Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाजमेरे भाई को जिहाद ने मारा है, एक-एक मस्जिदों व मदरसों की तलाशी ली...

मेरे भाई को जिहाद ने मारा है, एक-एक मस्जिदों व मदरसों की तलाशी ली जाए: दलित दिनेश के भाई

"आखिर इतने हथियार उनके पास आते कहाँ से हैं? मदरसों और मस्जिदों ही नहीं, बल्कि एक-एक मुस्लिम के घरों में भी छापेमारी होनी चाहिए।"

दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों में जान गँवाने वालों में एक दिनेश कुमार खटीक का नाम भी शामिल है। दिनेश कुमार खटीक के भाई सुरेश से हमारी बातचीत हुई और उन्होंने साफ़ कहा कि उनके भाई की जान जिहाद ने ली है- इस्लामी कट्टरपंथियों के जिहाद ने। उन्होंने कहा कि पूरे मुस्तफाबाद ने उनके भाई को मार डाला। मुस्तफाबाद से उनका तात्पर्य मुस्लिम बहुल क्षेत्र से था। उनके भाई के बयानों की चर्चा हम करेंगे और परिजनों के बारे में भी आपको बताएँगे लेकिन सबसे पहले जानते हैं कि दिनेश की मौत कैसे हुई। दरअसल, उस दिन उस क्षेत्र की सभी दुकानें बंद थीं। ये घटना 26 फ़रवरी की है।

दिनेश कुमार खटीक के दो बच्चे हैं। एक डेढ़ साल का बेटा है जबकि एक बेटा 7 साल का है। वो अपने दोनों बच्चों के लिए दूध लेने निकले थे और दुकानें बंद होने के कारण वो दूर निकल गए। इसी दौरान वो फैसल फ़ारूक़ के राजधानी स्कूल के बगल से गुजरे। जब वो वहाँ से गुजर रहे थे, तब दंगाई मजहबी भीड़ गोलीबारी और पत्थरबाजी के साथ-साथ पेट्रोल बम से भी हमले कर रही थी। तभी दंगाइयों की एक गोली आकर दिनेश के सिर में लगी और उनकी मौत हो गई। वकील मोनिका अरोड़ा ने भी पीड़ित परिवार को मुआवजा और न्याय दिलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुहार लगाई है।

जब ऑपइंडिया की टीम मृतक दिनेश के घर पहुँची, तब वहाँ माहौल बड़ा ही गमगीन था। वहाँ कुछ लोग आए हुए थे, जो पीड़ितों के बयानों को नोट कर रहे थे। वो ख़ुद को कोर्ट की कमिटी बता रहे थे। उनसे बात करते हुए सुरेश ने कहा कि उनकी सरकार से यही माँग है कि एक-एक मदरसे और मस्जिद की तलाशी ली जाए, ताकि आगे से मजहबी दंगाई भीड़ खतरनाक हथियारों को जमा नहीं कर सके। सुरेश ने ऑपइंडिया से बातचीत के दौरान भी ये बात दोहराई। वहाँ उपस्थित अन्य लोगों ने ऑपइंडिया को बताया कि पीड़ित हिन्दुओं के सिर, आँख और गले तक में गोलियाँ मारी गई हैं।

उन्होंने बताया कि लोहे से बने हथियार जमा कर के रखे गए थे, जिनसे हिन्दुओं के सिर पर वार किया जा रहा था। लोग अभी भी डरे हुए हैं। प्रेम नगर और प्रेम विहार की जनता ने हमसे अपना दुःखड़ा सुनाते हुए बताया कि उनका भरोसा पुलिस-प्रशासन पर से उठ चुका है, इसीलिए वो रात-रात भर जाग कर अपने जान-माल की रक्षा करने को विवश हैं। ख़ासकर घर की महिलाओं की सुरक्षा के लिए उन्हें ऐसा करना पड़ रहा है। सुरेश ने हमसे बात करते हुए बहुत बड़ा आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि हिन्दुओं के घर में लाठी-डंडे और चाकू तक मिले तो पुलिस उन्हें जेल में ठूँस देती है जबकि समुदाय विशेष के घर में हथियार जमा कर के रखे जाते हैं और उनका बाल भी बाँका नहीं होता।

जिस दिन दिनेश कुमार खटीक को गोली लगी थी, उस दिन मजहबी दंगाइयों ने हालात ऐसे पैदा कर के रखे थे कि उन्हें हॉस्पिटल भी नहीं ले जाया जा सका। बदहवास बूढ़े पिता अपने घर की बालकनी में सुध-बुध खोए से बैठे हुए हैं। उनकी एक ही चिंता है कि अब दिनेश की पत्नी और बच्चों का भरण-पोषण कैसे होगा? बेटे की मौत के गम को जैसे उन्होंने अपने बहू व पोते-पोतियों के लिए पी लिया हो। मृतक के भाई ने हमसे बात करते हुए आगे बताया:

“24 फ़रवरी से ही मुस्तफाबाद के शिव विहार क्षेत्र में दंगे शुरू हो गए थे। दूसरे मजहब के लोग लगातार आकर हिन्दुओं की दुकानों को लूट रहे थे। हिन्दुओं के घरों को नुकसान पहुँचाया गया और दुकानें जला दी गईं। इधर सारी दुकानें बंद थीं, इसीलिए खाने-पीने का सामान और बच्चों के लिए दूध लेने मेरे भाई बाहर गए, तभी उनकी हत्या हुई। राजधानी स्कूल की छत पर से काफ़ी दूर-दूर तक निशाना लगाया जा रहा था। वहाँ समुदाय विशेष के लोगों की 2-4 और भी इमारतें हैं, जिन पर सैकड़ों की संख्या में मुस्लिम जमा थे। 4 लोग मारे गए हैं। ये जिहाद है, और कुछ भी नहीं। इस्लामी कट्टारवादियों द्वारा भड़काऊ भाषण दिए जाते हैं।”

सुरेश खटीक ने बताया कि उनके घर में एक डंडा तक भी नहीं है। सुरेश ने बताया कि उन्होंने पुलिस को बताया है कि जैसे हिन्दुओं के घर से लाठी या चाकू मिलने पर कार्रवाई की जाती है, वैसी ही दूसरे मजहब के लोगों पर भी की जाए। उनका कहना है कि मस्जिदों और मदरसों में छापेमारी हो, ताकि आगे से ऐसी घटना को होने से रोका जा सके। उन्होंने पूछा कि आखिर इतने हथियार उनके पास आते कहाँ से हैं? मदरसों और मस्जिदों ही नहीं, बल्कि एक-एक मुस्लिम के घरों में भी छापेमारी होनी चाहिए।

अपने 2 बच्चों के लिए दूध लेने निकले थे दलित दिनेश: मुस्लिम दंगाइयों ने सिर में मारी गोली, मौत

‘गंगाजल’ लिखा हुआ तेजाब, मुस्लिम इलाके में सप्लाई: दिल्ली हिंदू विरोधी दंगों में फिरोज की फैक्ट्री बेनकाब

‘हिंदू इलाके में शांति मार्च… फिर मस्जिद में मीटिंग और 400 लीटर पेट्रोल से हमला’ – बुरे फँसे AAP विधायक हाजी युनूस

हाथ काटा, पैर काटा, माँस के टुकड़े की तरह आग में फेंक दिया: मृतक दिलबर नेगी का विडियो वायरल

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, नालों से मिले शव, दिल्ली नाला शव, दिल्ली मदरसा गुलेल, मदरसा गुलेल विडियो, शिव विहार, मुस्तफाबाद, अमर विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सोहा ने कब्र पर किया अब्बू को याद: भड़के कट्टरपंथियों ने इस्लाम से किया बाहर, कहा- ‘शादियाँ हिंदुओं से, बुतों की पूजा, फिर कैसे...

कुणाल खेमू से शादी करने वाली सोहा अली खान हाल में अपने अब्बू की कब्र पर अपनी माँ शर्मिला टैगोर और बेटी इनाया के साथ पहुँचीं। लेकिन कट्टरपंथी यह देख भड़क गए।

न जुबान चढ़ी और न आँख…फाँसी कैसे? नरेंद्र गिरि को भू-समाधि: सुसाइड लेटर में दो पेन के प्रयोग से गहराया संदेह, उत्तराधिकारी पर टला...

निरंजनी अखाड़ा के रविंद्र पुरी ने कहा कि जो सुसाइड नोट मिला है, वह उनके (महंत नरेंद्र गिरि) द्वारा नहीं लिखा गया है। इस मामले की जाँच होनी चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,766FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe