Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाज₹84,330 करोड़ की संपत्ति के साथ ये हैं भारत की सबसे अमीर महिला, पिता...

₹84,330 करोड़ की संपत्ति के साथ ये हैं भारत की सबसे अमीर महिला, पिता RSS के मंच पर लगा चुके हैं हाजिरी: शिक्षा के क्षेत्र में कर रहीं बड़ा काम

उन्होंने 2009 में स्काई न्यूज यूके और सीएनएन अमेरिका में न्यूज प्रोड्यूसर के तौर पर काम किया और एक साल के अंदर ही वो 27 साल की उम्र में कार्यकारी निदेशक और फिर सीईओ बनीं।

एचसीएल टेक्नॉलिजी की चेयरपर्सन रोशनी नाडर मल्होत्रा (40) सबसे अमीर महिला बिजनेसमैन हैं। इसके साथ ही वो भारत की पहली ऐसी महिला हैं, जिन्होंने किसी आईटी कंपनी की कमान को संभाला है। रोशनी नाडर की कुल संपत्ति 84,330 करोड़ रुपए है। इस बात का खुलासा कोटक प्राइवेट हुरुन की लिस्ट के मुताबिक, रोशनी नाडर बिजनेसमैन शिव नाडर की बेटी हैं। शिव नाडर 2016 में RSS के कार्यक्रम में सरसंघचालक मोहन भागवत के साथ मंच पर दिखे थे।

इससे पहले साल 2019 में वो फोर्ब्स की दुनिया की 100 सबसे ताकतवर महिलाओं की लिस्ट में 54वें स्थान पर काबिज रहीं थीं। बुधवार (27 जुलाई, 2022) को जारी की गई लिस्ट के मुताबिक, 59 साल की फाल्गुनी नायर (ब्यूटी प्रोडक्ट कंपनी नायकी की चेयरपर्सन) इस मामले में दूसरे स्थान पर काबिज हैं। उनकी कुल संपत्ति 57,520 करोड़ रुपए आँकी गई है।

कौन हैं रोशनी नाडर मल्होत्रा

गौरतलब है कि रोशनी नाडर एचसीएल टेक्नॉलॉजीस के फाउंडर शिव नाडर की बेटी हैं। रोशनी ने दिल्ली के वसंत वैली स्कूल में पढ़ाई की और नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी, इवान्स्टन, इलिनोइस से रेडियो/टीवी/फिल्म में कम्युनिकेशन में ग्रेजुएशन किया औऱ फिर केलॉग स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से एमबीए भी किया। इसके बाद उन्होंने 2009 में स्काई न्यूज यूके और सीएनएन अमेरिका में न्यूज प्रोड्यूसर के तौर पर काम किया और एक साल के अंदर ही वो 27 साल की उम्र में कार्यकारी निदेशक और फिर सीईओ बनीं।

रोशनी ने 2010 में एचसीएल हेल्थकेयर के वाइस चेयरमैन शिखर मल्होत्रा ​​से शादी की। उनके दो बेटे अरमान और जहान हैं। उन्होंने 2018 में द हैबिट्स ट्रस्ट की स्थापना की जो भारत के प्राकृतिक आवासों और इसकी स्वदेशी प्रजातियों की रक्षा करने की दिशा में काम करता है। इसके अलावा उन्होंने शिव नाडर फाउंडेशन के ट्रस्टी के रूप में शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तनकारी प्रयासों को आगे बढ़ाया। उल्लेखनीय है कि रोशनी नाडर साल 2020 में एचसीएल टेक्नॉलीजीस की चेयरपर्सन बनी थीं।

यही नहीं वह लगातार 2017, 2018, और 2019 में फोर्ब्स द्वारा संकलित और जारी की गई दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में शामिल हुईं। उन्हें 2017 में बाबसन कॉलेज द्वारा लुईस इंस्टीट्यूट कम्युनिटी चेंजमेकर अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था और उन्हें फेमस अंतरराष्ट्रीय थिंक टैंक होरासिस द्वारा इंडियन बिजनेस लीडर ऑफ द ईयर 2019 के रूप में मान्यता दी गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -