Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजफोटो खींचने का बहाना, लेकिन मोबाइल की जगह निकला तमंचा… राजस्थान में 'भारत जोड़ो...

फोटो खींचने का बहाना, लेकिन मोबाइल की जगह निकला तमंचा… राजस्थान में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की एंट्री से पहले खूनी खेल, लौट कर देखा ज़िंदा तो नहीं

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के सूत्रों ने कहा है कि राजू ठेठ को करीब 10 साल से मारने का प्लान बनाया जा रहा था। इनमें लॉरेंस गैंग, आनंदपाल गैंग और काला जेठड़ी गैंग शामिल थे।

राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा की एंट्री से पहले सीकर में कुख्यात गैंगस्टर राजू ठेहट की शनिवार (3 दिसंबर 2022) सुबह हत्या कर दी गई। हमलावर कोचिंग की ड्रेस पहनकर आए थे। उन्होंने पहले ठेहट को उनके घर से बाहर बुलाया और फिर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। इस दौरान ठेहट को 3 से ज्यादा गोलियाँ लगीं। घटना का एक वीडियो भी सामने आया है। देख सकते हैं कि कैसे बदमाशों ने पहले गोली मारी और फिर भाग निकले।

इस संबंध में राजस्थान पुलिस के महानिदेशक उमेश मिश्रा ने बताया कि पुलिस ने हमलावरों को पकड़ने के लिए टीम लगाई है। एसएचओ को फील्ड में रहने के निर्देश हैं। घटना में एक और व्यक्ति की गोली लगने से मौत हुई। हमलावरों ने उसे इसलिए मारा क्योंकि वो उनकी वीडियो बना रहा था।

हत्या की जिम्मेदारी

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार घटनास्थल पर सीकर के आला अधिकारी पहुँचे। मामले की जाँच की। फिलहाल आरोपितों को पकड़ने के लिए पूरे राज्य में नाकाबंदी कर दी गई है। पुलिस के मुताबिक शूटर हरियाणा के हो सकते हैं। वहीं दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के सूत्रों ने कहा है कि राजू ठेठ को करीब 10 साल से मारने का प्लान बनाया जा रहा था। इनमें लॉरेंस गैंग, आनंदपाल गैंग और काला जेठड़ी गैंग शामिल थे।

जाँच में भी अभी तक यही पता चला है कि ठेहट की गैंग शहर में सक्रिय थी और उनकी आनंदपाल गैंग से दुश्मनी थी। दोनों एक दूसरे से बदला लेने पर तुले रहते थे। पहले हमले के पीछे भी आनंदपाल गैंग के बलबीर बानूड़ा के बेटे सुभाष का नाम सामने आ रहा था। क्योंकि वो भी दो साल से ठेहट को मारने की प्लानिंग कर रहा था। हालाँकि इस हत्या के बाद लॉरेंस गैंग से जुड़े रोहित गोदारा ने अपनी फेसबुक आईडी से हत्या की जिम्मेदारी ली और कहा कि उन्होंने आनंदपाल और बलबीर बानूड़ा की हत्या का बदला लिया है। 

राजू ठेहट की हत्या का CCTV

राजू ठेहट की हत्या के बाद वारदात का सीसीटीवी सामने आया है। देख सकते हैं कि कैसे पहले ठेहट के घर के सामने ट्रैक्टर रोका गया। उसके बाद कोचिंग की जैकेट में 4-5 बदमाश रुके। उन्होंने घंटी बजाई और ठेहट के साथ फोटो खिंचाने का बहाना बनाया। ठेहट को लगा शायद वो लोग मोबाइल निकाल रहे हैं। लेकिन उन्होंने यहाँ तमंचा निकाला और उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। रिपोर्ट बताती है कि करीबन 50-60 राउंड फायरिंग हुई। बदमाशों ने राजू को मारने के बाद लौटकर दोबारा चेक भी किया कि कहीं राजू जिंदा तो नहीं बचा।

राजनीति में आने की फिराक में था राजू

बता दें कि राजू ठेहट सीकर का रहने वाला था। उसे लग्जरी लाइफ जीने का शौक था। उस पर महंगी गाड़ियाँ और बाइकें थीं। वो बिन नंबर की फॉर्च्यूनर में घूमता था और उसने अपनी सुरक्षा के लिए तीन गनमैन रखे हुए थे। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी उसने अपनी लग्जरी जिंदगी दिखाते हुए गाड़ियों और 3 गनमैन के साथ कई रील्स डाली हुई थीं। वह अपना वर्चस्व बढ़ाना चाहता था इसलिए राजनीति में आने का प्लान कर रहा था। सोशल मीडिया पर उसकी चाकसू विधानसभा यूथ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष कैलाश चौधरी के साथ तस्वीरें थीं। इसके अलावा उसके महेश नगर के पूर्व भाजपा विधायक प्रेम सिंह बाजोर के घर भी टिकने की खबर सामने आई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -