Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजमुस्लिम फंड के पैसे से प्रॉपर्टी डीलिंग और कालाधन सफेद करने का खेल, विदेश...

मुस्लिम फंड के पैसे से प्रॉपर्टी डीलिंग और कालाधन सफेद करने का खेल, विदेश से जुड़े तार: रज्जाक सहित 3 को हरिद्वार पुलिस ने दबोचा

रज़्ज़ाक साल 1998 से मुस्लिम फंड चला रहा था। उसके कबीर म्यूूचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड को साल 2020 में कारपोरेट विभाग से मान्यता भी मिल गई थी। आरोपित के मुस्लिम फंड में 13,382 खाते चल रहे थे। इन एकाउंट में 8716 खाते ऐसे भी थे, जिसमें 500 से कम रुपए जमा थे।

उत्तराखंड की हरिद्वार पुलिस (Haridwar Police, Uttarakhand) ने लोगों के करोड़ों रुपए लेकर फरार हुए मुस्लिम फंड के संचालक अब्दुल रज़्ज़ाक सहित 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गए 2 अन्य आरोपित प्रॉपर्टी डीलर बताए जा रहे हैं। इन आरोपितों पर काले धन को सफेद करने की साजिश का आरोप लगा है।

बताया जा रहा है कि पकड़े गए आरोपितों के तार विदेशों से भी जुड़े हैं, जहाँ से इन्हें मोटी रकम मिलने का भरोसा दिया गया था। इस केस में पुलिस की जाँच अभी जारी है और मामले से जुड़े बाकी आरोपितों की तलाश की जा रही है। पुलिस ने इस पूरे मामले का खुलासा शुक्रवार (27 फरवरी 2023) को किया है।

हरिद्वार पुलिस के मुताबिक, मामले की शिकायत 22 जनवरी 2023 को कोतवाली ज्वालापुर में की गई थी। शिकायतकर्ता का नाम वसीम राव है, जो इसी थाना क्षेत्र के इब्राहिमपुर का रहने वाला है। वसीम राव ने ज्वालापुर के ही सराय क्षेत्र में रहने वाले अब्दुर रज्जाक पर 2.81 लाख रुपए हड़पने आरोप लगाया था। राव ने कहा था कि रज्जाक ने और भी कई लोगों के पैसे हड़प लिए हैं।

पुलिस ने शिकायत मिलने के बाद रज़्ज़ाक के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 406 और 420 में FIR दर्ज कर अब्दुल रज़्ज़ाक को गिरफ्तार कर लिया। रज़्ज़ाक ने पूछताछ में अपने साथियों- नसीम उर्फ मुन्ना और मशरूर का भी नाम लिया। नसीम और मशरूर प्रॉपर्टी डीलर बताए जा रहे हैं। पुलिस ने इस दोनों को भी गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने गिरफ्तार तीनों आरोपितों से पूछताछ की। इन तीनों ने अपने रैकेट का खुलासा किया, जिसके आधार पर अन्य आरोपितों को भी चिन्हित कर लिया गया है। बाकी आरोपित फरार हैं और उनकी गिरफ्तारी के प्रयास चल रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्य आरोपित अब्दुल रज़्ज़ाक कबीर म्यूचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड (मुस्लिम फंड) का संचालक था। वह मुस्लिमों के पैसे म्युचुअल फंड में लगाकर उन्हें फायदा देने का वादा किया करता था।

रज़्ज़ाक साल 1998 से मुस्लिम फंड चला रहा था। उसके कबीर म्यूूचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड को साल 2020 में कारपोरेट विभाग से मान्यता भी मिल गई थी। आरोपित के मुस्लिम फंड में 13,382 खाते चल रहे थे। इन एकाउंट में 8716 खाते ऐसे भी थे, जिसमें 500 से कम रुपए जमा थे। कुल मिलाकर रज़्ज़ाक के मुस्लिम फंड में लगभग 7.5 करोड़ रुपए जमा थे। इसके अलावा कुछ लोगों का सोना गिरवी रख कर रज़्ज़ाक ने लगभग डेढ़ करोड़ रुपए 12% सालाना ब्याज पर बाँट रखा था। पुलिस का यह भी कहना था कि उसके फंड में लोग बिना ब्याज़ लिए पैसे जमा करते थे। गौरतलब है कि इस्लामी जानकार ब्याज पर पैसे लेना या देना हराम मानते हैं।

आरोप है कि रज़्ज़ाक ने साल 2013 में मुस्लिम फंड से हुई कमाई से अपने साथियों नज़्म और मशरूर के साथ मिलकर हरिद्वार में प्रॉपर्टी खरीदी। वह मुस्लिम फंड के अलावा प्रॉपर्टी डिलिंग भी कर रहा था। इस बीच रज़्ज़ाक के साथियों नसीम और मशरूर को उसके मुस्लिम फंड में अच्छे खासे पैसे होने की भनक लग गई।

इन दोनों ने साल 2020 में रज़्ज़ाक को संभल जिले के अंसार से मिलवाया। अंसार ने अपने एक साथी साजिद के मुंबई में होने की जानकारी दी। अंसार ने रज़्ज़ाक को बताया कि साजिद का एक साथी लंदन में रहता है, जो 100 करोड़ रुपए के काले धन को किसी रजिस्टर्ड संस्था को डोनेट कर के उसे सफ़ेद करना चाहता है।

अंसार ने रज़्ज़ाक को झाँसा देते हुए यह भी कहा कि वह लंदन का पैसा मुस्लिम फंड वाले खाते में मंगवा ले, जिसकी एवज में उसे 20 करोड़ रुपए मिलेंगे और 80 करोड़ रुपए वापस करने होंगे। अंसार ने रज़्ज़ाक को मिलने वाले 20 करोड़ रुपए से थोड़ा पैसा दिखाने के लिए सामाजिक कार्यों में लगाने और बचा पैसा आपस में बाँट लेने की जानकारी दी। अंसार ने लंदन के काले धन के अलावा रज़्ज़ाक को 1 हजार करोड़ रुपए की पुरानी नोट बदलवाने का भी काम देने का झाँसा दिया।

रज़्ज़ाक पूरी तरह से अंसार के झाँसे में आ गया। उसने लंदन का काला धन मंगवाने की एवज में 3.5 करोड़ रुपए व पुराने नोट बदलने के नाम पर 2 करोड़ रुपए कमीशन एडवांस के तौर पर अंसार को दे दिए। पैसे जुटाने के लिए रज़्ज़ाक ने 4 करोड़ रुपए की खरीदी जमीन को महज 2 करोड़ रूपयों में बेच दिया। 5 करोड़ रुपए से ज्यादा पैसा पाकर साजिद का फोन बंद हो गया। इधर अंसार लगातार रज़्ज़ाक को झाँसा देता रहा और गाजियाबाद ले जाकर उस से लोनी की एक जमीन उसके नाम करने के नाम पर 2 करोड़ रुपए और माँगे। आख़िरकार तब जाकर रज़्ज़ाक को अपने साथ हुई धोखाधड़ी का एहसास हुआ।

वहीं दूसरी तरफ उसके मुस्लिम फंड के खाताधारक अपने पैसे की माँग करने लगे। रज़्ज़ाक ने उन्हें बहुत दिनों तक टालने और इधर-उधर भटकाने की कोशिश की। आखिरकार वसीम राव नाम के एक खाताधारक ने पुलिस ने रज़्ज़ाक की शिकायत कर दी। उत्तराखंड पुलिस के 15 जवानों ने 6 टीमें बना कर इस मामले का पर्दाफाश किया। बाकी रज़्ज़ाक, नसीम, मशरूर की गिरफ्तारी के साथ बाकी आरोपितों की तलाश की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -