Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाज'भाग जाओ नहीं तो मार देंगे': असम के गाँव में अकेला हिन्दू परिवार को...

‘भाग जाओ नहीं तो मार देंगे’: असम के गाँव में अकेला हिन्दू परिवार को धमकी, जमीन पर कब्जा के लिए घर को जला डाला, CM सरमा ने लिया संज्ञान

राजू रविदास के पास एक एकड़ से अधिक पैतृक भूमि है। उनका पड़ोसी अब्दुल जलील लंबे समय से उस जमीन पर नजर गड़ाए हुए है। अब्दुल के परिवार में 25 लोग हैं और वे सभी राजू के परिवार को धमकी देते रहते हैं। राजू के परिजनों के कहना है कि अब्दुल के परिवार वाले अक्सर उनके परिवार पर हमला कर किसी ना किसी को पीटते रहते हैं।

असम के मोरीगाँव जिले के एक मुस्लिम बहुल गाँव में एक हिंदू परिवार को भगाने और उसकी संपत्ति हड़पने के लिए लगातार उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। कट्टरपंथियों ने हिंदू परिवार के घर को आग के हवाले कर दिया और उसे वहाँ से तुरंत भाग जाने के लिए कहा है। ऐसा नहीं करने पर उसे जान से मारने की धमकी दी है।

राजू रविदास का परिवार लहरीघाट क्षेत्र के एक गाँव में रहता है। यह गाँव मुस्लिम बहुल है और राजू का परिवार गाँव का अकेला हिंदू परिवार है। राजू 100 साल से भी अधिक समय से इस गाँव में रह रहे हैं। अंग्रेजों के समय उनका परिवार बिहार से यहाँ आकर बसा था। अब उन्हें और उनके परिवार को अपनी जमीन-जायदाद छोड़कर भागने के लिए विवश किया जा रहा है।

जिस गाँव में राजू रविदास का परिवार रहता है, वह मुस्लिमों का गाँव है और वे सब भी दूसरी जगहों से यहाँ आकर बसे हैं। कभी इस इलाके में सैकड़ों हिंदू परिवार रहा करते थे, लेकिन कट्टरपंथी मुस्लिमों के आतंक से डरकर वे सभी वहाँ से भागने को विवश हो गए। आज पूरे इलाके में सिर्फ 16 परिवार बचे हैं, जो अलग-थलग रहने को मजबूर हैं।

राजू रविदास के पास एक एकड़ से अधिक पैतृक भूमि है। उनका पड़ोसी अब्दुल जलील लंबे समय से उस जमीन पर नजर गड़ाए हुए है। अब्दुल के परिवार में 25 लोग हैं और वे सभी राजू के परिवार को धमकी देते रहते हैं। राजू के परिजनों के कहना है कि अब्दुल के परिवार वाले अक्सर उनके परिवार पर हमला कर किसी ना किसी को पीटते रहते हैं।

हाल ही राजू को एक बार फिर धमकी दी गई और उन्हें गाँव को छोड़कर जाने के लिए कहा गया। कुछ साल पहले जब वे परिवार के साथ एक शादी में शामिल होने के लिए गए थे और कट्टरपंथियों ने उनके घर को आग के हवाले कर दिया था। इसमें उनका सारा सामान जलकर खाक हो गया था।

इस परिवार की कहानी जब एक स्थानीय अखबार में छपी तो असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने परिवार को सुरक्षा देने का आदेश दिया है। इसके बाद सोमवार (12 दिसंबर 2022) को जिले के एसपी पुलिसबल के साथ गाँव पहुँचे और हिंदू परिवार से मुलाकात की। अलग-बगल के लोगों का कहना है कि बड़े पैमाने पर मुस्लिमों के घुसपैठ के कारण वे अल्पसंख्यक हो गए हैं और तरह-तरह की परेशानियों का सामना कर रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -