Monday, June 24, 2024
Homeदेश-समाजकालीचरण महाराज की जमानत को छत्तीसगढ़ कोर्ट ने किया खारिज, 13 जनवरी तक रहेंगे...

कालीचरण महाराज की जमानत को छत्तीसगढ़ कोर्ट ने किया खारिज, 13 जनवरी तक रहेंगे जेल में: ‘धर्म संसद’ विवाद में अब हाईकोर्ट जाने की तैयारी

कालीचरण महाराज ने महात्मा गाँधी की हत्या को जायज ठहराते हुए उनकी हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को नमन किया था। उन्होंने इस्लाम को लेकर कहा था कि मुस्लिम देश पर कब्जा करना चाहते हैं।

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित ‘धर्म संसद’ में महात्मा गाँधी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए कालीचरण महाराज (Kalicharan Maharaj) को राहत नहीं मिली। रायपुर की जिला अदालत ने सोमवार (3 जनवरी 2022) को करीब डेढ़ घंटे तक वकीलों की दलील सुनने के बाद आवेदन को खारिज कर दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, महाराज को रायपुर की जेल में 13 जनवरी तक की न्यायिक हिरासत में रखा गया है।

रायपुर कोर्ट में 12th ADJ विक्रम चंद्रा की अदालत में उनकी जमानत याचिका की सुनवाई हुई। इस दौरान कालीचरण महाराज के वकील पुलिस की कार्रवाई को गलत ठहराते रहे, लेकिन अदालत ने उनकी एक नहीं सुनी। जानकारी के मुताबिक, महाराज की जमानत के लिए हाईकोर्ट में अपील की जाएगी। लीगल टीम इसकी तैयारी में जुट चुकी है।

बता दें कि कालीचरण महाराज के खिलाफ छत्तीसगढ़ के अलावा महाराष्ट्र के पुणे में भी मामला दर्ज किया गया है। महाराष्ट्र पुलिस ने उनके ट्रांजिट रिमांड के लिए आवेदन दिया है, जिसकी सुनवाई मंगलवार (4 दिसंबर 2022) को होगी। अदालत से अनुमति मिलने के बाद महाराष्ट्र पुलिस पूछताछ के लिए उन्हें अपने साथ लेकर जाएगी।

बीते दिनों रायपुर पुलिस ने उन्हें मध्य प्रदेश के खजुराहो स्थित एक होटल से गिरफ्तार किया था। कालीचरण महाराज पर आरोप है कि उन्होंने 26 दिसंबर 2021 को रायपुर के रावण भाटा मैदान में आयोजित ‘धर्म संसद’ में महात्मा गाँधी को लेकर अपमानजनक बात ही थी।

कालीचरण महाराज ने महात्मा गाँधी की हत्या को जायज ठहराते हुए उनकी हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को नमन किया था। कथित तौर पर उन्होंने मंच से कॉन्ग्रेस नेताओं की आलोचना करते हुए हिंदू नेता चुनने की बात भी श्रोताओं से कही थी। इसके अलावा, उन्होंने इस्लाम को लेकर कहा था कि मुस्लिम देश पर कब्जा करना चाहते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -