Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजहाथरस केस: मृतका के आरोपित संदीप से थे रिश्ते, अक्टूबर से मार्च के बीच...

हाथरस केस: मृतका के आरोपित संदीप से थे रिश्ते, अक्टूबर से मार्च के बीच एक-दूसरे को किए थे 105 कॉल

सीबीआई को दोनों की कॉल डिटेल चेक करने पर मालूम चला कि 17 अक्टूबर 2019 से 3 मार्च 2020 के बीच में दोनों ने एक-दूसरे को 105 बार कॉल किया था। मृतका भी संदीप को क़ॉल करती थी। दोनों की फोन पर बातें हुआ करती थीं। लेकिन एक समय के बाद लड़की से बातचीत बंद होने पर संदीप नाराज हो गया।

हाथरस केस में पिछले दिनों सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल किया था। इसके हवाले से मीडिया रिपोर्टों में कई चौंकाने वाले दावे किए गए हैं। अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार मृतका और आरोपित संदीप के बीच संबंध थे। ग्रामीणों से बातचीत और दोनों के कॉल डिटेल्स खँगालने के बाद जाँच एजेंसी को इसका पता चला।

रिपोर्ट के अनुसार सीबीआई को दोनों की कॉल डिटेल चेक करने पर मालूम चला कि 17 अक्टूबर 2019 से 3 मार्च 2020 के बीच में दोनों ने एक-दूसरे को 105 बार कॉल किया था। मृतका भी संदीप को क़ॉल करती थी। दोनों की फोन पर बातें हुआ करती थीं। लेकिन एक समय के बाद लड़की से बातचीत बंद होने पर संदीप नाराज हो गया।

बता दें कि हाथरस केस में सीबीआई ने 3 दिन पहले विशेष न्यायालय में चारों आरोपितों संदीप, रवि, रामू और लवकुश के खिलाफ धारा 376, 376 ए,376 डी, 302 व 3(2)(5) एससी-एसटी एक्ट के तहत चार्जशीट दाखिल की थी। चार्जशीट में घटना वाले दिन के बारे में कहा गया है कि उस दिन लड़की ने अपनी माँ से घास काटने में असमर्थता जताई थी। इसके बाद माँ ने उसे घास के बंडल बाँधने को कहा और वह दूसरे खेत में चली गई।

जब माँ वापस लौटी तो उन्हें वहाँ अपनी लड़की नहीं दिखी और फिर उन्होंने उसे तलाशना शुरू किया। कुछ दूर पर उन्हें उसकी चप्पल नजर आई और थोड़ी देर में देखा कि उनकी बेटी खेत में बेसुध पड़ी थी। इसके बाद उन्होंने अपने बेटे को बुलवाया और दोनों उसे लेकर थाने गए। वहाँ भाई ने शिकायत की और फिर उसे लेकर जिला अस्पताल गए। यहाँ से उसे जेएन मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया गया।

मेडिकल कॉलेज में 22 सितंबर को पीड़िता की हालत देखने के बाद डिपार्टमेंट ऑफ फोरेंसिक मेडिसिन एंड टेक्नोलॉजी के हेड डॉ. एमएस हुड्डा ने सीएमओ को तुरंत मृत्यु पूर्व बयान दर्ज कराने को कहा और उसी शाम 5.40 बजे तहसीलदार मनीष कुमार तहसील कोल के सामने उसने अपना आखिरी बयान दिया। चार्जशीट में इसी बयान को आधार बनाकर संदीप, रामू, रवि व लवकुश पर आरोप लगाए गए हैं।  

सीबीआई को जाँच में पता चला कि संदीप और मृतका के रिश्ते के बारे में दोनों के घरवालों को पता लग गया था। इसी वजह से उनमें बात भी नहीं हो रही थी। संदीप को समय के साथ लड़की पर गुस्सा आने लगा था। उसने कई बार अपने परिजनों के नंबर से उसे संपर्क करने का प्रयास किया, मगर तब भी बात नहीं हो पाई। संबंधों के बारे में पता चलने पर दोनों पक्षों में झगड़ा हुआ था, जिसके बारे में मृतका के घरवालों ने कुछ नहीं बताया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe