Wednesday, September 29, 2021
Homeदेश-समाजबलिया: हिंदू युवती को बुर्का पहनाकर कोर्ट ले गया दिलशाद, पिता की शिकायत के...

बलिया: हिंदू युवती को बुर्का पहनाकर कोर्ट ले गया दिलशाद, पिता की शिकायत के बाद FIR दर्ज

युवती की शादी तीन महीने पूर्व हिंदू युवक से हुई थी। लेकिन कुछ दिन पहले वह अपने मायके आई और फिर गायब हो गई। पिता ने इस बाबत थाने में शिकायत भी दी, मगर बाद में पता चला कि वह दिलशाद के साथ शादी करने कोर्ट पहुँची है।

उत्तर प्रदेश के बलिया में बुधवार (जुलाई 28, 2021) को अंतर्धार्मिक विवाह (Interfaith wedding) के नाम पर एक समुदाय विशेष का युवक हिंदू युवती को बुर्का पहनाकर कोर्ट मैरिज के लिए ले गया। हालाँकि, वहाँ मौजूद करणी सेना के लोगों को उस पर शक हुआ और पूछताछ के बाद यह शादी रुकवा दी गई।

पूछताछ के दौरान युवक काफी बहस करता नजर आया। लेकिन केस लव जिहाद जैसा होने के कारण युवक हिरासत में ले लिया गया। युवक की पहचान दिलशाद सिद्दीकी के तौर पर हुई है। वहीं लड़की के परिजन भी खबर को सुनकर हैरान हैं। उनका कहना है लड़की दो दिन पहले गायब हो गई थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, युवती गरीब परिवार से है। उसके पिता एक रिक्शा चालक हैं। छह भाई-बहनों में वह अपने पिता की पाँचवी संतान है। युवती की शादी तीन महीने पहले हिंदू युवक से हुई थी। लेकिन कुछ दिन पहले वह अपने मायके आई और फिर अचानक गायब हो गई। घरवालों ने इस बाबत पुलिस में शिकायत भी दी लेकिन दो दिन बाद पता चला कि वह दिलशाद के साथ शादी के लिए कोर्ट पहुँची है। उभाँव पुलिस ने पूरे केस को बहला-फुसला कर भगाने का मामला दर्ज किया है।

बलिया के पुलिस अधीक्षक विपिन टाडा ने कहा, “हमने उसके पिता की शिकायत पर मामला दर्ज किया है कि उनकी बेटी का अपहरण कर लिया गया था। हम उसे जल्द ही अदालत में पेश करेंगे, जहाँ वह अपना बयान दर्ज कराएगी। युवती के वयस्क होने के कारण उसके बयान के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।” 

सोशल मीडिया पर इस मामले को लेकर एक वीडियो शेयर हो रही है। इसमें लड़की बताती है कि वह दलित समुदाय से आती है, बालिग है और अपनी मर्जी से दिलशाद सिद्दीकी नामक युवक से शादी करना चाहती है। वीडियो से पता चलता है कि युवक पादरी गाँव का रहने वाला है, जो कथिततौर पर हल्ला होने पर कोर्ट परिसर से भाग गया था। लेकिन पुलिस ने उसे पकड़ लिया। वहीं लड़की को उसके घरवालों को सौंप दिया गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe