Saturday, July 2, 2022
Homeदेश-समाजशिवलिंग मिलने के बाद मुस्लिम महिलाओं ने की पूजा, कहा- 'हिन्दू भाइयों को सौंप...

शिवलिंग मिलने के बाद मुस्लिम महिलाओं ने की पूजा, कहा- ‘हिन्दू भाइयों को सौंप दो ज्ञानवापी’, बोलीं याचिकाकर्ता सीता साहू- आखिरी दम तक लड़ूँगी

नजमा परवीन ने कहा कि जो कट्‌टरपंथी मुस्लिमों को भड़का रहे हैं, उन्हें भी कठोर संदेश देने की जरूरत है। उन्हें ये बता देने की जरूरत है कि लोग अब जागरूक हो गए हैं और हिंदू-मुस्लिम के नाम पर अब किसी को भड़काया नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा कि जहाँ शिवलिंग मिला है, वहाँ भव्य मंदिर बनना चाहिए।

वाराणसी के ज्ञानवापी विवादित ढाँचे के अंदर शिवलिंग एवं हिंदू मंदिर के अन्य सबूत मिलने के बाद मुस्लिम महिलाओं ने खुशी जाहिर की और कहा कि अब इस स्थान को हिंदू भाइयों को खुशी-खुशी सौंप देना चाहिए। वहीं, माता श्रृंगार गौरी में प्रतिदिन पूजा की माँग को लेकर याचिका दाखिल करने वाली पाँच महिलाओं में से एक सीता साहू ने कहा कि वह अपने अंतिम साँस तक इस लड़ाई लड़ती रहेंगी।

ज्ञानवापी में सर्वे का काम जैसे ही समाप्त हुआ और परिसर में शिवलिंग मिलने की बात सामने आई, वैसे ही कुछ मुस्लिम महिलाओं ने इस पर खुशी जाहिर की। मुस्लिम महिला फाउंडेशन की सदस्या नजमा परवीन ने कहा कि काशी में भगवान शिव का मिलना ही अपने आपमें बहुत बड़ा सबूत है कि काशी बाबा विश्वनाथ की नगरी है। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर हिंदू महिलाओं के साथ मिलकर मुस्लिम महिलाओं ने ढोल-नगाड़े बजाकर शिव तांडव स्तोत्र का पाठ किया।

इसके साथ ही परवीन ने मुस्लिमों से अपील है कि उस स्थान को तत्काल खाली कर देना चाहिए और उसे हिंदू भाइयों को सौंप देना चाहिए। उनका कहना है कि हर जगह अधिकार जमाना और संपत्ति हड़पना गलत है। उन्होंने कहा कि इस्लाम में कहा गया है कि जहाँ नमाज अता की जाए, वह जमीन और आसमान अपना होना चाहिए। कब्जे वाली जगह पर नमाज कबूल नहीं होती।

नजमा परवीन ने कहा कि जो कट्‌टरपंथी मुस्लिमों को भड़का रहे हैं, उन्हें भी कठोर संदेश देने की जरूरत है। उन्हें ये बता देने की जरूरत है कि लोग अब जागरूक हो गए हैं और हिंदू-मुस्लिम के नाम पर अब किसी को भड़काया नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा कि जहाँ शिवलिंग मिला है, वहाँ भव्य मंदिर बनना चाहिए।

उधर सीता साहू ने कहा कि जब उन्हें पता चला कि माता श्रृंगार गौरी में साल में सिर्फ एक दिन ही हिंदुओं को पूजा करने का अधिकार मिलता है तो उनका मन दुखी हो गया। उन्होंने कहा कि जहाँ पूजा होता था, वह माता श्रृंगार गौरी के मंदिर की चौखट थी, वह मंदिर नहीं था। उन्होंने कहा कि उन्हें पढ़ा और सुना था कि ज्ञानवापी परिसर में देवी-देवताओं के विग्रह मौजूद हैं। इसके अलावा, नंदी बाबा को भी मस्जिद की ओर ही मुँह करके विराजमान देखते थे तो अजीब लगती थी।

दैनिक भास्कर को साहू ने बताया, इस स्थिति को जानने के बाद उन लोगों ने आपस में विचार किया और कहा कि ज्ञानवापी परिसर की हकीकत का पता लगाया जाना चाहिए। इसके बाद वे लोग एडवोकेट हरिशंकर जैन से मिले और फिर विश्व वैदिक सनातन संघ के प्रमुख जितेंद्र सिंह बिसेन की अगुआई में इस लड़़ाई को शुरू किया। उन्होंने कहा कि वे इस लड़ाई को मरते दम तक लड़ती रहेंगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी गैर-जिम्मेदाराना’: रिटायर्ड जज ने सुनाई खरी-खरी, कहा – यही करना है तो नेता बन जाएँ, जज क्यों...

दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एसएन ढींगरा ने मीडिया में आकर बताया है कि वो सुप्रीम कोर्ट के जजों की टिप्पणी पर क्या सोचते हैं।

‘क्या किसी हिन्दू ने शिव जी के नाम पर हत्या की?’: उदयपुर घटना की निंदा करने पर अभिनेत्री को गला काटने की धमकी, कहा...

टीवी अभिनेत्री निहारिका तिवारी ने उदयपुर में कन्हैया लाल तेली की जघन्य हत्या की निंदा क्या की, उन्हें इस्लामी कट्टरपंथी गला काटने की धमकी दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,399FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe