Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजमेरी मौत के जिम्मेदार गहलोत और पायलट: कर्ज में डूबे किसान सोहनलाल के अंतिम...

मेरी मौत के जिम्मेदार गहलोत और पायलट: कर्ज में डूबे किसान सोहनलाल के अंतिम शब्द

"...मेरी मौत का मुकदमा अशोक गहलोत पर कर देना। मेरे गाँव ठाकरी के वासियों से भी विनती करता हूँ कि गाँव में एकता बनाए रखना। मेरा घर मेरा परिवार आप लोगों के भरोसे छोड़कर जा रहा हूँ। मेरे परिवार का ख्याल रखना... एक बात और अब की बार सरपंची गांव में रखना यह विनती है मेरी, आपका सोहन लाल कड़ेला।"

राजस्थान में जिला श्रीगंगानगर के एक गाँव ठीकरी में रविवार (जून 23, 2019) को एक किसान ने आत्महत्या कर ली। 45 वर्षीय किसान सोहनलाल ने कर्जमाफ़ी न होने के कारण जहर खाकर अपनी जान दे दी। सोहनलाल ने मरने से पहले एक वीडियो और दो पेज का सुसाइड नोट भी छोड़ा, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि गहलोत सरकार चुनाव से पहले किए अपने वादों को पूरा करने में असफल रही और उन्हीं के कारण वह आत्महत्या कर रहे हैं।

सोहनलाल ने अपना वीडियो रविवार (जून 23, 2019) की सुबह रिकॉर्ड किया था और जहर खाने से पहले उसे सोशल मीडिया पर अपलोड किया था। अपने सुसाइड नोट में सोहन लाल ने पायलट और गहलोत का नाम लेकर भावनात्मक संदेश लिखा था। उन्होंने इस नोट में बताया था कि उन्हें ये भयानक कदम सिर्फ़ राजस्थान की वर्तमान सरकार के कारण उठाना पड़ रहा है, जो अपने वादे को पूरा करने और किसानों की कर्जमाफ़ी करने में असफल रही।

एनडीटीवी की खबर अनुसार अपने सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा, “मैं आज अपनी जीवन लीला समाप्त करने जा रहा हूँ। इसमें किसी का कोई दोष नहीं है। इस मौत के जिम्मेदार गहलोत व सचिन पायलट हैं। उन्होंने बकायदा बयान दिया था कि हमारी सरकार आई तो 10 दिन में आप का कर्ज माफ कर देंगे। अब इनके वादे का क्या हुआ। सभी किसान भाइयों से विनती है कि मेरी लाश तब तक मत उठाना जब तक सभी किसानों का कर्ज माफ ना हो। आज सरकार को झुकाने का वक्त आ गया है। अब इनका मतलब निकल गया है।”

उन्होंने आगे लिखा, “सभी भाइयों से विनम्र निवेदन है कि सब किसान भाइयों के लिए मरने जा रहा हूँ। सबका भला होना चाहिए किसान की एकता को आज दिखाना है। मेरी मौत का मुकदमा अशोक गहलोत पर कर देना। मेरे गाँव ठाकरी के वासियों से भी विनती करता हूँ कि गाँव में एकता बनाए रखना। मेरा घर मेरा परिवार आप लोगों के भरोसे छोड़कर जा रहा हूँ। मेरे परिवार का ख्याल रखना… एक बात और अब की बार सरपंची गांव में रखना यह विनती है मेरी, आपका सोहन लाल कड़ेला ।”

जानकारी के मुताबिक वहाँ के कुछ लोगों ने बताया कि सोहनलाल पर ओरियंटल बैंक और सिंडीकेट बैंक का 3 लाख रुपए कर्ज बकाया था, जिसके लिए सोहन लगातार ब्याज देता था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हॉकी में टीम इंडिया ने 41 साल बाद दोहराया इतिहास, टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुँची: अब पदक से एक कदम दूर

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। 41 साल बाद टीम सेमीफाइनल में पहुँची है।

पीवी सिंधु ने ओलम्पिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता: वेटलिफ्टिंग और बॉक्सिंग के बाद बैडमिंटन ने दिलाया देश को तीसरा मेडल

भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता। चीनी खिलाड़ी को 21-13, 21-15 से हराया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,477FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe