Friday, April 12, 2024
Homeदेश-समाज₹5 हजार देकर बंगाल से भारत में एंट्री, कबाड़ी वाला बन घर की रेकी......

₹5 हजार देकर बंगाल से भारत में एंट्री, कबाड़ी वाला बन घर की रेकी… फिर डकैती: ये बांग्लादेशी लूटते ही नहीं, रेप और मर्डर भी करते हैं

डकैती को अंजाम देने के बाद यह बांग्लादेशी गिरोह पैसे और जेवरात अपने किसी साथी के साथ बांग्लादेश भेज देता था ताकि पकड़े जाने पर माल की बरामदगी न हो।

लखनऊ के चिनहट में रविवार (10 अक्टूबर 2021) देर रात मुठभेड़ हुई। पुलिस ने तीन बदमाशों को पकड़ा। इनकी पहचान 26 साल के शेख रुबेल, 27 साल के आलम और 23 साल के रबीउल के तौर पर हुई। ये बांग्लादेशी नागरिक हैं। मुठभेड़ के दौरान इनके कुछ साथी भाग निकलने में भी कामयाब रहे। उनकी तलाश की जा रही है।

लखनऊ के पुलिस आयुक्त ध्रुव कांत ठाकुर ने बताया कि यह गिरोह डकैती को अंजाम देने निकला था, इसी दौरान मल्हौर रेलवे स्टेशन के करीब पुलिस पेट्रोल पार्टी से मुठभेड़ हो गई। ईस्ट जोन के डीसीपी संजीव सुमन ने बताया कि रविवार रात के करीब 1.45 बजे पुलिस ने कुछ संदिग्धों को देखा। रुकने के लिए कहे जाने पर वे भागने लगे और फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में दो बदमाश गोली लगने से जख्मी हो गए। एक को भागते वक्त पुलिस ने दबोच लिया, जबकि अन्य फरार हो गए।

इनसे पूछताछ में बांग्लादेशी युवाओं के ऐसे गिरोह का खुलासा हुआ है जो देश के अलग-अलग हिस्सों में डकैती की घटनाओं का अंजाम देते हैं। रिपोर्ट के अनुसार ये नदी पार कर बांग्लादेश से आते हैं। 5-10 हजार रुपए देकर पश्चिम बंंगाल के 24 परगना के रास्ते भारत में घुसते हैं। इसके बाद ट्रेन के जरिए देश के विभिन्न हिस्सों में पहुँचते हैं।

भारत में घुसने के बाद ये रेलवे पटरी के आसपास के इलाकों में कबाड़ी, चाय वाला या फेरी वाला बनकर घरों की रेकी करते हैं। अमूमन ऐसे घरों को टारगेट करते हैं जो रेलवे लाइन के किनारे या खाली प्लॉट में बने हों। डकैती को अंजाम देने के बाद पैसे और जेवरात अपने किसी साथी के साथ बांग्लादेश भेज देते हैं ताकि पकड़े जाने पर माल की बरामदगी न हो।

गिरोह के सदस्य अपराध के दौरान आपस में बंगाली में ही बातचीत करते हैं। मोबाइल की जगह वाकीटॉकी का इस्तेमाल करते हैं। 15 फीट की दीवार ये आराम से फाँद लेते हैं। अधिकारियों के अनुसार ग्रिल काटने के ब्लेड, स्कू ड्राइवर के अलावा ये अपने साथ देशी पिस्टल भी रखते हैं। इस 11 सदस्यीय गिरोह के सरगना की पहचान हमजा के तौर पर हुई है।

यह भी पता चला है कि डकैती के दौरान ये घर में मौजूद लोगों को बंधक बना लेते हैं। विरोध करने पर डंडों और लोहे की रॉड से उनकी बुरी तरह पिटाई करते हैं। कभी-कभी घर की महिलाओं के साथ रेप भी करते हैं। रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली के आनंद विहार के एक घर में इस गिरोह ने डकैती के दौरान विरोध किए जाने पर एक बुजुर्ग महिला की सिर पर लोहे के रोड से हमला कर हत्या कर दी थी। इनसे पूछताछ में यूपी, दिल्ली सहित देश के कई राज्यों में हुई डकैती की घटनाओं का पता चला है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

‘बंगाल बन गया है आतंक की पनाहगाह’: अब्दुल और शाजिब की गिरफ्तारी के बाद BJP ने ममता सरकार को घेरा, कहा- ‘मिनी पाकिस्तान’ से...

बेंगलुरु के रामेश्वरम कैफे में ब्लास्ट करने वाले 2 आतंकी बंगाल से गिरफ्तार होने के बाद भाजपा ने राज्य को आतंकियों की पनाहगाह बताया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe