Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजभारत में इस दवा से होगा कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज: मेडिकल काउंसिल...

भारत में इस दवा से होगा कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज: मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने दिया प्रस्ताव

इस दवा का इस्तेमाल अब तक मलेरिया से निपटने के लिए किया जाता रहा है। अमेरिका में भी जब कोरोना के मरीजों को ठीक करने के लिए इस दवा का परीक्षण किया गया तो इसके कुछ अच्छे परिणाम सामने आए थे।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च द्वारा गठित नेशनल टास्क फोर्स ने कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्विन नामक मेडिकल ड्रग देने का प्रस्ताव दिया है। जिस मामले में स्थिति ज्यादा ख़राब हो, वहाँ इसका प्रयोग किया जा सकता है। एनटीएफ ने कहा है कि ‘हाई रिस्क’ वाले मामलों में इसका इस्तेमाल किया जाना चाहिए। हालाँकि, ध्यान देने वाली बात ये है कि बिना डॉक्टर की सलाह के इस दवा को लेने से मना किया गया है।

इस दवा का इस्तेमाल अब तक मलेरिया से निपटने के लिए किया जाता रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी दावा किया था कि कोरोना वायरस से निपटने में इसका प्रयोग गेमचेंजर साबित हो सकता है। बता दें कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के और हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. केके अग्रवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। इस पत्र के माध्यम से माँग की गई थी कि कोरोना के मरीजों के इलाज में इस दवा के प्रयोग की मंजूरी दी जाए।

अमेरिका में भी जब कोरोना के मरीजों को ठीक करने के लिए इस दवा का परीक्षण किया गया तो इसके कुछ अच्छे परिणाम सामने आए थे। ख़ुद डोनाल्ड ट्रम्प ने मीडिया से बात करते हुए इसकी जानकारी दी थी। रिसर्च में सुखद परिणाम मिलने के बाद वहाँ के प्रशासन ने इसके इस्तेमाल को मंजूरी दे दी।

दुनिया भर में अब तक कोरोना वायरस के 3.5 लाख से भी अधिक केस सामने आए हैं और 15300 लोगों को अपनी जान गँवानी पड़ी है। भारत में अब तक इसके 400 से भी अधिक मामले सामने आए लोगों की मौत हुई है। अभी तक इसके इलाज के लिए कोई वैक्सीन नहीं खोजा जा सका है। दुनिया भर के वैज्ञानिक और मेडिकल क्षेत्र के विशेषज्ञ इस काम में लगे हुए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -