Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजमौजपुर में CAA विरोध में गोलीबारी, एक हेड कॉस्टेबल की मौत; दस जगहों पर...

मौजपुर में CAA विरोध में गोलीबारी, एक हेड कॉस्टेबल की मौत; दस जगहों पर धारा 144 लागू

प्रदर्शनकारियों ने पहले पुलिस पर पथराव किया फिर जाफराबाद में दस गाड़ियों में भी आग लगा दी। इस हिंसा में एक पुलिस कॉन्सटेबल के मरने की भी खबरें आ रहीं हैं। जाफराबाद के अलावा चाँद बाग में भी इन प्रदर्शनकारियों द्वारा कुछ वाहनों में आग लगाने की खबर है।

इधर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का भारत आगमन हुआ, तो दूसरी तरफ नागरिकता कानून के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया। दिल्ली के जाफराबाद इलाके में नए नागरिकता कानून के खिलाफ धरने पर बैठे लोग रविवार के बाद सोमवार को फिर से हिंसक हो गए। प्रदर्शनकारियों ने पहले पुलिस पर पथराव किया फिर जाफराबाद में दस गाड़ियों में भी आग लगा दी। इस हिंसा में एक पुलिस कॉन्सटेबल के मरने की भी खबरें आ रहीं हैं। जाफराबाद के अलावा चाँद बाग में भी इन प्रदर्शनकारियों द्वारा कुछ वाहनों में आग लगाने की खबर है।

इसके पहले आज सुबह दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्रर ने मौके पर जा प्रदर्शनकारियों को समझाने की कोशिश की थी लेकिन जब वो नहीं माने तो पुलिस ने हिंसक हो रहे प्रदर्शनकारियों पर आँसू गैस के गोले छोड़े। जाफराबाद में सुबह से भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। साथ ही मौजपुर में भी इस प्रदर्शन के कारण ज्यादातर बाजार बंद है, हालाँकि, कुछ दुकानें खुली नजर आ रहीं हैं।

जाफराबाद में संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान एक प्रदर्शनकारी पिस्टल लेकर पहुँच गया। जानकारी के मुताबिक, उसने 8 राउंड फायरिंग भी की।

नागरिकता कानून के समर्थन और विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों के बीच अब रुक रुक कर हो रही है पत्थरबाजी। प्रदर्शनकारियों के पथराव के चलते आसपास के मकानों के काँच भी टूटे।

प्रदर्शनकारियों से बात करते दिल्ली पुलिस के जॉइंट कमिश्नर:

पुलिस कांस्टेबल हुआ घायल

रविवार को हुई जाफराबाद हिंसा के बाद दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने सोमवार को जानकारी दी थी कि जाफराबाद और मौजपुर, बाबरपुर मेट्रो स्टेशन के प्रवेश व निकास द्वारा बंद कर दिए गए हैं। इन स्टेशनों पर मेट्रो नहीं रुकेगी। रविवार को प्रदशर्नकारियों ने दिल्ली के यमुनापार इलाके में भी चार सड़के बंद कर दी थी जिसके बाद पूर्वी दिल्ली की सड़कें पूरी तरह से जाम हो गई थीं। इसके पहले शनिवार रात को महिलाओं ने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास वाली मुख्य सड़क बंद कर दी थी।

रिपोर्ट्स के अनुसार जाफराबाद के मौजपुर मेट्रो स्टेशन के पास रविवार को रुक-रुक कर करीब दो घंटे तक पथराव हुआ। इस बीच पुलिस ने हिंसक प्रदर्शनकारियों पर काबू पाने के लिए आँसू गैस के गोले भी छोड़े, लेकिन वो बेअसर साबित होता रहा। दंगे को बेकाबू होते देख को भारी संख्या में अर्ध सैनिक बल व पुलिस बल बुलाया गया। तब कहीं हालात को काबू में किया जा सका।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,634FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe