Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजगोरखपुर के डॉ कफील के घर मातम: मामा को मारी गोली, मौके पर हुई...

गोरखपुर के डॉ कफील के घर मातम: मामा को मारी गोली, मौके पर हुई मौत

पुलिस के अनुसार मृतक नुसरूतुल्ला का कई लोगों से प्रॉपर्टी और पैसों के लेनदेन को लेकर विवाद चल रहा था। पैसों और प्रॉपर्टी संबंधित विवाद के कारण यह हत्या हुई हो, ऐसी आशंकाएं जताई जा रही हैं।

नागरिकता कानून के विरोध में भड़काऊ भाषण देने के केस में मथुरा जेल में बंद डॉ कफील खान के मामा की गोरखपुर में शुक्रवार रात गोली मारकर हत्या कर दी गई है। डॉ. कफील खान के मामा नुसरुतुल्ला अहमद वारसी उर्फ दादा को घर के सामने ही खड़े एक युवक ने उनके घर में घुसकर गोली मार दी। डॉ कफ़ील गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले में आरोपित हैं।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार नुसरुतुल्ला के घर के गेट के सामने एक युवक काफी देर से खड़ा हुआ था। उनके गेट के पास आते ही वह उनसे बातचीत करने लगा। इसके बाद बातचीत करते हुए ही वह युवक उनके साथ घर के अंदर की तरफ चला गया। जहाँ से थोड़ी देर बाद गोली चलने की आवाज सुनाई दी। गोली की आवाज सुनकर जब तक बड़ी बेटी शोर मचाती, हमलावर गोली मार कर भाग चुका था।

मीडिया के अनुसार हत्याकांड की खबर पाते ही गोरखपुर एसएसपी डॉ सुनील कुमार गुप्ता, एसपी सिटी डॉ कौस्तुभ, सीओ कोतवाली वीपी सिंह तीन थाने की फोर्स और फोरेंसिक एक्सपर्ट के साथ मौके पर पहुँच गए। पुलिस ने शव पोस्टमॉर्टम को भेजकर जाँच शुरू कर दी है। गोली आँख के नीचे, मुँह के बीच में मारी गई है। पुलिस हत्यारे और हत्या के कारणों की तलाश में जुटी है।

पुलिस ने मृतक परिवार की शिकायत पर दो नामजद लोगों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया है। रिपोर्ट्स के अनुसार मृतक नुसरूतुल्ला का कई लोगों से प्रॉपर्टी और पैसों के लेनदेन को लेकर विवाद चल रहा था। ऐसे में पैसों और प्रॉपर्टी संबंधित विवाद के कारण यह हत्या हुई हो, ऐसी आशंकाएं जताई जा रही हैं। पुलिस ने पीड़ित परिवार की रिपोर्ट पर अनिल सोनकर और इमामुद्दीन के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है। पुलिस की जाँच हत्या के अन्य संभावित पहलुओं को भी ध्यान में रख आगे बढ़ रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -