Monday, July 4, 2022
Homeदेश-समाज'वक्फ की संपत्ति है पूरा का पूरा ज्ञानवापी परिसर': कोर्ट में बोले मस्जिद कमिटी...

‘वक्फ की संपत्ति है पूरा का पूरा ज्ञानवापी परिसर’: कोर्ट में बोले मस्जिद कमिटी के वकील अभय यादव – मुस्लिमों को नमाज का अधिकार

"दीन मोहम्मद केस (1937) में कोर्ट ने फैसला किया कि कौन सा क्षेत्र मस्जिद की संपत्ति है और कौन सा क्षेत्र मंदिर की संपत्ति है। ज्ञानवापी मस्जिद का पूरा परिसर मुस्लिम वक्फ का है और मुसलमानों को इसमें नमाज अदा करने का अधिकार है।"

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर वाराणसी कोर्ट में हो रही सुनवाई समाप्त हो चुकी है। वहीं कोर्ट ने अगली सुनवाई के लिए 4 जुलाई की तारीख दी है। जिला जज डा.अजय कृष्ण विश्वेश की अदालत में आज सोमवार (30 मई, 2022) को करीब 2 घंटे तक सुनवाई चली जिसमें मुस्‍ल‍िम पक्ष ने विस्‍तार से अपनी बात रख दी है। वहीं फोटो और वीडियो के बारे में अदालत दिशा निर्देश तय करेगी और उसके बाद दोनों पक्षों को सर्वे की रिपोर्ट दे दी जाएगी। माना जा रहा है कि आज शाम को ही इस पर फैसला हो सकता है। अदालत के अनुसार इस पर आई आपत्तियों को देखते हुए इस पर आदेश आएगा।

आज की सुनवाई में ज्ञानवापी प्रकरण में जिला जज की अदालत में लंबित प्रकरण में पक्ष रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील हरिशंकर जैन एवं उनके पुत्र वकील विष्णु शंकर जैन के साथ ही वाद मित्र विजय शंकर रस्तोगी एडवोकेट भी अदालत पहुँचे थे। जहाँ दोपहर दो बजे से ज्ञानवापी विवादित ढाँचे के मामले में अदालत ने मुस्लिम पक्ष की दलीलों को विस्तार से सुना। आज केवल 13 से 39 पैरा तक ही बहस हो सकी है।

इससे पहले वाराणसी में दो अदालतों में सुनवाई पूरी हो गई है। जिला जज और सिविल जज की फास्ट ट्रैक कोर्ट में दो अलग-अलग मुकदमों में पक्षकारों ने अपना पक्ष रखा। बता दें कि चार जुलाई को भी विपक्ष अपनी बहस जारी रखेगा।

वहीं आज मामले की शुरुआत में परिसर में स्थित माँ श्रृंगार गौरी की दैनिक पूजा-अर्चना करने एवं अन्य देवी-देवताओं को संरक्षित करने के जिला जज की अदालत में होने वाली सुनवाई के मामले में पक्षकार बनने के लिए स्वयंभू ज्योर्तिलिंग आदिविश्वेश्वर की तरफ से वकील विजय शंकर रस्तोगी ने पक्षकार बनने के लिए अदालत में अर्जी दी थी।

वाराणसी जिला न्यायालय आज भी सुनवाई के दौरान आज, माँ शृंगार गौरी से संबंधित मुकदमा सुनवाई योग्य नहीं है, इस दावे के साथ मुस्लिम पक्ष के अधिवक्ता ने अपनी दलीलें शुरू की। वहीं अंजुमन इंतजामिया मस्जिद समिति द्वारा दायर आदेश में प्लेस ऑफ़ वर्शिप एक्ट के 7 नियम 11 सीपीसी के तहत हिंदू महिलाओं द्वारा दायर याचिका को खारिज करने की माँग की गई।

वहीं मुस्लिम पक्ष की तरफ से पेश वकील एडवोकेट अभय नाथ यादव ने दावा किया कि मस्जिद परिसर वक्फ संपत्ति नहीं है, ‘गलत’ है। उन्होंने इसके लिए दीन मोहम्मद केस का हवाला दिया। अधिवक्ता अभय नाथ यादव ने कोर्ट के सामने दावा किया कि ज्ञानवापी मस्जिद एक वक्फ संपत्ति है।

उन्होंने मामले में एक पुराने मामले का हवाला देते हुए कहा, “दीन मोहम्मद केस (1937) में कोर्ट ने फैसला किया कि कौन सा क्षेत्र मस्जिद की संपत्ति है और कौन सा क्षेत्र मंदिर की संपत्ति है। ज्ञानवापी मस्जिद का पूरा परिसर मुस्लिम वक्फ का है और मुसलमानों को इसमें नमाज अदा करने का अधिकार है।”

गौरतलब है कि आज वाराणसी की ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर केंद्रीय ब्राह्मण महासभा की ओर से भी एक नई याच‍िका दाख‍िल कर दी गई है। इस तरह से ज्ञानवापी मसले पर याच‍िका की संख्‍या काफी तेजी से बढ़ती जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

AG के पास पहुँचा TMC वाला साकेत गोखले, हमारे खिलाफ चलाना चाहता है अदालत की अवमानना का मामला: हम अपने शब्दों पर अब भी...

ऑपइंडिया की एडिटर नुपूर शर्मा के लेख की शिकायत लेकर टीएमसी नेता साकेत गोखले अटॉर्नी जनरल के पास गए हैं ताकि अदालत की अवमानना का केस चलवा सकें।

‘शौच करने गई थी, मोहम्मद जाकिर हुसैन सर पीछे-पीछे आ गए’: मिडिल स्कूल में शिक्षक ने नाबालिग छात्रा से की छेड़खानी, हुआ गिरफ्तार

बिहार के सुपौल में शिक्षक जाकिर हुसैन ने 7वीं कक्षा की लड़की के साथ छेड़छाड़ किया। परिजनों ने थाने में दर्ज कराया मामला। आरोपित गिरफ्तार।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,064FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe