Thursday, June 30, 2022
Homeदेश-समाज'मेरे पति को मार कर 32 साल तक घूमता रहा': यासीन मलिक पर बोलीं...

‘मेरे पति को मार कर 32 साल तक घूमता रहा’: यासीन मलिक पर बोलीं स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना की पत्नी – फाँसी से कम कुछ भी मंजूर नहीं

उन्होंने कहा कि पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह को अपना प्रेरणास्त्रोत मानती थीं, लेकिन जब मनमोहन सिंह यासीन मलिक से मिले और दोनों ने ठहाके लगाए तो उन्हें इसका दुःख हुआ।

जम्मू-कश्मीर में हिंदुओं का नरसंहार करने वाले आतंकवादी यासीन मलिक को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। टेरर फंडिंग के मामले में उसे मलिक को उम्रकैद के साथ ही उस पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। इस बीच वीर बलिदानी स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना की पत्नी निर्मल खन्ना ने मलिक को फाँसी देने की माँग की है। उन्होंने कहा कि इससे कम कुछ भी मंजूर नहीं है।

उन्होंने कहा कि वो मेरे पति को मारकर 32 साल 4 महीने तक घूमता रहा, और क्या चाहेगा? इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि वो पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह को अपना प्रेरणास्त्रोत मानती थीं, लेकिन जब मनमोहन सिंह यासीन मलिक से मिले और दोनों ने ठहाके लगाए तो उन्हें इसका दुःख हुआ। निर्मल खन्ना के मुताबिक, ये तो टेरर फंडिंग के मामले में सजा सुनाई गई है। हमारा जो केस है वो हत्या का है और उसमें फाँसी से कम कुछ भी स्वीकार नहीं है।

वायुसेना अधिकारी की पत्नी ने कहा, “उसने तो उनके पति को केवल 28 गोलियाँ मारी थी, लेकिन हुकूमतों ने तो 32 साल 4 महीने तक मारा। देशद्रोही कोई भी हो, उसे वही सजा देनी चाहिए जो देशद्रोह के मामले में देनी चाहिए। लेकिन, मेरे केस में मैं तो यही कहूँगी ‘खून का बदला खून’ होना चाहिए।”

इससे पहले मलिक को दोषी करार दिए जाने के बाद उन्होंने कहा था कि रवि खन्ना का खून उसका पीछा कर रहा है। वो बचेगा नहीं।

क्या था पूरा मामला

गौरतलब है कि वर्ष 1990 में जम्मू-कश्मीर में भारतीय वायुसेना के 4 निहत्थे जवानों की हत्या कर दी गई थी। इनमें स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना भी शामिल थे। जिन आतंकियों ने जवानों की हत्या की थी, वे यासीन मलिक द्वारा संचालित आतंकी संगठन के सदस्य थे। यह घटना जनवरी 25 1990 को हुई थी।

स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना की पत्नी निर्मल खन्ना अपने पति के हत्यारों को सज़ा दिलाने के लिए लड़ रही हैं। भारतीय वायुसेना के इन जवानों की हत्या तब की गई थी, जब उनके पास कोई भी हथियार नहीं था। वे एयरपोर्ट जाने के लिए बस का इन्तजार कर रहे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,188FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe