Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाज'पहला शौहर छोड़कर मैंने कर लिया दूसरा निकाह… मुसलमान बनकर खुश हूँ': केरल की...

‘पहला शौहर छोड़कर मैंने कर लिया दूसरा निकाह… मुसलमान बनकर खुश हूँ’: केरल की हादिया चर्चा में लौटी, मुस्लिम सहेलियों की संगत में अपनाया था इस्लाम

मुस्लिम सहेलियों की संगत में रहकर अखिला से हादिया बनी केरल की एक युवती फिर चर्चा में है। हादिया ने साल 2017 में बताया था कि उसने शफीन जहाँ से निकाह कर लिया है। लेकिन अब खबर आ रही है कि हादिया ने अपने पहले शौहर को छोड़ एक दूसरे मुस्लिम व्यक्ति से निकाह कर लिया है।

मुस्लिम सहेलियों की संगत में रहकर अखिला से हादिया बनी केरल की एक युवती फिर चर्चा में है। हादिया ने साल 2017 में बताया था कि उसने शफीन जहाँ से निकाह कर लिया है। हालाँकि जब कोर्ट में इस संबंध पर सवाल उठे तो वो सुप्रीम कोर्ट तक गई और अपना निकाह जायज मनवाया। लेकिन अब खबर आ रही है कि हादिया ने अपने पहले शौहर को छोड़ एक दूसरे मुस्लिम व्यक्ति से निकाह कर लिया है। उसने इस बाबत एक वीडियो भी जारी किया है और कहा है कि मैं मुसलमान की तरह रह कर खुश हूँ।

हादिया का मामला मीडिया में साल 2017 में देश में चर्चा में आया था जब उसके पिता के एम अशोकन ने जनवरी 2016 में केरल हाई कोर्ट के सामने उसकी गुमशुदगी को लेकर एक बंदी प्रत्यक्षीकरण के तहत याचिका लगाई थी। अशोकन का कहना था कि उनकी बेटी अखिला, जो कि तमिलनाडु के सालेम में रह कर मेडिकल की पढ़ाई करती थी, बीते कुछ दिनों से गायब हो गई है।

इस मामले में 19 जनवरी 2019 को अखिला हाई कोर्ट के सामने खुद पेश हो गई थी और बताया था कि उसने इस्लाम अपना लिया है। उसने इस्लाम अपनाने के पीछे अपने साथ रहने वाली दो बालिकाओं की जीवन शैली को आदर्श बताया था। यह दोनों मुस्लिम थीं। अखिला का कहना था कि उसने बिना किसी दबाव के इस्लाम अपनाया है। इस कारण से अखिला के पिता की याचिका को रद्द कर दिया गया था।

इसके बाद वह एक इस्लामिक संगठन सत्य सारणी के साथ रहने लगी थी। इसके 6 महीने पश्चात उसके पिता ने एक और याचिका लगाई थी कि उनकी बेटी को विदेश ले जाने के प्रयास हो रहे हैं। हालाँकि उसने कोर्ट में आकर बताया कि वह शफी जहाँ नाम के एक आदमी से निकाह कर चुकी है।

इस निकाह के मामले में अखिला के परिवार के किसी व्यक्ति को नहीं पता था। अखिला ने इस निकाह का प्रमाण पत्र पेश किया था उसे केरल हाईकोर्ट ने मानने से इंकार करते हुए निकाह को अप्रभावी घोषित कर दिया था। उसका पति शफी जहाँ कट्टरपंथी विचारों वाला था।

बाद में इस मामले को सुप्रीम कोर्ट ले जाया गया था जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने यह निर्णय दिया था कि अखिला शफीन जहाँ के साथ रह सकती है। उन्होंने इस निकाह को वैध बता दिया था। NIA ने भी इस मामले की जाँच यह पता लगाने के लिए की थी कि अखिला पर इस्लाम कबूल करने के लिए दबाव बनाया गया था।

अब इस मामले में नया मोड़ आया गया है। 8 दिसम्बर, 2023 को अखिला के पिता अशोकन ने एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका केरल हाईकोर्ट के सामने लगाई। इसके बाद हादिया, जो कि एक होम्योपैथी डॉक्टर है, उसने एक वीडियो 9 दिसम्बर, 2023 को जारी किया है।

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, इस वीडियो में हादिया ने कहा है, “संविधान ने हर व्यक्ति को यह अधिकार दिया है कि वह शादी करे और तलाक ले सके। यह सामान्य बात है। मुझे समझ नहीं आता कि मेरे मामले में समाज इतना परेशान क्यों है? मैं एक वयस्क हूँ जो कि निर्णय लेने में सक्षम हूँ। मैं जब शफी जहाँ के साथ निकाह में नहीं रह सकी तो उससे बाहर निकल आई। अब मैंने अपने पसंद के एक आदमी से विवाह कर लिया है। मैं खुश हूँ और एक मुस्लिम के रूप में रह रही हूँ। मेरे माता-पिता भी मेरे दूसरे निकाह के बारे में जानते हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -