Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजकमलेश तिवारी मर्डर: 2 पर हत्या और 11 पर साजिश रचने का चलेगा मामला,...

कमलेश तिवारी मर्डर: 2 पर हत्या और 11 पर साजिश रचने का चलेगा मामला, तनवीर अब भी फरार

चार्जशीट में आरोपित बनाए गए 13 लोगों में से 11 फिलहाल जेल में हैं। मौलाना कैफी अली रिजवी जमानत पर बाहर है। हत्यारों का एक अन्य मददगार तनवीर अब तक पुलिस की पकड़ से दूर है। बताया जा रहा है कि उसने हत्यारों को आश्रय दिया था।

हिंदू समाज पार्टी के अध्यश कमलेश तिवारी हत्याकांड में पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है। पुलिस की चार्जशीट में 13 लोगों के नाम है, इन 13 लोगों को हत्या और साजिश रचने का आरोपित बनाया है। पुलिस ने अशफाक और मोइनुद्दीन को कमलेश तिवारी की हत्या का आरोपित बनाया है, जबकि बाकी लोगों को साजिश रचने का आरोपित बनाया है। बता दें कि पिछली कुछ रिपोर्ट में अशफाक की पहचान अशरफ के रूप में हुई थी। 

मुख्य आरोपित अशफाक और मोईनुद्दीन पर हत्या का केस चलेगा। इन दोनों को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार किया था। इसके अलावा गुजरात के सूरत निवासी रशीद अहमद पठान उर्फ राशिद, मौलाना मोहसिन शेख, फैजान यूनुस, इनके मददगार नागपुर के सैय्यद आसिम अली, बरेली के कैफी अली, वकील नावेद, कामरान, लखीमपुर के पलिया निवासी रईस व आसिफ को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस की चार्जशीट में इनके नाम भी शामिल हैं। 

जानकारी के मुताबिक चार्जशीट लखनऊ की एक स्थानीय अदालत में दायर किया गया है। चार्जशीट में आरोपित बनाए गए 13 लोगों में से 11 फिलहाल जेल में हैं। मौलाना कैफी अली रिजवी जमानत पर बाहर है। कैफी को एटीएस ने 21 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था। कैफी के जमानत का इंतजाम दरगाह के लोगों द्वारा किया गया था। जाँच एजेंसियों के अनुसार, अशफाक और मोइनुद्दीन का लास्ट लोकेशन बरेली था और बताया गया था कि दोनों तिवारी की हत्या के बाद बरेली में मौलाना कैफी अली रिजवी से मिलने गए थे। हत्यारों का एक अन्य मददगार तनवीर अब तक पुलिस की पकड़ से दूर है। बताया जा रहा है कि उसने हत्यारों को आश्रय दिया था।

गौरतलब है कि लखनऊ के नाका के खुर्शीदबाग की तंग गलियों में रहने वाले हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की 18 अक्टूबर को दो बदमाशों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी। दोनों बदमाश मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर कमलेश के घर की पहली मंजिल पर स्थित दफ्तर पहुँचे थे। आरोपितों ने पहले कमलेश की गर्दन पर गोली मारी। फिर चाकू से ताबड़तोड़ वार करने के बाद गला रेत दिया था। पुलिस ने मौके से एक पिस्टल व एक खोखा बरामद किया था।

कमलेश तिवारी मर्डर: यूसुफ की रेकी पर लखनऊ आए हत्यारे, उसकी ही बताई दुकान से खरीदी सिम

कमलेश तिवारी मर्डर: रईस ने 72 कट्टरपंथियों का बनाया था ग्रुप, आसिम ने हत्यारे से पूछा था- तुमसे हो पाएगा?

कमलेश तिवारी मर्डर: अशफाक और मोईनुद्दीन ने की हत्या, खालसा होटल से मिला खून लगा कुर्ता, गाजियाबाद तक लोकेशन ट्रेस

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe