Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजचित्रा के बालों में उलझा था 'हिमालय का योगी', विदेश चलने को करता था...

चित्रा के बालों में उलझा था ‘हिमालय का योगी’, विदेश चलने को करता था मेल: रिपोर्ट में दावा, NSE की पूर्व चीफ के यहाँ IT की रेड

यह रहस्यमयी 'आध्यात्मिक गुरु' चित्रा के हेयर स्टाइल में बहुत रुचि थी और उससे वह बहुत प्रभावित था। इतना ही नहीं, इन दोनों ने गाने भी एक-दूसरे से साझा किए और साथ में सेशेल्स में छुट्टी मनाने भी गए। उस शख्स ने कहा था, "आज आप बहुत बढ़िया दिख रही हैं। आपको अपने बाल विभिन्न तरीके से बाँधने चाहिए। ये आपके लुक को और आकर्षक बना देंगे!"

‘हिमालय के योगी’ के साथ गोपनीय सूचनाएँ साझा करने और उसके कहने पर मनमाने ढंग से नियुक्ति एवं वेतन बढ़ोत्तरी करने वाली नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) की पूर्व प्रबंध निदेशक (MD) और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) चित्रा रामकृष्ण और उनके सहयोगी आनंद सुब्रह्मण्यम के ठिकानों पर आयकर विभाग ने छापेमारी की है। इसके साथ ही ‘हिमालय के योगी’ कहलाने वाले रहस्यमयी व्यक्ति की जाँच की भी तैयारी चल रही है।

आयकर विभाग के सूत्रों के अनुसार, चित्रा रामकृष्ण के मुंबई और उनके सहयोगी आनंद सुब्रह्मण्य के चेन्नई स्थित ठिकानों पर छापेमारी हुई। इस छापेमारी का नेतृत्व मुंबई आयकर विभाग की टीम ने की। छापेमारी में क्या-क्या बरामद किया गया है, इसकी जानकारी अभी सामने नहीं आई है और ना ही आयकर विभाग का इस पर आधिकारिक बयान आया है।

वहीं, चित्रा ने जिस रहस्यमयी बाबा के साथ गोपनीय सूचनाएँ साझा की है, उसकी भी जानकारी जुटाई जा रही है। इस मामले में NSE की भूमिका की जाँच की भी बात कही गई है। अधिकारियों का कहना है कि चित्रा के लैपटॉप और डेस्कटॉप को जाँच के बिना जल्दबाजी में क्यों हटा दिया गया। इसके साथ ही यह कहा गया है कि चित्रा को इस्तीफा देकर सम्मानपूर्वक नौकरी छोड़ने की अनुमति क्यों दी गई और उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की गई, इसकी भी जाँच की जाएगी।

बाजार नियामक संस्था SEBI ने फोरेंसिक जाँच के बाद चित्रा के हवाले से बताया था कि वह इस रहस्यमयी बाबा के संपर्क में 20 साल पहले गंगा के तट पर आई थी। चित्रा ने उस रहस्यमयी व्यक्ति की पहचान को बताने से इनकार करते हुए कहा था कि वह आध्यात्मिक शक्तियों से परिपूर्ण है और उसका कोई शारीरिक व्यक्तित्व नहीं है। वह अपनी इच्छा से कहीं भी प्रकट हो सकता है।

वहीं, चित्रा की इस कहानी को अधिकारियों ने अविश्वसनीय बताते हुए खारिज कर दिया। अधिकारियों का कहना है कि इस अज्ञात शख्स अस्तित्व है और इसका पता लगाने के लिए जाँच का आदेश दिया जाएगा, क्योंकि मामला देश की वित्तीय सुरक्षा से संबंधित है।

SEBI के एक आदेश के अनुसार, यह रहस्यमयी ‘आध्यात्मिक गुरु’ चित्रा के हेयर स्टाइल में बहुत रुचि थी और उससे वह बहुत प्रभावित था। इतना ही नहीं, इन दोनों ने गाने भी एक-दूसरे से साझा किए और साथ में सेशेल्स में छुट्टी मनाने भी गए। यह चित्रा द्वारा SEBI को दिए गए उस बयान के विपरीत है, जिसमें उन्होंने कहा था कि उनके आध्यात्मिक गुरु एक ‘सिद्ध पुरुष’ हैं और वह वह उसे ‘शिरोमणी’ पुकारती थी।

इकोनॉमिक टाइम्स के अनुसार, 18 फरवरी 2015 को चित्रा को किए एक ई-मेल में उस अज्ञात व्यक्ति ने कहा था, “आज आप बहुत बढ़िया दिख रही हैं। आपको अपने बालों को बाँधने के विभिन्न तरीके सीखने चाहिए, जो आपके लुक को दिलचस्प और आकर्षक बना देंगे! बस एक मुफ्त सलाह, मुझे पता है आप इसे मानेंगी। मार्च के मध्य को थोड़ा समय निकाल कर रखिएगा।”

17 फरवरी 2015 को चित्रा को भेजे गए एक अन्य ईमेल में उस ‘सिद्ध संत’ ने लिखा, “बैग तैयार रखिए। मैं अगले महीने सेशेल्स की यात्रा की योजना बना रहा हूँ। अगर आप मेरे साथ आ सकते हैं तो कोशिश करेंगे। अगर आप तैरना जानते हैं तो हम सेशेल्स में समुद्र में नहाने का आनंद ले सकते हैं और समुद्र तट पर आराम कर सकते हैं।”

बता दें कि चित्रा अप्रैल 2013 से दिसंबर 2016 तक NSE की MD एवं CEO थीं। इसी दौरान उन्होंने कई अनियमितताएँ कीं। चित्रा ने न सिर्फ आनंद सुब्रह्मण्यम को लीक से हटकर नियुक्ति दी, बल्कि NSE के फाइनेंशियल एवं बिजनेस प्लान, डिविडेंड से जुड़ी बातें, फाइनेंशियल रिजल्ट एवं अन्य गोपनीय सूचनाएँ योगी के साथ साझा कीं। एक्सचेंज के कर्मचारियों की वेतन और उनकी अप्रेजल से संबंधित बातें भी योगी से विचार-विमर्श के बाद ही लेती थीं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -