Wednesday, April 17, 2024
Homeदेश-समाजकानपुर दंगों में भी PFI का हाथ: CAA विरोधी हिंसा में जो पकड़े गए...

कानपुर दंगों में भी PFI का हाथ: CAA विरोधी हिंसा में जो पकड़े गए वे फिर गिरफ्तार, सपा में रहे निजाम कुरैशी का हिंदूफोबिक चैट भी सामने आया

कानपुर हिंसा केस में पुलिस ने पीएफआई के 5 सदस्यों की पहचान की थी। इनमें से 3 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। एक फरार है और एक चलने की स्थिति में नहीं है।

कानपुर हिंसा मामले के तार अब कट्टरपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से जुड़े पाए गए हैं। बताया जा रहा है कि हाल में हिंसा आरोपितों की धरपकड़ में पुलिस ने इस संगठन के तीन सदस्यों को पकड़ा जिनकी पहचान सैफुल्ला, नसीम और उमर के तौर पर हुई है। कथिततौर पर ये तीन सीएए हिंसा के दौरान भी पकड़े गए थे।

PFI सदस्यों समेत 54 गिरफ्तार

पुलिस कमिश्नर विजय सिंह मीणा ने गिरफ्तारियों पर बताया कि कानपुर हिंसा केस में पुलिस ने पीएफआई के 5 सदस्यों की पहचान की थी। इनमें से 3 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। एक फरार है और एक चलने की स्थिति में नहीं है। पुलिस को शक है कि पीएफआई के अन्य सदस्य भी शहर में मौजूद हो सकते हैं जिसके मद्देनजर जाँच चल रही है। हिंसा केस में अब तक 54 गिरफ्तारियाँ हुई हैं। बीजेपी के युवा विंग के नेता हर्षित श्रीवास्तव को भी पुलिस ने भड़काऊ सामग्री पोस्ट करने पर पकड़ा है।

पुलिस ने इकट्ठा किए सबूत

ताजा जानकारी बताती है कि जाँच टीमें लगातार घटनास्थल पर जाकर सबूत जुटाने में लगी हैं। आज भी पुलिस एसआईटी सदस्यों ने और कानपुर एसीपी त्रिपुरारी पांडे ने हिंसा वाली जगह जाकर सफाई कर्मचारियों से बात की। घटना संबंधी सारे सबूत जुटाने के प्रयास हो रहे हैं। मंगलवार को सुबह ताबड़तोड़ दबिश दी गई थी। अभियान में कुल 11 आरोपित पुलिस के हत्थे चढ़े थे। बुधवार को एसीपी पांडे ने बताया कि उन्हें सबूतों में पत्थर ईंट मिली। इलाके में फोटो ग्राफी और वीडियोग्राफी करके लोगों से उनकी राय ली गई है।

पूर्व सपा नेता का हिंसा में नाम

टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के अनुसार, कानपुर हिंसा में निजाम कुरैशी का नाम भी आया है उसके तार पूर्व में समाजवादी पार्टी से जुड़े मिले हैं। और उसके नाम से चल रहे वॉट्सएप ग्रुप में हिंदुओं के प्रति घृणा देखने को मिली है। साझा स्क्रीनशॉट में हिंदू दुकानदारों से सामान लेने से मुस्लिमों को मना किया जा रहा है। मैसेज में दुकानों के नाम अलग से लिखे गए हैं जिनसे किसी भी सामान की खरीददारी करने से मना किया जा रहा है। मैसेज के ऊपर ‘मुसलमानों के नाम संदेश’ साफ लिखा है। इसमें हिंदू दुकानदारों के नाम के साथ बताया गया है- “जैसे इनको अपने सिर पर बैठाया है उसी तरह एकजुट होकर इन्हें सिरों से नीचे उतार भी सकते हैं।” जिस ग्रुप में ये सारी बातें हुई हैं उस ग्रुप का नाम ‘टीम निजाम कुरैशी’ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल-हराम के जाल में फँसा कनाडा, इस्लामी बैंकिंग पर कर रहा विचार: RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारत में लागू करने की...

कनाडा अब हलाल अर्थव्यवस्था के चक्कर में फँस गया है। इसके लिए वह देश में अन्य संभावनाओं पर विचार कर रहा है।

त्रिपुरा में PM मोदी ने कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्टों को एक साथ घेरा: कहा- एक चलाती थी ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’ दूसरे ने बना रखा था ‘लूट का...

त्रिपुरा में पीएम मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस सरकार उत्तर पूर्व के लिए लूट ईस्ट पालिसी चलाती थी, मोदी सरकार ने इस पर ताले लगा दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe