Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाजसिगरेट से जलाया अंग-अंग, बुर्का पहनाकर बंधक बनाया: जावेद शेख के चंगुल में 4...

सिगरेट से जलाया अंग-अंग, बुर्का पहनाकर बंधक बनाया: जावेद शेख के चंगुल में 4 साल तक थी हिंदू लड़की, रेस्क्यू Video में डरी-सहमी दिखी

वीडियो में देख सकते हैं कि बच्ची लोगों को देख एकदम एकदम चुप खड़ी रही। लोग कमरे में आते हैं तो वो चुप खड़ी हो जाती है। उसे लगता है कि कोई उसे मारने आया है। उसे समझाया जाता है कि कोई कुछ नहीं कर रहा, वो घबराए न। इसके बाद वीडियो में नजर आने वाली एक महिला उसे सिर से बुर्का उतार फेंकती है।

महाराष्ट्र के पुणे से लापता हुई एक 16 साल की लड़की का हाल में मंछार से रेस्क्यू किया गया। जावेद शेख नाम के 22 साल के लड़के ने साल 2019 में उसका अपहरण उस समय किया था जब वो 10वीं पास करके अपना एसएससी एग्जाम देने गई थी। पुलिस अब जावेद को गिरफ्तार कर चुकी है। उसके ऊपर आईपीसी की धारा 363, 376, 324. 344 और पॉक्सो एक्ट के तहत केस हुआ है। आगे कार्रवाई भी होगी। लेकिन इस बीच वो पीड़िता उस दर्द को नहीं भुला पा रही है जो अपहरण के 4 साल तक उसे दिया गया।

जानकारी के अनुसार, साल 2019 में लड़की के गायब होने के बाद से उसके घरवाले उसे ढूँढने की कोशिश करते रहे। मगर, उसका कहीं कुछ नहीं पता चला। कुछ समय बाद जावेद के बारे में उन्हें खबर हुई। उन्हें उसके घर का पता चला। जब एक आस मिलने पर लड़की के घरवाले पूछते-पूछते जावेद के यहाँ पहुँचे तो उन्हें आस-पड़ोस से एक लड़की का पता चला जो केवल घर में ही रहती थी।

वो हिम्मत करके जावेद के घर घुसे और कमरे में जाकर देखा तो बिटिया कमरे में डरी-सहमी बुर्के में थी। उसने घर में घुसे लोगों का चेहरा देखकर ऐसा रिएक्शन दिया जैसे सालों से उससे कोई प्यार से मिलने नहीं आया। लड़की की रेस्क्यू की यह झकझोरने वाली वीडियो में देख सकते हैं कि बच्ची लोगों को देख एकदम एकदम चुप खड़ी रही। लोग कमरे में आते हैं तो वो चुप खड़ी हो जाती है। उसे लगता है कि कोई उसे मारने आया है। हालाँकि उसे समझाया जाता है कि कोई कुछ नहीं कर रहा, वो घबराए न। इसके बाद एक वीडियो में नजर आने वाली एक महिला उसे सिर से बुर्का उतार फेंकती है और उसे अपने साथ ले आया जाता है।

वीडियो में यदि देखेंगे तो साफ पता चलेगा कि लड़की की हालत ठीक नहीं है और वो कुछ नहीं बोलना चाहती। हालाँकि उसने रेस्क्यू के कुछ समय बाद आपबीती बताई। उसने बताया कि जावेद शेख ने अपहरण करके सिर्फ उससे शादी नहीं की थी बल्कि उसका इतनी बार बलात्कार हुआ था कि वो अंत में अवसाद में चली गई थी। इसके अलावा जावेद ने उसका धर्म परिवर्तन करवा दिया था। उसके पूरे शरीर को सिगरेट से जलाया था। इतना ही नहीं कुछ लोग सोशल मीडिया पर यह भी दावा कर रहे हैं कि बच्ची से 6 माह तक वेश्यावृत्ति करवाई गई।

भाजपा नेता ने उठाई आवास

इस मामले पर भाजपा नेता गोपीचंद पाडलकर ने पिछले दिनों बताया था कि लड़की के घरवालों को ‘द केरल स्टोरी’ देखने के बाद एहसास हुआ था कि उनकी बेटी के साथ क्या हुआ है। कुछ रिपोर्ट में ये भी जिक्र था कि किडनैपिंग के वक्त नाबालिग रही लड़की को जावेद की बहन अपने साथ लेकर गई थी। उसके बाद लड़की वापस नहीं लौटी। घरवालों की खोजबीन की हर कोशिश विफल रही। लेकिन पिछले दिनों जब द केरल स्टोरी देखी तो उन्होंने फिर से अपने समुदाय में मदद की गुहार लगाई और 16 मई को बच्ची का रेस्क्यू संभव हुआ। पीड़िता के मिलने के बाद भाजपा नेता ने आरोपित लड़के के फोन की जाँच की माँग की थी। उनके अनुसार लड़के के फोन में और भी हिंदू लड़कियों के फोटोज थे। वहीं भाई ने बताया “उससे (बहन से) निकाह के बाद, उसे बुर्का पहनने के लिए मजबूर किया गया, नमाज अदा करने के लिए मजबूर किया गया और मटन खिलाया गया। जब उसने नमाज पढ़ने का विरोध किया, तो उसका शारीरिक शोषण किया गया।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -