Wednesday, September 29, 2021
Homeदेश-समाजहत्या कर लिव इन पाटर्नर को 'गायब' बता रहा था इंस्पेक्टर, लाश ठिकाने लगाने...

हत्या कर लिव इन पाटर्नर को ‘गायब’ बता रहा था इंस्पेक्टर, लाश ठिकाने लगाने में मददगार कॉन्ग्रेस नेता भी गिरफ्तार

स्वीटी की हत्या करने के बाद देसाई ने लाश को कॉन्ग्रेस नेता के निर्माणाधीन होटल में जला दिया था।

गुजरात की अहमदाबाद क्राइम ब्रांच ने पत्नी की हत्या कर उसके शव को जलाने के आरोप में रविवार (25 जुलाई 2021) को वडोदरा ग्रामीण स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के पुलिस इंस्पेक्टर अजय देसाई को गिरफ्तार किया। आरोपित पुलिस अधिकारी की सहायता करने के आरोप में कॉन्ग्रेस नेता किरीट सिंह जडेजा को भी गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार कॉन्ग्रेस नेता ने पिछले साल 2020 में कर्जन विधानसभा क्षेत्र से कॉन्ग्रेस की टिकट पर उपचुनाव लड़ा था, लेकिन वो हार गए थे।

मामला करीब डेढ़ महीने पुराना है। वडोदरा के कर्जन में आरोपित पुलिस अधिकारी ने 4-5 जून की रात को अपनी लिव इन पाटर्नर स्वीटी पटेल के साथ झगड़े के बाद उसकी गला दबाकर हत्या कर दी। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों के बीच झगड़ा देसाई की शादी को लेकर हुआ था। जिस वक्त आरोपित इंस्पेक्टर ने स्वीटी की गला दबाकर उसकी हत्या की उस दौरान बेड पर उन दोनों के अलावा उनका दो साल का बेटा भी था। हत्या के बाद उसके शव को आरोपित ने कंबल में लपेटा और सुबह होने की प्रतीक्षा करने लगा।

इसके बाद उसने अपनी कमांडो जीप बाहर निकाली और उसमें शव को डालकर अपने साले को फोनकर बताया कि झगड़े के बाद स्वीटी कहीं गायब हो गई है और वो आकर बच्चे को सँभाले। साले के आने के बाद वो अपनी जीप लेकर भरूच जिले के दहेज हाईवे पर स्थित अटाली गाँव गया। वहाँ उसने कॉन्ग्रेस नेता के निर्माणाधीन होटल में स्वीटी के शव को जला दिया।

इस मामले में करजन थाने में देसाई और जडेजा के खिलाफ हत्या औऱ सबूत मिटाने जैसी कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। दोनों के खिलाफ अहमदाबाद क्राइम ब्रांच जाँच कर रही है, जिसमें एटीएस उसकी मदद कर रही है। हालाँकि, पुलिस का कहना है कि जडेजा हत्या में साथ तो नहीं था, लेकिन उसे सब पता था औऱ उसने अपनी जमीन उपलब्ध कराई थी। इस बात की जानकारी क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर डीबी बराड ने दी है। एक सप्ताह पहले ही मामले की जाँच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई थी।

कथित तौर पर जडेजा ने स्वीटी की हत्या किए जाने के संबंध में जानकारी से इनकार किया है। अहमदाबाद के डीसीपी चैतन्य मांडलिक के मुताबिक देसाई के गुरुवार को नार्को टेस्ट कराने से इनकार कर दिया था। इसके बाद अधिकारियों ने उसे अपना जुर्म कबूलने की सलाह दी। मांडलिक ने कहा, “वह एक पुलिस अधिकारी है। वह जानता था कि इसका पता लगाया जाएगा। सारे सबूत उसकी ओर ही इशारा कर रहे थे। लेकिन उसे गिरफ्तार करने से पहले हम सुनिश्चित करना चाहते थे, ताकि कोई गलतफहमी न हो। हमने उसे बैठाया और समझाया कि जो हुआ है उसका सामना तो उसे करना ही पड़ेगा। उसने सहयोग किया और हमें ज्यादा पूछताछ नहीं करनी पड़ी।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe