Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजइंतजार खत्म, अगस्त तक बच्चों के लिए आ सकती है कोरोना वैक्सीन: स्वास्थ्य मंत्री...

इंतजार खत्म, अगस्त तक बच्चों के लिए आ सकती है कोरोना वैक्सीन: स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने पीएम मोदी के साथ बैठक में दी जानकारी

भाजपा की संसदीय दल की बैठक में स्वास्थ्य मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बच्चों की वैक्सीन के बारे में अवगत कराया। बताया जा रहा है कि मंडाविया ने बैठक में कहा कि सरकार अगले महीने तक बच्चों का टीकाकरण शुरू कर सकती है।

केंद्र की मोदी सरकार कोरोना महामारी से निपटने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इसी बीच मंगलवार (27 जुलाई 2021) को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने संसदीय दल की बैठक में कहा, “अगस्त तक बच्चों के लिए कोविड-19 की वैक्सीन आ सकती है।” ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण को कमजोर करने और देश भर में स्कूलों को फिर से खोलने की दिशा में बच्चों के लिए वैक्सीन लाना एक बड़ा कदम माना जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भाजपा की संसदीय दल की बैठक में स्वास्थ्य मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बच्चों की वैक्सीन के बारे में अवगत कराया। बताया जा रहा है कि मंडाविया ने बैठक में कहा कि सरकार अगले महीने तक बच्चों का टीकाकरण शुरू कर सकती है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, देश में जाइडस कैडिला (Zydus Cadila) की बच्चों के लिए वैक्सीन ट्रायल अंतिम चरण में है। दरअसल, इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने मॉनसून सत्र के दौरान राज्यसभा में कहा था, ”भारत बॉयोटेक और जाइडस कैडिला ने बच्चों पर टीकों का ट्रायल शुरू कर दिया है। उम्मीद है कि इसमें सफलता मिलेगी और बच्चों के लिए भी वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी।”

बता दें कि हाल ही में एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने बताया था कि जाइडस कैडिला ने बच्‍चों की वैक्‍सीन का ट्रायल पूरा कर लिया है और उन्‍हें आपातकालीन इस्‍तेमाल के लिए मंजूरी का इंतजार है। डॉ. गुलेरिया ने जानकारी दी थी कि भारत बॉयोटेक की ओर से बच्‍चों के लिए तैयार की गई कोवैक्सीन का ट्रायल भी अगस्त या सितंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्‍होंने कहा था कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए ट्रायल के तुरंत बाद ही वैक्‍सीन को हरी झंडी दिखा दी जाएगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -