Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजदेश रिंकू शर्मा की निर्मम हत्या से सकते में, लिबरल जमात माँगे मुनव्वर फारूकी...

देश रिंकू शर्मा की निर्मम हत्या से सकते में, लिबरल जमात माँगे मुनव्वर फारूकी के लिए ‘इंसाफ’

एडविन एंथनी, प्रखर व्यास, प्रियम व्यास और नलिन यादव के साथ के मुनव्वर को इंदौर में एक शो के दौरान हिंदू देवताओं का मजाक उड़ाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। इनके खिलाफ हिंदू रक्षक संगठन के मुखिया एकलव्य सिंह गौर ने शिकायत दर्ज कराई थी।

दिल्ली के मंगोलपुरी में बजरंग दल के कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की निर्मम हत्या से पूरा देश सकते में हैं। दूसरी ओर, करीब 100 ‘कलाकार’ और ‘लेखकों’ ने मुनव्वर फारूकी के समर्थन में झंडा उठाया है। इनमें धुर वामपंथी भारत विरोधी प्रोपेगेंडा को हवा देने वाली अरुंधति रॉय, स्वरा भास्कर, कल्कि कोचलीन जैसे नाम शामिल हैं। इनकी माँग है कि मुनव्वर के खिलाफ लगाए गए सारे आरोप निरस्त किए जाएँ।

मुनव्वर फारूकी कौन था? एक कथित कॉमेडियन जो हिंदू घृणा से सना है। जो कॉमेडी के नाम पर हिंदू और उनके देवी-देवताओं का मजाक उड़ाता है। ऐसे व्यक्ति का समर्थन करते हुए स्वयंभू और विवादित लेखकों एवं कलाकारों ने एक बयान में कहा है, “एक कलाकार और व्यक्ति के तौर पर हम चिंतित हैं कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने का दावा करने वाले देश में एक स्टैंड अप आर्टिस्ट ऐसे अपराध के लिए महीने भर से ज्यादा जेल में रहा और उस पर गंभीर आपराधिक आरोप लगाए गए, जो उसने किया ही नहीं।”

इस बयान पर राजमोहन गाँधी, मल्लिका साराभाई, पूजा भट्ट, सोनाली बोस, आनंद पटवर्धन के भी हस्ताक्षर हैं। खुद को ‘कॉमेडियन’ बताने वाले कुछ लोगों ने जिनमें कुणाल कामरा, संजय राजौरा, अनुभव पाल, प्रशस्ति सिंह, अरविंद एसए, उरूज डिंगानकर और अनिर्बन दासगुप्ता शामिल हैं, ने भी इस पर हस्ताक्षर किए हैं।

कुछ लेखक अमिताव कुमार और तान्या सेल्वारत्नम, कनैडियाई फिल्ममेकर जॉन ग्रेसन, फिल्ममेकर श्रुति राय गांगुली, आर्किटेक्ट सोफिया करीम और ब्राजील की महिला एक्टिविस्ट सोनिया को​रेया, जो हिंदू की भावनाओं को आहत करने की आरोपित है, भी मुनव्वर के समर्थन में कूदे हैं।

गौरतलब है कि एडविन एंथनी, प्रखर व्यास, प्रियम व्यास और नलिन यादव के साथ के मुनव्वर को इंदौर में एक शो के दौरान हिंदू देवताओं का मजाक उड़ाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। इनके खिलाफ हिंदू रक्षक संगठन के मुखिया एकलव्य सिंह गौर ने शिकायत दर्ज कराई थी। मुनव्वर को न्यायिक हिरासत में 13 जनवरी तक जेल भेजा गया जो बाद में बढ़ाकर 27 जनवरी तक कर दिया गया था। सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम जमानत मिलने के बाद उसे 6 फरवरी 2021 की रात इंदौर सेंट्रल जेल से रिहा किया गया था।

एक शो में माता सीता पर अभद्र टिप्पणी करते हुए मुनव्वर ने कहा था, “मेरा पिया घर आया ओ राम जी। राम जी डोंट गिव अ फ़*** अबाउट पिया। यह सुन राम जी कहते हैं मैं खुद चौदह साल से घर नहीं गया। अगर सीता ने सुन लिया, वो तो शक करेगी। सीता को तो माधुरी पे पहले से ही शक है। वो गाना है तेरा करूँ गिन-गिन इंतजार। उसे लग रहा है वनवास गिन रही है 14 पर आकर रुक गई।”

इस हरकत के बाद उस पर एफ़आईआर भी दर्ज की गई थी। इसके अलावा उसने गोधरा में जलाकर मार डाले गए 59 कारसेवकों का मजाक उड़ाया था। गोधरा कांड के लिए उसने अमित शाह और आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया था। संज्ञान में यह वीडियो आने के बाद राष्ट्रीय सेवा संघ (RSS) ने उस पर कानूनी एक्शन लेने की बात कही थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,820FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe