Thursday, May 23, 2024
Homeदेश-समाजगोपालगंज: रोहित जायसवाल मामले में 4 आरोपितों को पकड़ चुकी है पुलिस

गोपालगंज: रोहित जायसवाल मामले में 4 आरोपितों को पकड़ चुकी है पुलिस

ऑपइंडिया ने जब थाना प्रभारी अश्विनी तिवारी से बात की तो उन्होंने बताया कि इस मामले में 4 लोगों को त्वरित कार्रवाई करते हुए जेल भेजा जा चुका है और एक व्यक्ति की तलाश जारी है। साथ ही उन्होंने पीड़ित परिवार के आरोपों पर बात करने से इनकार कर दिया और ख़ुद को कोरोना सम्बंधित ड्यूटी में व्यस्त बताया।

अपडेट: बिहार के डीजीपी की जॉंच के बाद हम सूचनाओं को अपडेट कर रहे हैं। पीड़ित पिता इस दौरान कई बार अपने बयान से मुकरे हैं। लिहाजा उनकी ओर से किए गए सांप्रदायिक दावों को हम हटा रहे हैं। हमारा मकसद किसी संप्रदाय की भावनाओं का आहत करना नहीं था। केवल पीड़ित पक्ष की बातें सामने रखना था। इस क्रम में किसी की भावनाओं को ठेस पहुॅंची हो तो हमे खेद है।

गोपालगंज स्थित कटेया थाना क्षेत्र के बेलाडीह स्थित गाँव (बेलहीडीह, पंचायत: बेलही खास) में रोहित जायसवाल की लाश मिली थी। इस घटना के बाद से पीड़ित परिवार न्याय के लिए दर-दर भटक रहा है।

बेलाडीह के कुछ ग्रामीणों से हमने बातचीत की। उन्होंने बताया कि थाना प्रभारी अश्विनी तिवारी ने 22 दिनों तक मृतक रोहित की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट दबा कर रखी। ऑपइंडिया ने जब थाना प्रभारी अश्विनी तिवारी से बात की तो उन्होंने बताया कि इस मामले में 4 लोगों को त्वरित कार्रवाई करते हुए जेल भेजा जा चुका है और एक व्यक्ति की तलाश जारी है। साथ ही उन्होंने पीड़ित परिवार के आरोपों पर बात करने से इनकार कर दिया और ख़ुद को कोरोना सम्बंधित ड्यूटी में व्यस्त बताया।

बता दें कि रोहित के पिता राजेश जायसवाल बेलाडीह में पकौड़े बेच कर अपना गुजर-बसर करता था। उनके आरोपों के अनुसार 28 मार्च 2020 को कुछ लड़के आए और उनके नाबालिग बच्चे को क्रिकेट खेलने के बहाने बुलाकर ले गए। बाद में उसकी लाश मिली।

राजेश अपनी पत्नी को लेकर थानाध्यक्ष के पास गए। जहाँ अश्विनी तिवारी ने उन्हें कथित तौर पर गन्दी-गन्दी गालियाँ दीं।

ऑपइंडिया ने गोपालगंज पुलिस के वरीय अधिकारियों से सम्पर्क कर इस बाबत पूछा तो उन्होंने बताया कि मामले में जाँच के बाद कार्रवाई की जा चुकी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंह
अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
भारत की सनातन परंपरा के पुनर्जागरण के अभियान में 'गिलहरी योगदान' दे रहा एक छोटा सा सिपाही, जिसे भारतीय इतिहास, संस्कृति, राजनीति और सिनेमा की समझ है। पढ़ाई कम्प्यूटर साइंस से हुई, लेकिन यात्रा मीडिया की चल रही है। अपने लेखों के जरिए समसामयिक विषयों के विश्लेषण के साथ-साथ वो चीजें आपके समक्ष लाने का प्रयास करता हूँ, जिन पर मुख्यधारा की मीडिया का एक बड़ा वर्ग पर्दा डालने की कोशिश में लगा रहता है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिणी आचार्य के पहुँचने के बाद शुरू हुई हिंसा, पूर्व CM का बॉडीगार्ड लेकर घूम रही थीं: बिहार पुलिस ने दर्ज की 7 FIR,...

राबड़ी आवास पर उपस्थित बॉडीगार्ड और पुलिसकर्मियों से पूरे मामले में पूछताछ की इस दौरान विशेष अधिकारी मौजूद रहे।

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -