Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाजजो इंजीनियरिंग छात्रा की मौत के जिम्मेदार उनका हिसाब कर रही UP पुलिस: एक...

जो इंजीनियरिंग छात्रा की मौत के जिम्मेदार उनका हिसाब कर रही UP पुलिस: एक को मार गिराया, दूसरे को एनकाउंटर में मारी गोली

गोली लगने से एक बदमाश घायल हो गया जबकि दूसरा मौके से फरार होने में सफल रहा। घायल को पुलिस ने अस्पताल पहुँचाया जहाँ उसने दम तोड़ दिया।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में 29-30 अक्टूबर की रात पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़ हुई है। मुठभेड़ में जितेंद्र उर्फ़ जीतू नाम का बदमाश घायल हो गया था, जिसकी अस्पताल ले जाने के दौरान मौत हो गई है। एक दिन पहले 28 अक्टूबर को जीतू मुठभेड़ में बच निकला था। तब उसका साथी बलवीर एनकाउंटर में घायल हो गया था। जीतू ने शुक्रवार (27 अक्टूबर, 2023) को ऑटो से जा रही कीर्ति नाम की एक छात्रा का मोबाइल खींचने का प्रयास किया था। मोबाइल बचाने के प्रयास में छात्रा की गिर कर मौत हो गई थी।

गाजियाबाद पुलिस के DCP ग्रामीण ने इस मुठभेड़ की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि 29-30 अक्टूबर की रात को पुलिस गंगनहर के पास चेकिंग कर रही थी। इस दौरान बाइक सवार 2 संदिग्ध उधर से गुजरे। पुलिस ने घेराबंदी की और संदिग्धों को रुकने का इशारा किया। हालाँकि, दोनों बाइक सवार रुकने की बजाय दूसरी दिशा में भागने लगे। खुद को घिरता देख कर बदमाश ने पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी। इस फायरिंग में एक सब इंस्पेक्टर घायल हो गए। आत्मरक्षा और जवाबी कार्रवाई के तौर पर पुलिस ने भी गोलियाँ चलाईं।

गोली लगने से एक बदमाश घायल हो गया जबकि दूसरा मौके से फरार होने में सफल रहा। घायल को पुलिस ने अस्पताल पहुँचाया जहाँ उसने दम तोड़ दिया। मारे गए संदिग्ध की पहचान जितेंद्र उर्फ़ जीतू के तौर पर हुई है। जीतू एक पुराना हिस्ट्रीशीटर है जिस पर पश्चिम उत्तर प्रदेश के विभिन्न थानों में एक दर्जन केस दर्ज हैं। इनमें लूट और गैंगस्टर एक्ट जैसे केस शामिल हैं। जीतू पहले भी कई बार जेल जा चुका है। पुलिस जितेंद्र के शव का पोस्टमॉर्टम करवा रही है। उसके घर वालों को सूचना दे दी गई है।

एक दिन पहले हुई मुठभेड़ में बच निकला था जीतू

इस घटना से 1 दिन पहले 28 अक्टूबर को जीतू पुलिस मुठभेड़ में बच निकला था। तब गाजियाबाद पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर गोविन्दनगर क्षेत्र में एक चेकिंग के दौरान उसे पकड़ने का प्रयास किया था। बाइक सवार जीतू और उसके साथी बलवीर ने भागते हुए पुलिस पर गोली भी चलाई थी। इस दौरान बलवीर के पैर में गोली लगी थी जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया था। हालाँकि, इस दौरान जीतू फरार होने में सफल रहा था।

छात्रा की मौत में आरोपित था जीतू

बताते चलें कि 27 अक्टूबर, 2023 को गाजियाबाद के मसूरी थाना क्षेत्र में बीटेक की एक छात्रा ऑटो में बैठ कर छात्र कॉलेज से अपने घर की तरफ आ रही थी। इस दौरान बाइक सवार जीतू और बलवीर ने छात्रा का मोबाइल खींचने की कोशिश की। इसी छीना-झपटी में छात्रा चलती ऑटो से नीचे गिर पड़ी और गंभीर रूप से घायल हो गई। काफी प्रयासों के बाद पीड़िता को बचाया नहीं जा सका था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -