Friday, November 27, 2020
Home विविध विषय कला-साहित्य 'मेरा लेखन तभी सार्थक है, जब कोई एक व्यक्ति भी कुछ अच्छा और सही...

‘मेरा लेखन तभी सार्थक है, जब कोई एक व्यक्ति भी कुछ अच्छा और सही करने के लिए प्रेरित हो सके’

अपनी बहुचर्चित पुस्तक 'मैं से माँ तक़' और 'ऐसी वैसी औरत' (जागरण-नील्सन बेस्ट सेलर) के अलावा अंकिता जैन वर्तमान में किस तरह से एक प्रेरणाश्रोत बनकर महिला सशक्तिकरण की एक मजबूत मिशाल पेश करती हैं।अंकिता जैन ऑपइंडिया के साथ आज शेयर कर रही हैं अपने संघर्ष से सशक्तिकरण तक का अपना सफर।

महिलाओं को किसी एक विशेषण में समेटने की कोशिश करना एक नादानी से ज्यादा कुछ नहीं हो सकता है। महिलाएँ एक माँ, बेटी, बहन, औरत होने के साथ-साथ कितने ही रूपों में अन्य सामाजिक दायित्व भी निभाती हैं, अंकिता जैन इसका एक उदाहरण हैं। अपनी बहुचर्चित पुस्तक ‘मैं से माँ तक़’ और ‘ऐसी वैसी औरत’ (जागरण-नील्सन बेस्ट सेलर) के अलावा अंकिता जैन वर्तमान में किस तरह से एक प्रेरणाश्रोत बनकर महिला सशक्तिकरण की एक मजबूत मिशाल पेश करती हैं।अंकिता जैन ऑपइंडिया के साथ आज शेयर कर रही हैं अपने संघर्ष से सशक्तिकरण तक का अपना सफर।

लेखन जगत में मेरी यात्रा 2011 में शुरू हुई थी। शुरुआत फेसबुक से ही हुई थी। फिर सफ़र आगे बढ़ा और रेडियो के लिए कहानियाँ लिखीं, संपादन और अनुवाद का काम किया, घोस्ट राइटिंग की, और 2017 में पहली हिंदी किताब ‘ऐसी वैसी औरत’ आई।

इसी बीच शादी हुई और मैं छत्तीसगढ़ के आदिवासी बाहुल्य इलाके में पहुँच गई। वहाँ मेरे पति (समर्थ) खेती-बाड़ी करते हैं। रसायन मुक्त खेती। वे एक वैज्ञानिक हैं और पहले बेल्जियम की सरकारी रिसर्च लैब में शोधकर्ता थे। वहाँ वे जब आस-पास के गाँवों के किसानों को देखते, तो उनके आगे उन्हें अपने यहाँ के किसानों की दरिद्र हालत पर दुःख होता। वह ही उनके जीवन का टर्निंग पॉइंट था, जब वे विदेश में नौकरी छोड़कर स्वदेश लौटे और उन्होंने छोटे किसानों के लिए कुछ करने के बारे में सोचा।

शुरुआत में यह कठिन लगता था क्योंकि शिक्षा बिल्कुल अलग विषय में हुई थी, लेकिन किताबों का साथ और शोध की प्रवृत्ति ने उनकी राह आसान बनाई। उनके पास पैतृक ज़मीन थी, जिस पर उन्होंने विभिन्न प्रकार की फसलों के साथ रसायन मुक्त खेती के प्रयोग शुरू किए। सफलता मिलने लगी तो गाँव-गाँव जाकर किसानों को प्रशिक्षण देना शुरू किया। अब तक लगभग 300 गाँवों के किसानों से जुड़कर वे उन तक रसायन मुक्त खेती के तरीके पहुँचा चुके हैं। कई किसानों ने उनकी बताई राह पर चलना भी शुरू किया है।

रसायन मुक्त खेती के प्रयोगों के दौरान ही उन्होंने रसायन मुक्त खाद एवं दवाइयाँ बनाने के प्रयोग शुरू किए। जब वे सफल रहे तो उन्हें बाज़ार में उतारा। ऐसा नहीं था कि जैविक उत्पाद बाज़ार में उपलब्ध नहीं थे, लेकिन अधिकांश उत्पादों में मिलावट और छल पाया। साथ ही, उनकी कीमतें इतनी अधिक होतीं, कि एक छोटा किसान उसे खरीदने से पहले ही जैविक खेती से विरक्त हो जाए।

अतः समर्थ का मुख्य उद्देश्य कम से कम कीमत पर शुद्ध रसायन मुक्त उत्पाद किसानों तक पहुँचाना एवं उन्हें स्वयं रसायन मुक्त खाद एवं दवाइयाँ बनाना सिखाना था। मैं पिछले चार वर्षों में उनके इस कार्य में सहयोगी रही हूँ। और वे मेरे लेखन में सहयोगी रहे।

मेरी दूसरी किताब ‘मैं से माँ तक’ मैं उनके सहयोग की वजह से ही लिख पाई। अन्यथा मातृत्व, प्रेग्नेंसी के नौ माह, और उस दौरान भारतीय स्त्रियों के सामने आने वाली कठिनाइयों के बारे में मुखर होकर लिखना एक ‘बहु’ के लिए आसान नहीं होता।

अधिकांश स्त्रियाँ माँ बनने के दौरान काम से ब्रेक ले लेती हैं। मेरे जीवन में लेखन मुख्य रूप से उसी दौर में शुरू हुआ। मैं माँ बन रही थी, बनी और अब बच्चे के साथ भी काम करती हूँ, रुकना या ब्रेक लेना नहीं चाहती। ऐसा नहीं है कि कठिनाइयों ने परेशान नहीं किया, लेकिन रुक जाऊँगी तो पीछे छूट जाऊँगी, बस यही सोच कर काम में लगाए रखती हूँ।

मैंने जब यह कॉलम लिखना शुरू किया, तो ढेर सारी महिलाओं के संदेश आते। वे सभी किसी न किसी समस्या से जूझते हुए अपने नौ माह काट रही थीं। ऐसे में मुझमें वे डिजिटल सहेली पातीं और अपना मन हल्का करतीं। आज यह किताब के रूप में है और ख़ुशी की बात यह है कि महिलाओं के अलावा पुरुषों से भी इस किताब पर सुंदर और सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलती है।

मेरे लेखन का उद्देश्य यही है कि कोई एक व्यक्ति भी कुछ अच्छा और सही करने के लिए प्रेरित हो सके तो मैं अपना लेखन सार्थक मानूँगी। मेरी आगामी दो किताबें भी इसी उद्देश्य के साथ आ रही हैं। जिनमें से एक उपेक्षित स्त्रियों को केंद्र में रखकर लिखा गया कहानी संग्रह है और दूसरी किसानों से जुड़ी, खेती से जुड़ी, असल समस्याओं और किसानों के जीवन के भीतर की कहानी पर आधारित है।

मैं और समर्थ दोनों ही इसी उद्देश्य के साथ आगे बढ़ रहे हैं कि सकारात्मक रहते हुए इस देश और समाज के लिए कुछ कर पाएँ। इन दिनों समर्थ प्लास्टिक से तेल निकालने की मशीन बना रहे हैं। हमारा बिज़नेस स्टार्टअप इंडिया के तहत रजिस्टर्ड है और हमें सरकार की तरफ से लोन के अलावा गाइडेंस भी मिलती है।

यह इस तरह का पहला एक्सपेरिमेंट नहीं है। दुनियाभर में इसके लिए काम हुआ है और कुछ जगहों पर सफलतापूर्वक प्लास्टिक से तेल निकाला भी जा रहा है। हमारे प्रयोग में जो नई कोशिश है वह है; छोटे-छोटे गाँव और नगरों के लिए न्यूनतम ख़र्च में एक मशीन तैयार करना जो नॉन-रीसायकल या डिस्पोजल प्लास्टिक से तेल निकाल सके। जो तेल निकलेगा वह केरोसीन और डीज़ल के बीच की या कई बार डीज़ल जितनी ही गुणवत्ता का रहेगा और उस तरह से इस्तेमाल किया जा सकेगा।

हमारी कोशिश है कि गाँव वालों के लिए एक ऐसी मशीन बन सके जो उन्हें उन्हीं के गाँव में उपयोग की जा रही प्लास्टिक से तेल निकाल सके और वे उस तेल का प्रयोग रोजमर्रा के कामों में कर सकें। यह प्लास्टिक से तेल निकालने का सबसे अच्छा तरीका जिसकी प्रक्रिया में किसी भी प्रकार का प्रदूषण नहीं होगा। हमारा उद्देश्य बस इतना है कि प्रकृति और समाज स्वस्थ रहें, ख़ुश रहें। 

अंकिता जैन जशपुर छतीसगढ़ की रहने वाली हैं। इंजीनियरिंग के बाद विप्रो इंफोटेक में काम कर चुकी हैं। इसके अलावा सीडैक, पुणे में बतौर रिसर्च एसोसिएट एक साल रहीं। साल 2012 में भोपाल के एक इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट में असिस्टेंट प्रोफेसर रहीं। इस सबके बावजूद उनकी दिलचस्पी लेखन और कृषि में है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अंकिता जैनhttp://www.ankitajain.in
बनस्थली विद्यापीठ से एम्.टेक कंप्यूटर साइंस. स्पेशलाइजेशन आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस। विप्रो गुडगाँव में एप्लीकेशन डेवलपर, सीडेक-पुणे में रिसर्च एसोसिएट एवं बंसल इंस्टिट्यूट ऑफ़ रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी भोपाल में बतौर असिस्टंट प्रोफेसर काम कर चुकी हैं। 2012 में रिलीज़ हुए भारत के सबसे बड़े फ़्लैश मोब गीत “आय लव यू मुंबई… मुंबई 143” के बोल लिखे. इस गीत को लिम्का बुक ऑफ़ नेशनल रिकॉर्ड में भी स्थान मिला। रेडियो-ऍफ़एम् के दो प्रसिद्ध शो “यादों का इडियट बॉक्स विथ नीलेश मिश्रा” एवं “यूपी की कहानियाँ” में दो दर्जन कहानियाँ लिखीं। मध्यप्रदेश बायो-डाइवर्सिटी बोर्ड द्वारा बनायी “धान” पर आधारित डाक्यूमेंट्री की स्क्रिप्ट राइटर। अहा ज़िन्दगी, प्रभात खबर 'सुरभि', लल्लनटॉप, प्रजातंत्र, जानकीपुल, कविताकोश आदि में लेख, कविताएँ, कहानियाँ प्रकाशित। अब तक दो किताबें “ऐसी-वैसी औरत” हिन्द युग्म प्रकाशन, दिल्ली एवं "मैं से माँ तक" राजपाल एंड सन्स, दिल्ली द्वारा प्रकाशित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

मसूद की फौज दर्रे में घुसती और दो टुकड़े कर डालते मराठा: शिवा नाई, बाजी और शिवाजी के विशालगढ़ पहुँचने की गाथा

"मेरे बहादुरों। हमारे राजा जब तक गढ़ न पहुँच जाए, तब तक एक भी शत्रु इस दर्रे से होकर नहीं गुजरना चाहिए। मराठी आन की लाज हमारे हाथों में है। हर हर महादेव!"

BMC ने बदले की भावना से तोड़ा कंगना रनौत का ऑफिस, नुकसान की करे भरपाई: बॉम्बे HC ने लगाई फटकार

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि बीएमसी को कंगना रनौत के ऑफिस में की गई तोड़फोड़ के लिए हर्जाना देना होगा। हाईकोर्ट ने कंगना के ऑफिस के नुकसान का आकलन करने के आदेश भी दिए हैं।

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

देखिए 48 घंटों में द वायर ‘मोदी की रैली में कोई नहीं आता’ से ‘बिहार में मोदी को सब चाहते हैं’ कैसे पहुँच गया

द वायर सरीखे एजेंडापरस्त मीडिया समूहों के लिए इस श्रेणी का गिरगिटनुमा विश्लेषण या दावा कोई नई बात नहीं है। प्रोपेगेंडा ही इनका एकमात्र उद्देश्य है भले उसके लिए स्क्रीन पर कुछ अनर्गल ही क्यों न परोसना पड़े।

प्रचलित ख़बरें

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

हाथ में कलावा, समीर चौधरी नाम की ID: ‘हिंदू आतंकी’ की तरह मरना था कसाब को – पूर्व कमिश्नर ने खोला राज

"सभी 10 हमलावरों के पास फर्जी हिंदू नाम वाले आईकार्ड थे। कसाब को जिंदा रखना पहली प्राथमिकता थी। क्योंकि वो 26/11 मुंबई हमले का सबसे बड़ा और एकलौता सबूत था। उसे मारने के लिए ISI, लश्कर-ए-तैयबा और दाऊद इब्राहिम गैंग ने..."

जहाँ बहाया था खून, वहीं की मिट्टी पर सर रगड़ बोला भारत माता की जय: मुर्दों को देख कसाब को आई थी उल्टी

पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया सुबह साढ़े चार बजे कसाब से कहते हैं कि वो अपना माथा ज़मीन से लगाए... और उसने ऐसा ही किया। इसके बाद जब कसाब खड़ा हुआ तो मारिया ने कहा, “भारत माता की जय बोल” कसाब ने फिर ऐसा ही किया। मारिया दोबारा भारत माता की जय बोलने के लिए कहते हैं तो...

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

‘माझ्या कक्कानी कसाबला पकड़ला’ – बलिदानी ओंबले के भतीजे का वो गीत… जिसे सुन पुलिस में भर्ती हुए 13 युवा

सामने वाले के हाथों में एके-47... लेकिन ओंबले बिना परवाह किए उस पर टूट पड़े। ट्रिगर दबा, गोलियाँ चलीं लेकिन ओंबले ने कसाब को...

गरीब कल्याण रोजगार अभियान: प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने में UP की योगी सरकार सबसे आगे

प्रवासी श्रमिकों को काम मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान शुरू किया था। उत्तर प्रदेश ने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है।

12वीं शताब्दी में विष्णुवर्धन के शासनकाल में बनी महाकाली की मूर्ति को मिला पुन: आकार, पिछले हफ्ते की गई थी खंडित

मंदिर में जब प्रतिमा को तोड़ा गया तब हालात देखकर ये अंदाजा लगाया गया था कि उपद्रवी मंदिर में छिपे खजाने की तलाश में आए थे और उन्होंने कम सुरक्षा व्यवस्था देखते हुए मूर्ति तोड़ डाली।

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

संघियों-मनुवादियों को खत्म करने के लिए लश्कर-तालिबान से मदद की ग्राफिटी: मेंगलुरु की सड़कों पर खुलेआम चेतावनी

26/11 हमलों की बरसी के मौके पर मेंगलुरु की दीवारों पर भयावह बातें लिखी (ग्राफिटी) हुई थीं। जिसमें चेतावनी दी गई थी कि ‘संघी और मनुवादियों’ को ख़त्म करने के लिए लश्कर-ए-तैय्यबा और तालिबान की मदद ली जा सकती है।

हिन्दू युवती के पिता का आरोप मुश्ताक मलिक के परिवार ने किया अपहरण: पुलिस ने नकारा ‘लव जिहाद’ एंगल, जाँच जारी

युवती के घर वालों की शिकायत के आधार पर पुलिस ने फैज़ल, इरशाद, सोनू, हिना, लाइबा और मुश्ताक मलिक पर अपहरण के दौरान मदद करने के लिए मामला दर्ज कर लिया है।

मसूद की फौज दर्रे में घुसती और दो टुकड़े कर डालते मराठा: शिवा नाई, बाजी और शिवाजी के विशालगढ़ पहुँचने की गाथा

"मेरे बहादुरों। हमारे राजा जब तक गढ़ न पहुँच जाए, तब तक एक भी शत्रु इस दर्रे से होकर नहीं गुजरना चाहिए। मराठी आन की लाज हमारे हाथों में है। हर हर महादेव!"

टोटल 7 हैं भाई, पर भौकाल ऐसा जैसे यही IIMC हों: क्यों हो रहा दीपक चौरसिया का विरोध?

IIMC में दीपक चौरसिया को बुलाए जाने का कुछ नए छात्र विरोध कर रहे हैं। कुछ पुराने छात्र इनके समर्थन में आगे आए हैं।

ये कौन से किसान हैं जो कह रहे ‘इंदिरा को ठोका, मोदी को भी ठोक देंगे’, मिले खालिस्तानी समर्थन के प्रमाण

मीटिंग 3 दिसंबर को तय की गई है और हम तब तक यहीं पर रहने वाले हैं। अगर उस मीटिंग में कुछ हल नहीं निकला तो बैरिकेड तो क्या हम तो इनको (शासन प्रशासन) ऐसे ही मिटा देंगे।

BMC ने बदले की भावना से तोड़ा कंगना रनौत का ऑफिस, नुकसान की करे भरपाई: बॉम्बे HC ने लगाई फटकार

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि बीएमसी को कंगना रनौत के ऑफिस में की गई तोड़फोड़ के लिए हर्जाना देना होगा। हाईकोर्ट ने कंगना के ऑफिस के नुकसान का आकलन करने के आदेश भी दिए हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,432FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe