नहीं बल्कि सुप्रीम कोर्ट की ऑक्सीजन ऑडिट टीम से निकला आँकड़ा है। 25 अप्रैल से 10 मई तक दूसरे कोविड लहर के चरम के दौरान दिल्ली की सरकार ने ऐसा किया। इस आँकड़े के सार्वजनिक होने के बाद केजरीवाल सरकार कटघरे में खड़ी है।

सुप्रीम कोर्ट की ऑक्सीजन ऑडिट टीम ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि दिल्ली को अतिरिक्त ऑक्सीजन की आपूर्ति ने अधिक कोरोना केस वाले 12 राज्यों में ऑक्सीजन की आपूर्ति में संकट पैदा कर दिया। SC द्वारा नियुक्त ऑक्सीजन ऑडिट सब-ग्रुप की रिपोर्ट में कहा गया है, “सकल विसंगति (लगभग चार गुना) थी। दिल्ली सरकार द्वारा दावा की गई वास्तविक ऑक्सीजन खपत (1140 MT) गणना की गई खपत से लगभग चार गुना अधिक थी।”

5 मई को कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के चरम के दौरान, शीर्ष अदालत की न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली पीठ ने केंद्र को दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति बनाए रखने का निर्देश दिया था, जबकि सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने विशेषज्ञों का हवाला देते हुए बताया था कि दिल्ली को लगभग 415 मीट्रिक टन LMO की आवश्यकता है। दिल्ली सरकार द्वारा ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी पर चिंता जताने के बाद यह निर्देश आया था।

हालाँकि, SC ने एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया की अध्यक्षता वाली ऑडिट टीम को मुंबई में लागू ‘ऑक्सीजन के इष्टतम उपयोग’ के मॉडल की जाँच करने के लिए भी कहा था। सुप्रीम कोर्ट को अपनी अंतरिम रिपोर्ट में, सब-ग्रुप ने कहा कि उसने “NCTD की सटीक ऑक्सीजन आवश्यकता की गणना” करने के लिए एक प्रपत्र मसौदा तैयार किया और इसे 260 अस्पतालों में प्रसारित किया। सभी प्रमुख अस्पतालों सहित कम से कम 183 अस्पतालों ने ऑक्सीजन की खपत के आँकड़ों के साथ प्रतिक्रिया दी।

इसमें कहा गया कि दिल्ली सरकार के अनुसार 183 अस्पतालों में वास्तविक LMO खपत 1140 मीट्रिक टन थी, लेकिन अस्पताल द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, वास्तविक खपत केवल 209 मीट्रिक टन थी। अगर ऑक्सीजन आवंटन के लिए केंद्र द्वारा सुझाए गए फॉर्मूले को नियोजित किया जाता, तो 289 मीट्रिक टन की आवश्यकता होती और दिल्ली सरकार के फार्मूले के अनुसार यह 391 मीट्रिक टन होती।

सब-ग्रुप ने उल्लेख किया, “केंद्र सरकार द्वारा उपयोग किया जाने वाला सूत्र विशेषज्ञों के एक समूह द्वारा तैयार किया गया था और इसका उपयोग विभिन्न राज्यों को LMO आवंटन करने के लिए किया जाता है। इस फॉर्मूला का मानना है कि गैर-आईसीयू बेड में से केवल 50% ऑक्सीजन का उपयोग करते हैं। दिल्ली सरकार मानता है कि 100% गैर-आईसीयू बेड ऑक्सीजन का उपयोग करते हैं। गणना दोनों सूत्रों का उपयोग करके की गई थी।”

गौरतलब है कि अप्रैल-मई की अवधि के दौरान, राष्ट्रीय राजधानी में ऑक्सीजन, उपलब्ध बेड और COVID-19 मरीजों के इलाज के लिए आवश्यक दवाओं की बड़ी कमी देखी गई थी। 20 अप्रैल, 2021 को, दिल्ली ने 24 घंटे की अवधि के दौरान लगभग 28,000 नए COVID-19 मामले दर्ज किए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, पीएम का आभामंडल बरकार, सर्वे में कहीं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe