Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजमहिला प्रदर्शनकारियों से ही बात करने गए थे, हेलमेट निकाल हमला किया: DCP अमित...

महिला प्रदर्शनकारियों से ही बात करने गए थे, हेलमेट निकाल हमला किया: DCP अमित शर्मा की पत्नी

पूजा शर्मा ने ये बयान जारी करते हुए सरकार से अपील की कि दंगाइयों के ख़िलाफ़ सख्त से सख्त एक्शन लिया जाए। क्योंकि उनके पति की हालत अब भी ठीक नहीं है। वो पूरी तरह सही नहीं हो पाए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें ठीक होने में 4 से 5 महीने लगेंगे।

उत्तर पूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को भड़की हिंसा में आतताइयों की भीड़ ने पुलिस पर जो हमला किया उसकी विडियो सोशल मीडिया पर कल सबके सामने आ गई। विडियो में हमने देखा कि दंगाई भीड़ में बुर्काधारी महिलाओं ने पुलिस पर जमकर पत्थरबाजी की और बड़ी तादाद में आकर पुलिस को खदेड़ा। इसी भीड़ को सोशल मीडिया पर हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल की मौत के लिए जिम्मेदार बताया गया। साथ ही इसी भीड़ को अमित शर्मा के घायल होने के पीछे वजह बताया गया।

अब हालाँकि, रतन लाल हमारे बीच नहीं हैं। उनके परिवार के पास इन विडियोज को देखने के बाद भी न तो कहने को कुछ बचा है और न ही बताने को। लेकिन, डीसीपी अमित शर्मा, जिन्होंने हमले में घायल होने के कुछ दिन बाद अपनी आँख खोली है, उनकी पत्नी इन विडियोज को देखने के बाद सकते में है।

बुर्काधारी महिलाओं को इस तरह पुलिस पर हमला करता देख डीसीपी अमित शर्मा की पत्नी का बयान आया है। मीडिया से बात करते हुए पूजा शर्मा ने दावा किया है कि उनके पति उस दिन भी प्रदर्शनकारियों से ही बात करने गए थे। वहाँ सिर्फ़ महिलाओं का समूह था। उन्होंने ही अमित का हेलमेट पहले निकलवाया और फिर भीड़ ने आकर उनपर हमला किया।

पूजा शर्मा ने ये बयान जारी करते हुए सरकार से अपील की कि दंगाइयों के ख़िलाफ़ सख्त से सख्त एक्शन लिया जाए। क्योंकि उनके पति की हालत अब भी ठीक नहीं है। वो पूरी तरह सही नहीं हो पाए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें ठीक होने में 4 से 5 महीने लगेंगे।

डीसीपी शर्मा की पत्नी उनकी हालत देखकर बेहद भावुक मन से 24 फरवरी के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि उस दिन अमित शर्मा के ऑफिस स्टाफ ने घर पर कॉल की थी और कहा था कि अमित शर्मा घायल हो गए हैं।उन्हें कहा गया था की अमित शर्मा को मामूली चोटें लगी हैं। लेकिन जब वो जीटीबी अस्पताल पहुँची, तब उन्हें पता चला अमित शर्मा का सीटी स्कैन होना है और उनके सर में गंभीर चोटें आई हैं।

पूजा ने बताया की बीच-बीच में होश आने पर अमित उनसे अपना और बच्चों का खयाल रखने के लिए कह रहे थे। अमित को इस बात का आभास था कि उन्हें गंभीर चोटें आई हैं, जो उनके लिए जानलेवा भी साबित हो सकती हैं।

पूजा इस दर्दनाक घटना को याद करते हुए कहती कि उनके पति को IFS की नौकरी मिल रही थी। लेकिन उन्होंने फिर आईपीएस होना ही चुना। वे हमेशा से पुलिस ऑफिसर बनना चाहते थे। वो सिर्फ अपने काम को प्राथमिकता देते हैं। यहाँ तक कि 6 महीने पहले जब उनकी (पूजा) की डिलीवरी होने वाली थी तो वो खुद मौजूद नहीं रह पाए थे।

‘AAP नेता मोहम्मद अतहर: DCP अमित शर्मा और रतनलाल पर हमला करने वाली भीड़ का अगुआ’

वे 20-25,000 के बीच थे, हम केवल 200: जख्मी ACP ने सुनाई उस दिन की आपबीती जब बलिदान हुए थे रतनलाल

बुर्का पहनी महिलाएँ बरसा रहीं पत्थर, दंगाई दाग रहे गोली: उस भीड़ का Video जिसने ली रतनलाल की जान

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विधानसभा से मंत्री का ही वॉकआउट: छत्तीसगढ़ कॉन्ग्रेस की लड़ाई में नया मोड़, MLA ने कहा था- मेरी हत्या करा बनना चाहते हैं CM

अपनी ही सरकार के रवैये से आहत होकर छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री TS सिंह देव सदन से वॉकआउट कर गए। उन पर आदिवासी विधायक ने हत्या के प्रयास का आरोप लगाया था।

2020 में नक्सली हमलों की 665 घटनाएँ, 183 को उतार दिया मौत के घाट: वामपंथी आतंकवाद पर केंद्र ने जारी किए आँकड़े

केंद्र सरकार ने 2020 में हुई नक्सली घटनाओं को लेकर आँकड़े जारी किए हैं। 2020 में वामपंथी आतंकवाद की 665 घटनाएँ सामने आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,426FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe