Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजसाजिद ने 2 हिन्दू बच्चों को मार डाला, तीसरे की भी गर्दन पर वार:...

साजिद ने 2 हिन्दू बच्चों को मार डाला, तीसरे की भी गर्दन पर वार: कमरे में बंद कर उस्तरे से बारी-बारी काटा, पुलिस मुठभेड़ में ढेर हुआ हत्यारा

मृतक बच्चों के नाम 14 वर्षीय आयुष और 6 वर्षीय हनी बताए जा रहे हैं। साजिद ने तीसरे बच्चे की भी गर्दन काटने का प्रयास किया। हालाँकि, वो खुद को जैसे-तैसे छुड़ा कर भाग निकला।

उत्तर प्रदेश के बदायूँ जिले में साम्प्रदायिक तनाव की खबर है। यहाँ 2 नाबालिग हिन्दू बच्चों का गला काट कर उनका क़त्ल किए जाने की खबर है। तीसरे बच्चे की भी गर्दन पर वार किया गया है। उसका इलाज अस्पताल में चल रहा है। पुलिस स्टेशन पर मृतकों के परिजनों सहित हिन्दू संगठन के सदस्यों का जमावड़ा लगा हुआ है। ‘जय श्री राम’ के नारे भी गूँज रहे हैं। पीड़ित परिजनों का आरोप है कि मृतक बच्चों का गला काट कर खून भी पिया गया है।

दोनों बच्चों की हत्या करने वाले आरोपित का नाम साजिद है। पुलिस ने भाग रहे साजिद को मुठभेड़ में मार गिराया है। मौके पर भारी संख्या में पुलिस और पैरामिलिट्री के जवान तैनात कर दिए गए हैं। घटना मंगलवार (19 मार्च, 2024) की है।

यह घटना बदायूँ के सिविल लाइंस की बताई जा रही है। यहाँ बाबा कॉलोनी के एक मकान में विनोद का परिवार तीसरी मंजिल पर रहता है। विनोद की पत्नी ब्यूटी पॉर्लर में काम करती हैं। विनोद गाजीपुर में पानी की टंकी की ठेकेदारी करते हैं। घटना के समय पति घर से बाहर थे। उनके 3 बच्चे घर पर ही मौजूद थे। मंगलवार की शाम 6 बजे उनके घर में साजिद पहुँचा। वो बच्चों को चीज खिलाने के बहाने घर के अंदर ले गया। कमरे में बंद कर के उसने सभी बच्चों की बारी-बारी से गर्दनें काटी। गर्दन काटने के लिए उस्तरे का प्रयोग किया गया है।

मृतक बच्चों के नाम 14 वर्षीय आयुष और 6 वर्षीय हनी बताए जा रहे हैं। साजिद ने तीसरे बच्चे की भी गर्दन काटने का प्रयास किया। हालाँकि, वो खुद को जैसे-तैसे छुड़ा कर भाग निकला। घायल बच्चे का इलाज अस्पताल में चल रहा है। बच्चों की चीख पुकार सुन का आसपास के लोग मौके पर जमा होने लगे। लोगों का जमावड़ा देख कर साजिद मौके से भाग निकला। पीड़ित परिजनों का आरोप है कि कत्ल के बाद साजिद बच्चों का खून पी रहा था। IG रेंज का कहना है कि खून आदि पीने के आरोपों की जाँच करवाई जा रही है।

फरार आरोपित की पुलिस ने तलाश शुरू की। आखिरकार साजिद पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस उसे अपने साथ ले जा रही थी। तभी साजिद ने पुलिस पर हमला करते हुए भागने का प्रयास किया। पुलिस ने साजिद को आमने-सामने की मुठभेड़ में मार गिराया है। घटना से नाराज लोगों ने शहर के एक सैलून में भी तोड़फोड़ की है।

यह सैलून साजिद और उसके भाई जावेद का बताया जा रहा है। हालात संभालने के लिए पैरामिलिट्री फ़ोर्स को तैनात किया गया है। जब शवों को पुलिस कब्ज़े में ले कर जा रही थी, तब बच्चों की माँ सड़क पर गिर कर बेहोश हो गईं थी। कुछ ही देर में पुलिस चौकी पर हिन्दू संगठनों का जमावड़ा लगना शुरू हो गया। पुलिस चौकी पर ‘जय श्री राम’ के नारे लगने शुरू हो गए हैं। लोगों ने पुलिस द्वारा पीड़ित परिवार पर ही सख्ती करने का आरोप लगाया है। हालाँकि, पुलिस नाराज लोगों को समझाने में जुटी हुई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

समतल कर दिया पैगंबर मुहम्मद की अम्मी-अब्बू का कब्र, बीवी खदीजा का घर बना डाला शौचालय, वो मस्जिद भी बंद… जहाँ पढ़ते थे नमाज:...

वहाबी सुन्नी इस्लाम का सबसे रूढ़िवादी शाखा है। इस्लाम की इस कट्टरपंथी शाखा को वहाबिज्म कहा जाता है, जिसकी स्थापना 18वीं शताब्दी में मुहम्मद इब्न अब्द अल-वहाब ने की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -