Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजAltNews वाले मोहम्मद जुबैर ने किया 'राम का नाम बदनाम', गाजियाबाद पुलिस करेगी कार्रवाई

AltNews वाले मोहम्मद जुबैर ने किया ‘राम का नाम बदनाम’, गाजियाबाद पुलिस करेगी कार्रवाई

अब्दुल समद सैफी की वीडियो सोशल मीडिया पर जब वायरल हुई तो मोहम्मद जुबैर और अन्य लोगों ने दावा किया कि उनसे यूपी के गाजियाबाद में जबरदस्ती ‘जय श्री राम’ बुलवाया गया और मारपीट कर जबरन उनकी ढाढ़ी काट दी गई।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई की घटना में जबरदस्ती ‘जय श्रीराम’ का एंगल देकर झूठ फैलाने के मामले में ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर पर गाजियाबाद पुलिस कार्रवाई करेगी।

इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था,

“टोना टोटका करने और ताबीज के नाम पर एक गर्भवती महिला की जिंदगी तबाह करने पर पीटा गया, पीटने में आदिल, आरिफ और मुशाहिद भी शामिल थे। लेकिन राम का नाम बदनाम करने और यूपी में दंगा भड़काने के लिए दंगाइयों ने कुछ और ही कहानी गढ़ डाली। गाजियाबाद पुलिस कृप्या संज्ञान ले।”

इस ट्वीट के जवाब में गाजियाबाद पुलिस ने जानकारी दी कि उन्होंने मामले में संज्ञान ले लिया है और आगे नियमानुसार कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि कथित ‘फैक्ट चेक’ वेबसाइट ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर ने बिना तथ्यों को जानें 14 जून को सोशल मीडिया पर मुस्लिम बुजुर्ग की वीडियो अपलोड की थी। अपने ट्वीट में जुबैर ने लिखा था, “एक बुजुर्ग आदमी, सूफी अब्दुल समद सैफी पर गाजियाबाद के लोनी में 5 गुंडों ने हमला किया। उन्हें बंदूक की नोक पर मारा गया, प्रताड़ित किया गया और जबरदस्ती उनकी दाढ़ी काट दी गई।”

अगले ट्वीट में जुबैर ने अब्दुल के बयान की पूरी वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट में लिखा, “ये अब्दुल समद सैफी की घटना को बयान करते हुए पूरी वीडियो है। उनका दावा है कि उनसे जबरदस्ती जय श्रीराम का नारा बुलवाया गया।”

गाजियाबाद पुलिस ने बताई हकीकत

अब्दुल समद सैफी की वीडियो सोशल मीडिया पर जब वायरल हुई तो मोहम्मद जुबैर की तरह कई अन्य लोगों ने दावा किया कि उनसे यूपी के गाजियाबाद में जबरदस्ती ‘जय श्री राम’ बुलवाया गया और मारपीट कर जबरन उनकी ढाढ़ी काट दी गई।

गाजियाबाद पुलिस ने बताया कि ये घटना जून 5, 2021 की है, जिसके बारे में पुलिस के समक्ष 2 दिन बाद रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो की जब पुलिस ने जाँच की, तो पाया कि पीड़ित अब्दुल समद बुलंदशहर से लोनी बॉर्डर स्थित बेहटा आया था। वो एक अन्य व्यक्ति के साथ मुख्य आरोपित परवेश गुज्जर के घर बंथना गया था। वहीं पर कल्लू, पोली, आरिफ, आदिल और मुशाहिद आ गए।

वहाँ पर बुजुर्ग के साथ मारपीट शुरू कर दी गई। अब्दुल समद ताबीज बनाने का काम करता है। आरोपितों का कहना है उसके ताबीज से उनके परिवार पर बुरा असर पड़ा। अब्दुल समद गाँव में कई लोगों को ताबीज दे चुका था। आरोपित उसे पहले से ही जानते थे। पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपित पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। कल्लू और आदिल भी गिरफ्तार कर लिए गए। अन्य अभियुक्तों की जल्द गिरफ़्तारी का आश्वासन भी पुलिस ने दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe