Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाज'अकाल तख़्त' के जत्थेदार ने सिखों को दी आधुनिक हथियार रखने की सलाह, कहा...

‘अकाल तख़्त’ के जत्थेदार ने सिखों को दी आधुनिक हथियार रखने की सलाह, कहा – ये हालात की ज़रूरत: CM मान ने जताई आपत्ति

उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है जब सिख बाणी पढ़ कर बलवान बनें और हर सिख शस्त्रधारी भी बने। उन्होंने हथियार को समय की जरूरत करार दिया।

पंजाब के अमृतसर स्थित ‘श्री अकाल तख़्त’ का जत्थेदार ग्यानी हरप्रीत सिंह ने सिखों से आधुनिक हथियार रखने की अपील की है। हालाँकि, मुख्यमंत्री भगवंत मान ने उनके बयान पर आपत्ति जताई है। ग्यानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि हर सिख आधुनिक हथियार का लाइसेंस रखने की कोशिश करे। उन्होंने मीरी-पीरी के संस्थापक गुरु हरगोबिंद साहिब के गुरुता गद्दी दिवस पर संगत के नाम जारी संदेश में इस तरह की अपील की।

उन्होंने दावा किया कि गुरु हरगोविंद ने चार युद्ध लड़े और चारों में ही उन्होंने जीत दर्ज की। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है जब सिख बाणी पढ़ कर बलवान बनें और हर सिख शस्त्रधारी भी बने। उन्होंने मीरी-पीरी के सन्देश को आज भी प्रासंगिक बताते हुए कहा कि सिखों को आधुनिकतम गतका, तलवारबाजी, तीरंदाजी का अभ्यास करने के साथ गुरुओं का नाम जपने पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने हथियार को समय की जरूरत करार दिया।

बता दें कि हरगोविंद जी का ‘गुरुता गद्दी दिवस’ अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में मनाया जा रहा है। इसी मौके पर ‘श्री अकाल तख़्त’ के जत्थेदार ने कानूनी रूप से लाइसेंसी आधुनिक हथियार रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि आज हालात ऐसे ही बन गए हैं। इस दौरान उन्होंने नशे के खिलाफ भी बात की और नशा मुक्ति के लिए सिखों को गुरबाणी की तरफ झुकाव बढ़ाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि नशा घर को तबाह कर रहा है।

हालाँकि, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान को जत्थेदार ग्यानी हरप्रीत सिंह का ये बयान पसंद नहीं आया और उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए इस पर आपत्ति जता दी। उन्होंने लिखा, “सम्मानित जत्थेदार ‘श्री अकाल तख़्त साहिब’ जी, हथियारों को लेकर अपने बयान को सुना। आप ‘सरबत दा भला’ माँगने वाली गुरबाणी को घर-घर पहुँचाने का सन्देश दीजिए, हथियार रखने का नहीं। पंजाब में शांति-भाईचारा और आधुनिक विकास का संदेश देना है, आधुनिक हथियारों का नहीं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -