Tuesday, May 28, 2024
Homeदेश-समाजशाहिद का निकाह रेशमा से, फिर भी मुस्लिम समाज से बहिष्कार: अंतरजातीय विवाह के...

शाहिद का निकाह रेशमा से, फिर भी मुस्लिम समाज से बहिष्कार: अंतरजातीय विवाह के लिए ₹50000 का जुर्माना, मारपीट और गालियाँ

अंतरजातीय विवाह के नाम पर स्थानीय मुस्लिमों ने 50000 रुपए का जुर्माना भी लगाया। कर्ज ले कर चुकाया जुर्माना, फिर भी प्रताड़ना जारी। पीड़िता ने बताया - "धमकाते हुए कहते हैं कि तुम्हारे बेटे को भी मारेंगे, उसको पैरों से रौंदेंगे।"

झारखण्ड के धनबाद में गैर बिरादरी की मुस्लिम लड़की से शादी करने वाले शेख परिवार को सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ रहा है। हालात यहाँ तक बिगड़े हैं कि पीड़ित परिवार को प्रताड़ना की शिकायत प्रशासनिक अधिकारियों से करनी पड़ी है। बहिष्कार का आरोप इस्लाहिया बिरादरी पर है।

अपनी शिकायत में पीड़ित परिवार ने बताया है कि 3 साल से उनके परिवार का जीना हराम हो चुका है। उन पर जुर्माना भी लगाया गया। उनके घर से बात करने वाले को 5000 रुपए फाइन भरनी पड़ती है। यहाँ तक कि उनके घर के आगे से भी गुजरने से लोग परहेज कर रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पीड़िता का नाम जमीला खातून है। उन्होंने गुरुवार (25 नवम्बर) 2021 को उपायुक्त को पत्र लिख कर बताया है कि वह अपनी बहू परवीन के साथ झरिया के कुल्ही में रहती हैं। उनके दोनों बेटे बाहर रहते हैं। उनके बेटे शाहिद ने 3 साल पहले जमशेदपुर की रेशमा से निकाह किया था। हालाँकि रेशमा भी मुस्लिम हैं और निकाह भी पूरे इस्लामिक तौर तरीकों से हुआ। लेकिन कुछ लोगों ने रेशमा को शेख बिरादरी से बाहर का मुस्लिम बताते हुए विरोध शुरू कर दिया।

विरोध, प्रताड़ना और बहिष्कार का आरोप इस्लाहिया कमिटी शेख बिरादरी की मुस्लिम पंचायत कमिटी के आलम, इरफान, फहीम, वसीम, सफी आदि पर लगा है। पीड़िता ने बताया कि बेटे की शादी के बाद से मुस्लिम समाज के लोगों ने उनके घर पर आना-जाना बंद कर दिया है। अंतरजातीय विवाह के नाम पर स्थानीय मुस्लिमों ने 50 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया। इस जुर्माने को उन्होंने कर्ज ले कर चुकाया। फिर भी उनके परिवार की प्रताड़ना जारी है।

पीड़ित जमीला ने रोते-रोते मीडिया को अपनी पूरी व्यथा बताई:

“प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मिले उनके मकान को बनाने से भी रोका जा रहा है। मेरे परिवार को लगातार मारा-पीटा जा रहा, गंदी-गंदी गालियाँ दी जा रहीं हैं। हम समाज को छोड़ दिए पर वो हमारा पीछा नहीं छोड़ रहे। मुझे धमकाते हुए कहा जा रहा कि तुम्हारा बेटा जब आएगा, तब उसे मारेंगे भी। उसको पैरों से रौंदेंगे। मुझे हार्ट और शुगर की बीमारी है। फिर भी मुझे और मेरी बहू को घर में घुस कर मारा गया और गंदी-गंदी गालियाँ दी गईं। जब हम थाने में इसकी शिकायत करते हैं तब पुलिस कम्प्रोमाइज करवा देती है। एक दिन शांत रहने के बाद वही सब फिर शुरू हो जाता है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2014 – प्रतापगढ़, 2019 – केदारनाथ, 2024 – कन्याकुमारी… जिस शिला पर विवेकानंद ने की थी साधना वहीं ध्यान धरेंगे PM नरेंद्र मोदी, मतगणना...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सातवें चरण के लिए प्रचार-प्रसार का शोर थमने के साथ थी 30 मई को ही कन्याकुमारी पहुँच जाएँगे, 4 जून को होनी है मतगणना।

पंजाब में Zee मीडिया के सभी चैनल ‘बैन’! मीडिया संस्थान ने बताया प्रेस की आज़ादी पर हमला, नेताओं ने याद किया आपातकाल

जदयू के प्रवक्ता KC त्यागी ने इसकी निंदा करते हुए कहा कि AAP का जन्म मीडिया की फेवरिट संस्था के रूप में हुआ था, रामलीला मैदान में संघर्ष के दौरान मीडिया उन्हें खूब कवर करता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -