Saturday, July 2, 2022
Homeदेश-समाजहिन्दुओं को सौंपा जाए ज्ञानवापी परिसर, मुस्लिमों के आने-जाने पर लगे रोक: कोर्ट ने...

हिन्दुओं को सौंपा जाए ज्ञानवापी परिसर, मुस्लिमों के आने-जाने पर लगे रोक: कोर्ट ने स्वीकार की नई याचिका, कानूनी लड़ाई में कूदीं एक और हिन्दू महिला

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को कोर्ट में ले जाने वाली पहले भी पाँच महिलाएँ ही हैं। उनकी याचिका किरण सिंह की याचिका से अलग है।

वाराणसी में ज्ञानवापी विवादित ढाँचे मामले में मंगलवार (24 मई, 2022) को कोर्ट में एक नई याचिका दाखिल की गई है। इस याचिका में ज्ञानवापी परिसर में मुस्लिमों का प्रवेश रोकने और उसे हिन्दुओं को सौंपने की माँग की गई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यहाँ कहा जा रहा है कि सीनियर डिवीजन सिविल जज रवि कुमार दिवाकर की कोर्ट ने इस याचिका को स्वीकार कर लिया है। जिस पर सुनवाई कल बुधवार (25 मई, 2022) को होगी।

रिपोर्ट के अनुसार याचिका में तीन प्रमुख माँगे रखी गई हैं। जिसे विश्व वैदिक सनातन संघ की अंतरराष्ट्रीय महामंत्री किरण सिंह ने भगवान आदि विश्वेश्वर विराजमान के नाम से दाखिल की है। वहीं इस मामले में याचिकाकर्ता किरण सिंह के पति जितेंद्र सिंह बिसेन ने कहा, “कोर्ट ने हमारा प्रार्थना पत्र मुकदमे के तौर पर स्वीकार कर लिया है। हमारे वाद पर विपक्षियों को नोटिस जारी करने का आदेश कोर्ट ने दिया है। हमारी जो विशेष और तात्कालिक माँग थी कि भगवान आदि विश्वेश्वर विराजमान की पूजा-पाठ का आदेश दिया जाए। उस माँग पर सुनवाई के लिए 25 मई की तारीख तय की गई है।”

किरण सिंह की याचिका पर अदालत के आदेश की प्रति (साभार-दैनिक भास्कर)

बता दें कि किरण सिंह, सनातन संघ के प्रमुख जितेंद्र सिंह बिसेन की पत्नी हैं। वहीं भगवान आदि विश्वेश्वर विराजमान बनाम उत्तर प्रदेश राज्य के इस मुकदमे के माध्यम से तीन माँगे कोर्ट के सामने रखी गई हैं।

  1. ज्ञानवापी परिसर में तत्काल प्रभाव से मुस्लिमों का प्रवेश प्रतिबंधित हो।
  2. ज्ञानवापी का पूरा परिसर हिंदुओं को सौंपा जाए।
  3. भगवान आदि विश्वेश्वर स्वयंभू ज्योतिर्लिंग, जो अब सबके सामने प्रकट हो चुके हैं, उनकी पूजा शुरू करने की इजाजत दी जाए।

गौरतलब है कि ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को कोर्ट में ले जाने वाली पहले भी पाँच महिलाएँ ही हैं। उनकी याचिका किरण सिंह की याचिका से अलग है। पहले की पाँच महिलाओं ने मस्जिद परिसर में श्रृंगार-गौरी स्थल पर प्रार्थना की अनुमति माँगी है। 

इनमें कोई ब्यूटी पार्लर चलाती है, कोई जनरल स्टोर चलाती है तो कोई गृहिणी है। कोर्ट में याचिका लगाने वाली महिलाओं में लक्ष्मी देवी, सीता साहू, मंजू व्यास और रेखा पाठक वाराणसी में रहती हैं, जबकि पाँचवी और मुख्य याचिकाकर्ता राखी सिंह दिल्ली में रहती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी गैर-जिम्मेदाराना’: रिटायर्ड जज ने सुनाई खरी-खरी, कहा – यही करना है तो नेता बन जाएँ, जज क्यों...

दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एसएन ढींगरा ने मीडिया में आकर बताया है कि वो सुप्रीम कोर्ट के जजों की टिप्पणी पर क्या सोचते हैं।

‘क्या किसी हिन्दू ने शिव जी के नाम पर हत्या की?’: उदयपुर घटना की निंदा करने पर अभिनेत्री को गला काटने की धमकी, कहा...

टीवी अभिनेत्री निहारिका तिवारी ने उदयपुर में कन्हैया लाल तेली की जघन्य हत्या की निंदा क्या की, उन्हें इस्लामी कट्टरपंथी गला काटने की धमकी दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,399FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe