Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजदलित नाबालिग लड़की का अपहरण, फिर गैंगरेप: यूपी पुलिस ने वारिस और उसके साथी...

दलित नाबालिग लड़की का अपहरण, फिर गैंगरेप: यूपी पुलिस ने वारिस और उसके साथी के खिलाफ दर्ज की FIR

शिकायत में आगे बताया गया है कि गाँव से बाहर ले जा कर दोनों आरोपितों ने उनकी बेटी से बारी-बारी से गैंगरेप किया। कुछ समय बाद वो दोनों लड़की को छोड़ कर फरार हो गए।

उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में दलित समुदाय की एक नाबालिग लड़की से गैंगरेप की खबर है। पुलिस ने FIR दर्ज कर के मामले की जाँच शुरू कर दी है। आरोपित का नाम वारिस बताया जा रहा है। मामले में एक अन्य आरोपित भी बताया जा रहा है जिसके नाम का फ़िलहाल खुलासा नहीं हुआ है। पुलिस दोनों की तलाश कर रही है। घटना बुधवार (10 मई 2023) रात की है।

पीड़िता की उम्र 14 साल बताई जा रही है। जानकारी के मुताबिक, मामला अमेठी के मोहनगंज थाना क्षेत्र का है। यहाँ के गाँव सैम्बसी में रहने वाले एक पिता ने अपनी बेटी के साथ गैंगरेप होने की रिपोर्ट पुलिस में दर्ज करवाई है। पीड़ित पिता का आरोप है कि बुधवार की रात गाँव के ही 2 युवकों ने उनके घर के नंबर पर फोन किया। इस दौरान परिवार के अन्य सदस्य सो रहे थे। फोन पीड़िता ने उठाया और घर से बाहर निकल गई। आरोप है कि इस दौरान बाइक सवार दोनों आरोपितों ने पीड़िता का अपहरण कर लिया और उसे गाँव के बाहर ले गए।

शिकायत में आगे बताया गया है कि गाँव से बाहर ले जा कर दोनों आरोपितों ने उनकी बेटी से बारी-बारी से गैंगरेप किया। कुछ समय बाद वो दोनों लड़की को छोड़ कर फरार हो गए। बताया गया है कि जाते हुए दोनों ने पीड़िता को धमकी दी कि अगर उसने कहीं मुँह खोला तो उसे जान से मार दिया जाएगा। लड़की ने घर पहुँच कर अपने परिवार वालों को सारी बात बताई। पुलिस ने फ़ौरन केस दर्ज कर के आरोपितों की तलाश शुरू कर दी। मिली जानकारी के मुताबिक, वारिस और एक अन्य नामजद आरोपित पर IPC की धारा 376 D (गैंगरेप), पॉक्सो और SC/ST एक्ट की धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

ऑपइंडिया से बात करते हुए SHO मोहनगंज धीरेन्द्र यादव ने बताया कि केस दर्ज कर के दोनों फरार आरोपितों की तलाश की जा रही है। उन्होंने कहा कि आरोपित ट्रक ड्राइवर हैं जिन्हें पकड़ने के लिए पुलिस टीमें लगी हुई हैं और जल्द ही गिरफ्तारी की जाएगी। वारिस के अब्बा का नाम राजबहादुर होने के सवाल पर थाना प्रभारी ने बताया कि उनके इलाके में ऐसे नाम वाले कई मुस्लिम रहते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -