Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजJNU की प्रोफ़ेसर का खुलासा: छात्रसंघ की लड़कियों तक ने की मारपीट और तोड़फोड़

JNU की प्रोफ़ेसर का खुलासा: छात्रसंघ की लड़कियों तक ने की मारपीट और तोड़फोड़

11:00 बजे के आसपास, JNUSU के लगभग 20-25 आक्रामक छात्र उस भवन में प्रवेश करते हैं और आश्चर्यजनक रूप से इनमें कई लड़कियाँ थी जो रजिस्ट्रेशन के लिए आए छात्रों को धमकी दे रही थी, चिल्ला रहीं थी, कार्यालय के कर्मचारियों और पंजीकरण के लिए इंतजार कर रहे छात्रों को गाली दे रही थीं। चार-पाँच छात्राओं ने.....

जब जेएनयू की वेबसाइट को दो दिन तक प्रदर्शनकारी मास्क पहने छात्रों द्वारा हैक किया गया था (एक को छोड़कर, जो शायद दूसरे कन्हैया कुमार होने की महत्वाकांक्षा पाले बिना नकाब के लीड कर रही थी) तब मीडिया कहाँ थी? जब खिड़कियाँ तोड़ी गई थीं, जब जेएनयू के केंद्रीय सर्वर को नुकसान पहुँचाया गया, लाखों रुपए के ऑप्टिक फाइबर तारों को काट दिया गया था और नष्ट कर दिया गया था, और वहाँ के स्टाफ को इन्हीं मास्क पहने छात्रों के समूह द्वारा संचार और सूचना सेवा केंद्र (सीआईएस) से बाहर निकाल दिया गया था ताकि रजिस्ट्रेशन कराने के इच्छुक छात्रों के पंजीकरण की प्रक्रिया को बाधित किया जा सके। यह वह जघन्य अपराध है जो मैंने शायद ही कभी किसी छात्र समुदाय को करते सुना था। मेरे लिए यह अविश्वसनीय है कि हमारे कुछ छात्र आतंकियों जैसे अपना चेहरा छिपा रहे हैं और राष्ट्रीय विश्वविद्यालय के सार्वजनिक गुणों को नष्ट कर रहे हैं।

विडंबना यह है कि मीडिया ने इसे सिरे से ख़ारिज कर चुनिंदा रूप से और बेहद संक्षेप में प्रस्तुत किया। विडंबना यह है कि जेएनयू टीचर्स एसोसिएशन (जेएनयूटीए) निंदा करने के बजाय बर्बरता के इस कृत्य के बारे में रहस्यमय चुप्पी साधे रहा। उसके बाद भी हममें से कुछ लोग यह जानकर हैरान थे कि कैंपस के अंदर किसी भी पुलिस को नहीं बुलाया गया था और उन छात्रों के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है जिन्होंने यह अपराध किया है। केवल आंतरिक सुरक्षा ने किसी तरह से ब्लॉकेज को साफ कर दिया और यह भी हमने सुना कि गेट पर पहरा दे रहे छात्रों को भी नकाबपोशों द्वारा पीटा गया। हमने सुना (और चित्रों को देखा) कि केंद्रीय सर्वर इतना क्षतिग्रस्त है कि यह अभी भी उसे रिस्टोर करने का काम जारी है और पंजीकरण 6 जनवरी तक शुरू नहीं किया जा सका था।

हमें पता चला है कि JNUSU ने उन छात्रों के हमले की कड़ी निंदा की है जो सीआईएस की रखवाली कर रहे थे। उत्सुकता से मैंने एक आंदोलनकारी छात्र से पूछा, जिसे मैंने पढ़ाया था, “आप लोकतांत्रिक अधिकारों के बारे में बात करते हैं और आपने कुछ छात्रों के हमले की निंदा की है, लेकिन आप बर्बरता के इस कृत्य की निंदा नहीं कर रहे हैं? जो सर्वर रूम में किया गया। उन्होंने जवाब दिया “यह कुछ शरारती छात्रों द्वारा किया गया था, जिन पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है।” मैंने पूछा कि आप हमले की निंदा क्यों करते हैं? क्या आपको नहीं लगता कि वे नकाबपोश कुछ दंड के पात्र हैं? जवाब स्पष्ट रूप से हवा में उड़ा दिया गया।

ऐसी कई बातों का कोई जवाब नहीं है। कोई जवाब नहीं कि छात्र अपनी जीत का जश्न क्यों नहीं मना रहे हैं जब इन दो महीनों के लॉकअप ने वास्तव में बीपीएल स्टूडेंट के लिए छात्रावास के किराए को 600/300 और 150/300 तक कम कर दिया है। प्रदर्शनकारी छात्र इस लॉक डाउन को अभी भी जारी क्यों रखना चाहते हैं? उनमें से कुछ कह रहे हैं कि वे सभी के लिए पूरी वृद्धि वापस चाहते हैं। कुछ कहते हैं कि हमारे पास कुछ और एजेंडे हैं जिन्हें पूरा करना है। कुछ को कुछ संदेह है। इन सभी में, हमारे कुछ छात्र गोपनीय रूप से हमसे शेयर कर रहे हैं कि वे इस आंदोलन से हटना चाहते हैं क्योंकि उन्हें इनके कुछ छिपे हुए एजेंडों और निहित स्वार्थों पर संदेह है।

ऊपर दिए गए फेसबुक लिंक की प्राइवेसी सेटिंग चेंज कर दी गई है। इसलिए नीचे लिंक का स्क्रीनशॉट लगाया गया है।

हम असहाय, मूक दर्शक, जिन्हें पिछले दो महीनों से हमारे अपने कार्यालय के कमरे से बाहर निकाल दिया गया है, और हम कुछ नहीं कर पा रहे हैं, अवसाद से गुजर रहे हैं, सभी बाधाओं से लड़ रहे हैं और छात्रों की सुविधा के लिए कठोर सर्दियों में सड़कों पर या पार्किंग में बैठे हैं। अन्य महत्वपूर्ण शैक्षणिक गतिविधियों और सभी बिखरे हुए आशाओं के खिलाफ उम्मीद है कि शायद आने वाले दिनों में जल्द ही सामान्य स्थिति बहाल हो जाएगी, जब हम अपने स्वयं के कमरे में, कार्यालय में वापस आ जाएँगे, जहाँ हम फिर से अपने स्वयं के विचारों में खो सकते हैं, बिना किसी हस्तक्षेप के। यहाँ तक कि तमाम प्रोफेसरों और शोध छात्रों को इन प्रदर्शनकारी छात्रों से विनती करनी पड़ती है कि हमें कुछ महत्वपूर्ण सामान, किताबें या हार्डडिस्क लेने के लिए पाँच मिनट के लिए अपने कमरे में जाने दें, उस पर भी ये प्रदर्शनकारी छात्र इंकार कर देते हैं या सप्ताहांत में आने के लिए कहते हैं। प्रदर्शनकारी छात्र जो हमारे स्कूल भवन के सभी गेटों को अवरुद्ध कर बैठे हैं। एक शिक्षक के लोकतांत्रिक स्पेस, उसके अधिकार, उसका कार्यालय पर कब्ज़ा जमाए बैठे इन छात्रों के खिलाफ आवाज उठाने के लिए इन दिनों में कोई मंच नहीं है, क्योंकि यह अब हमारे JNUTA के लिए चिंता का विषय नहीं है। लेकिन हम अक्सर जेएनयू में ‘लोकतांत्रिक स्पेस’ के बारे में बात करते हैं, बहस करते हैं।

जेएनयू प्रशासन ने पहली जनवरी से 5 जनवरी तक इस शीतकालीन सत्र के लिए पंजीकरण की घोषणा की थी और उन छात्रों के लिए विकल्प उपलब्ध कराया था, जिन्होंने तीन बार परीक्षा छोड़ दी है। उन्हें अनंतिम पंजीकरण और सभी के लिए पंजीकरण ऑनलाइन कर दिया था। पहले दो दिनों में पंजीकरण धीमी गति से हो रहा था, जो हमेशा होता है क्योंकि छात्रों को अलग-अलग स्थानों से मंजूरी लेनी होती है। ऐसा लगता था कि कई लोग पंजीकरण के लिए इच्छुक थे। अधिकांश छात्र पूरे दो महीने के आंदोलन से हताश हो गए थे, कई ऐसे पोस्टग्रेजुएट छात्र हैं जिनका भविष्य अनिश्चित हैं और प्रतिस्पर्धी एग्जाम के लिए खुद को तैयार करना है, उनमें से कई 9बी पीएचडी के छात्र हैं, जिन्हें इस जून तक अपनी थीसिस जमा करनी है, कई एमफिल चौथे सेमेस्टर के छात्र हैं, जिन्हें आगामी जून में डेज़र्टेशन जमा करना है। अब छात्र इन आंदोलनों और उनके मोटिव को समझ जाने के कारण पंजीकरण के पक्ष में लामबद्ध हो रहे हैं।

अभी तक जो भी हो रहा था कमोबेश निर्विरोध चल रहा था। आम छात्रों और शिक्षकों कभी समर्थन था। लेकिन अब सब कुछ बदल गया है। अब आम छात्र पीछे हट रहे हैं उनका समर्थन खिसक रहा है लेकिन आंदोलन वापस नहीं लिया जा सकता है। पंजीकरण प्रक्रिया को बाधित किया जा रहा है, ताकि कोई भी पंजीकरण न कर सके। अब यह संघर्ष का मूल कारण बन सकता है।

जिस दिन JNU में हिंसा की घटना हुई थी उस दिन JNU की इकॉनमी की प्रोफ़ेसर इन्द्राणी रॉय चौधरी वहाँ मौजूद थी उन्होंने कहा कि “मैं उस दिन सुबह 10:00 बजे से डीन कार्यालय में थी। और पंजीकरण के बहिष्कार के नारे लगाने वाले छात्रों के उन्माद देखकर मुझे गहरा आघात लगा, हमें 5 मिनट के भीतर जगह छोड़ने के लिए धमकी दी गई नहीं तो वे हमें घंटों के लिए बंद कर देंगे। कुछ छात्र पहले से ही पंजीकरण के लिए वहाँ मौजूद थे, लेकिन सर्वर अभी भी रिस्टोर नहीं हुआ था। 11:00 बजे के आसपास, JNUSU के लगभग 20-25 आक्रामक छात्र उस भवन में प्रवेश करते हैं और आश्चर्यजनक रूप से इनमें कई लड़कियाँ थी जो रजिस्ट्रेशन के लिए आए छात्रों को धमकी दे रही थी, चिल्ला रहीं थी, कार्यालय के कर्मचारियों और पंजीकरण के लिए इंतजार कर रहे छात्रों को गाली दे रही थीं। स्कूल के गेट को अवरुद्ध कर दिया गया था। हमारे केंद्र के पीएचडी छात्रों में से चार (सुमन, शंटू, शुभोमॉय और अरूप) पंजीकरण के लिए वहाँ गए थे और वे हमारी रखवाली कर रहे थे। उस दौरान दोनों पक्षों के छात्र उन घटनाओं का वीडियो बना रहे थे। चार-पाँच छात्राओं ने शुभोमय से मोबाइल छीन लिया और उसे बाहर फेंक दिया, फिर उन्होंने उनमें से प्रत्येक को गालियाँ देना शुरू कर दिया, उन्हें कॉलर पकड़कर बाहर खींचने और थप्पड़ मारने के बाद गाली देकर घसीटना-मारना शुरू कर दिया। वीडियो बना रहे शंटू को घेर लिया गया और धमकाया गया, उसकी जैकेट को हमारे सामने ही फाड़ दिया गया, अरुप को आधे घंटे से ज़्यादा समय तक पीटा गया और उसके साथ दुर्व्यवहार किया गया और उसका मोबाइल भी किसी ने छीन लिया था।

ये JNUSU छात्र बिना किसी विरोध के उन मासूम आम छात्रों के साथ ये सब करने में कामयाब रहे, क्योंकि उस दौरान आसपास एक भी AVBP के छात्र नहीं थे। नकाबपोश चेहरे वाले वहाँ कई छात्र खड़े थे। हम में से कई लोग संदेह कर रहे थे कि उनमें से कुछ हमारे छात्र नहीं हो सकते हैं और कुछ जामिया मिलिया के हो सकते हैं। जब अरूप को आखिरकार लड़कियों की भीड़ से बचाया गया, तो वह कुछ भी कहकर रो पड़ा और काँप उठा। हम उन लड़कियों के व्यवहार और उनकी अश्लील हरकत से हैरान थे। जब हमारे छात्रों ने एफआईआर करने के लिए कहा तो ये सुनकर उन लड़कियों ने धमकी दी कि वह यह आरोप लगाकर एफआईआर दर्ज करवा देंगी कि इन छात्रों (अरूप आदि ….) ने उनका यौन शोषण किया है।

लगभग 5:00 बजे हमने देखा कि नकाबपोश चेहरे वाले सैकड़ों छात्र हॉस्टल की ओर लाठी, डंडे और पत्थर लेकर दौड़ रहे थे। बाद में मैंने सुना कि ताप्ती, साबरमती, कोयना, एक के बाद एक कई अन्य छात्रावासों पर हमला किया गया, सीसी टीवी के साथ बर्बरता की गई और यहाँ तक ​​कि संकाय के क्वार्टर पर भी हमला किया गया। कुछ छात्र बुरी तरह से घायल हैं, कुछ बाहर चले गए, कुछ लापता हैं।

यह विश्वास करना मुश्किल है कि यह वह विश्वविद्यालय है जिसने हमें विविधता का सम्मान करने के लिए, राय और विचारों में अंतर के लिए जगह बनाने और सद्भाव और सह-अस्तित्व बनाने के लिए सिखाया। यह वह विश्वविद्यालय नहीं है जिसे मैं जानती और मुझे उस बिरादरी का सदस्य होने पर गर्व होता था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,101FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe