Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजDakPay: भारतीय डाक ने लॉन्च की डिजिटल ऐप, जानिए इसके बारे में

DakPay: भारतीय डाक ने लॉन्च की डिजिटल ऐप, जानिए इसके बारे में

DakPay ऐप बायोमैट्रिक के जरिए कैशलेस इकोसिस्टम तैयार करने में भी मदद करेगी। इससे किसी भी बैंक के ग्राहकों को इंटर-ऑपरेबल बैंकिंग सर्विसेज मिलेंगी और वो बिल पेमेंट भी कर सकेंगे।

भारतीय डाक विभाग और इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक्स (IPPB) ने एक नया डिजिटिल पेमेंट ऐप डाकपे (DakPay) लॉन्च किया है। इस ऐप की लॉन्चिंग वर्चुअली की गई, जिसमें दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद थे। इस इवेंट में रविशंकर प्रसाद ने COVID-19 के खिलाफ लड़ाई के दौरान इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के प्रयासों की भी सराहना की।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट करके कहा कि इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक ने अपने लॉन्च के 2 साल से भी कम समय में 3 करोड़ अकाउंट का आँकड़ा पार कर लिया है। इसके लिए उन्होंने इंडिया पोस्ट ऑफिस की पूरी टीम को बधाई भी दी है। ऐप लॉन्च करते हुए संचार मंत्रालय ने कहा कि डिजिटल वित्तीय समावेश को देश के कोने-कोने तक पहुँचाने के लिए इस ऐप को लॉन्च किया गया है।

उल्लेखनीय है कि DakPay सिर्फ एक डिजिटल पेमेंट ऐप नहीं है बल्कि इसके जरिए उपभोक्ताओं को संबंधित बैंक और डाक की अन्य सेवाएँ भी मिलेंगी। डाकपे ऐप (DakPay) में भी डिजिटल पेमेंट के लिए QR कोड स्कैन करने की सुविधा है।

यह ऐप बायोमैट्रिक के जरिए कैशलेस इकोसिस्टम तैयार करने में भी मदद करेगी। इससे किसी भी बैंक के ग्राहकों को इंटर-ऑपरेबल बैंकिंग सर्विसेज मिलेंगी और वो बिल पेमेंट भी कर सकेंगे।

DakPay ऐप को गूगल प्ले-स्टोर से मुफ्त में डाउनलोड किया जा सकता है। डाउनलोड करने के बाद नाम, मोबाइल नंबर और पिन कोड के साथ ऐप में प्रोफाइल बनानी होगी। इसके बाद अपने बैंक अकाउंट को ऐप से लिंक कर सकते हैं। ऐप में यूपीआई ऐप की तरह चार अंकों का एक पिन बनाना होगा। इस ऐप से किराना स्टोर से लेकर शॉपिंग मॉल तक हर जगह पेमेंट किया जा सकेगा।

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) की स्थापना डाक विभाग के तहत की गई है। IPPB को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सितंबर 01, 2018 को लॉन्च किया गया था। बैंक की स्थापना भारत में आम आदमी के लिए सबसे सुलभ, सस्ती और विश्वसनीय बैंक बनाने के लिए की गई है।

 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,820FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe