Sunday, December 5, 2021
Homeदेश-समाज₹5 हजार देकर बंगाल से भारत में एंट्री, कबाड़ी वाला बन घर की रेकी......

₹5 हजार देकर बंगाल से भारत में एंट्री, कबाड़ी वाला बन घर की रेकी… फिर डकैती: ये बांग्लादेशी लूटते ही नहीं, रेप और मर्डर भी करते हैं

डकैती को अंजाम देने के बाद यह बांग्लादेशी गिरोह पैसे और जेवरात अपने किसी साथी के साथ बांग्लादेश भेज देता था ताकि पकड़े जाने पर माल की बरामदगी न हो।

लखनऊ के चिनहट में रविवार (10 अक्टूबर 2021) देर रात मुठभेड़ हुई। पुलिस ने तीन बदमाशों को पकड़ा। इनकी पहचान 26 साल के शेख रुबेल, 27 साल के आलम और 23 साल के रबीउल के तौर पर हुई। ये बांग्लादेशी नागरिक हैं। मुठभेड़ के दौरान इनके कुछ साथी भाग निकलने में भी कामयाब रहे। उनकी तलाश की जा रही है।

लखनऊ के पुलिस आयुक्त ध्रुव कांत ठाकुर ने बताया कि यह गिरोह डकैती को अंजाम देने निकला था, इसी दौरान मल्हौर रेलवे स्टेशन के करीब पुलिस पेट्रोल पार्टी से मुठभेड़ हो गई। ईस्ट जोन के डीसीपी संजीव सुमन ने बताया कि रविवार रात के करीब 1.45 बजे पुलिस ने कुछ संदिग्धों को देखा। रुकने के लिए कहे जाने पर वे भागने लगे और फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में दो बदमाश गोली लगने से जख्मी हो गए। एक को भागते वक्त पुलिस ने दबोच लिया, जबकि अन्य फरार हो गए।

इनसे पूछताछ में बांग्लादेशी युवाओं के ऐसे गिरोह का खुलासा हुआ है जो देश के अलग-अलग हिस्सों में डकैती की घटनाओं का अंजाम देते हैं। रिपोर्ट के अनुसार ये नदी पार कर बांग्लादेश से आते हैं। 5-10 हजार रुपए देकर पश्चिम बंंगाल के 24 परगना के रास्ते भारत में घुसते हैं। इसके बाद ट्रेन के जरिए देश के विभिन्न हिस्सों में पहुँचते हैं।

भारत में घुसने के बाद ये रेलवे पटरी के आसपास के इलाकों में कबाड़ी, चाय वाला या फेरी वाला बनकर घरों की रेकी करते हैं। अमूमन ऐसे घरों को टारगेट करते हैं जो रेलवे लाइन के किनारे या खाली प्लॉट में बने हों। डकैती को अंजाम देने के बाद पैसे और जेवरात अपने किसी साथी के साथ बांग्लादेश भेज देते हैं ताकि पकड़े जाने पर माल की बरामदगी न हो।

गिरोह के सदस्य अपराध के दौरान आपस में बंगाली में ही बातचीत करते हैं। मोबाइल की जगह वाकीटॉकी का इस्तेमाल करते हैं। 15 फीट की दीवार ये आराम से फाँद लेते हैं। अधिकारियों के अनुसार ग्रिल काटने के ब्लेड, स्कू ड्राइवर के अलावा ये अपने साथ देशी पिस्टल भी रखते हैं। इस 11 सदस्यीय गिरोह के सरगना की पहचान हमजा के तौर पर हुई है।

यह भी पता चला है कि डकैती के दौरान ये घर में मौजूद लोगों को बंधक बना लेते हैं। विरोध करने पर डंडों और लोहे की रॉड से उनकी बुरी तरह पिटाई करते हैं। कभी-कभी घर की महिलाओं के साथ रेप भी करते हैं। रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली के आनंद विहार के एक घर में इस गिरोह ने डकैती के दौरान विरोध किए जाने पर एक बुजुर्ग महिला की सिर पर लोहे के रोड से हमला कर हत्या कर दी थी। इनसे पूछताछ में यूपी, दिल्ली सहित देश के कई राज्यों में हुई डकैती की घटनाओं का पता चला है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 दिसंबर को ईदगाह मस्जिद में ‘जलाभिषेक’ के ऐलान के बाद मथुरा छावनी में तब्दील: शहर में धारा-144, पैरामिलिट्री-PAC तैनात, 4 FIR दर्ज

मथुरा के शाही ईदगाह मस्जिद में जलाभिषेक के एलान के बाद शहर में पैरामिलिट्री फोर्स तैनात, सीसीटीवी और ड्रोन से रखी जा रही नजर।

जिन्हें Pak में ज़िंदा जला डाला, उनकी पत्नी ने लगाई न्याय की गुहार: पोस्टमॉर्टम से खुलासा – कई हड्डियाँ टूटी हुई, जलाने से पहले...

ईशनिंदा का आरोप लगा कर ज़िंदा जला डाले गए प्रियंथा कुमारा की पत्नी ने पाकिस्तान और श्रीलंका, दोनों देशों की सरकारों से न्याय की गुहार लगाई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,733FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe