Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजजिस लड़की ने किया था 'बॉयज लॉकर रूम' का खुलासा, उसे मिल रही धमकियाँ:...

जिस लड़की ने किया था ‘बॉयज लॉकर रूम’ का खुलासा, उसे मिल रही धमकियाँ: शिकायत के बाद FIR दर्ज

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने इंस्टाग्राम ग्रुप बॉयज लॉकर रूम पर अश्लील चैट करने के मामले में 15 साल के नाबालिग लड़के को पकड़ा था। नाबालिग के अलावा इस ग्रुप में 20 लड़कों के शामिल होने की बात पता चली थी। पुलिस ने सोशल मीडिया पर रजिस्टर फोन नंबर से लड़के के घर का पता लगाया था।

साउथ दिल्ली की जिस लड़की ने ‘बॉयज लॉकर रूम’ विवाद का खुलासा किया था, उसे धमकियाँ मिल रही है। लड़की ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि जब से उसने इस पूरे मामले का पर्दाफाश किया, तब से उसे सोशल मीडिया पर धमकियाँ मिलने का सिलसिला शुरू हो गया है।

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने लड़की की शिकायत को आधार बनाते हुए इस मामले में एक और एफआईआर दर्ज कर लिया है। उक्त लड़की ने मई में ‘बॉयज लॉकर रूम’ नामक ग्रुप का खुलासा किया था और कई स्क्रीनशॉट्स शेयर किए थे।

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने इंस्टाग्राम ग्रुप बॉयज लॉकर रूम (Boys Locker Room/Bois Locker Room) पर अश्लील चैट करने के मामले में 15 साल के नाबालिग लड़के को पकड़ा था। नाबालिग के अलावा इस ग्रुप में 20 लड़कों के शामिल होने की बात पता चली थी। पुलिस ने सोशल मीडिया पर रजिस्टर फोन नंबर से लड़के के घर का पता लगाया था।

नाबालिग पर आरोप है कि उसने भी इंस्टाग्राम ग्रुप में तस्वीर शेयर की, जिसे देखते हुए पुलिस ने उसके घर जाकर पकड़ा था। लड़की ने कुछ स्क्रीनशॉट्स शेयर कर इस ग्रुप का खुलासा करते हुए लिखा था,

“दक्षिण दिल्ली के 17-18 साल की उम्र के लड़कों का एक ग्रुप है, जिसका नाम ‘बॉयज लॉकर रूम’ (Boys Locker Room/Bois Locker Room) है, जहाँ कम उम्र की लड़कियों की तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ कर आपत्तिजनक बनाया जा रहा था। मेरे स्कूल के दो लड़के इसका हिस्सा हैं।”

मई के पहले हफ्ते में ही गुरुग्राम की DLF फेज 5 के कार्ल्ट्न एस्टेट (DLF Carlton Estate) सोसायटी में 17 साल के एक नाबालिग ने 11वीं मंजिल से कूदकर कल आत्महत्या कर ली थी। इस घटना को भी ‘बॉयज लॉकर रूम’ से जोड़ कर देखा गया था। अगर इस ग्रुप की बात करें तो इसका खुलासा करते हुए लड़की ने आरोप लगाया था कि इस ग्रुप के सदस्य गैंगरेप की योजना बना रहे थे और उस पर चर्चा कर रहे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe