Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजकोरोना के कारण इस बार काँवड़ यात्रा नहीं, 3 राज्यों के CM ने आपसी...

कोरोना के कारण इस बार काँवड़ यात्रा नहीं, 3 राज्यों के CM ने आपसी सहमति से लिया फैसला

सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी जोनल महानिदेशकों और सभी जोनल कमिश्नरों को अपने-अपने क्षेत्रों में प्रोटोकॉल लागू कराने का निर्देश दे दिया है। जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि एक स्थान पर पाँच से अधिक लोग इकट्ठे न हों।

कोरोना संक्रमण के मद्देनजर काँवड़ यात्रा को इस वर्ष उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने रद्द करने का फैसला किया है। सीएम योगी ने यह फैसला 20 जून को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर और उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बात करने के बाद लिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्यमंत्री के पास यह प्रस्ताव साधु संतों व धार्मिक गुरुओं के जरिए आया था। तीनों मुख्यमंत्री की बैठक के बाद इसे मँजूरी मिल गई।

इस निर्णय के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी जोनल महानिदेशकों और सभी जोनल कमिश्नरों को अपने-अपने क्षेत्रों में प्रोटोकॉल लागू कराने का निर्देश दे दिया है। जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि एक स्थान पर पाँच से अधिक लोग इकट्ठे न हों।

बता दें, सीएम ने इस दौरान स्थानीय धर्मगुरुओं व काँवड़ यूनियन और शांति कमेटी से भी बात की। साथ ही लोगों को इस निर्णय के बारे में सूचित करने व इसका पालन करने के लिए भी कहने को कहा गया। इसके अलावा सीएम ने अगस्त में आने वाली बकरीद को लेकर भी निर्देश दिया कि उस समय भी 5 से ज्यादा लोग इकट्ठा नहीं होंगे।

उल्लेखनीय है कि हर वर्ष सावन के महीने में काँवड़ यात्रा का विशेष महत्व होता है। लाखों श्रद्धालु अपने घरों से इस यात्रा के लिए निकलते हैं और शिवलिंग पर जल चढ़ाते हैं। ऐसे में जगह-जगह इन श्रद्धालुओं के रुकने का इंतजाम, खाने-पीने का इंतजाम सरकार को करना पड़ता है।

इस बार आशंका है कि यदि ऐसा कोई आयोजन होता है, तो उससे संक्रमण काबू होने की बजाय और बढ़ेगा। काँवड़ यात्रा में इकट्ठा हुई भीड़ में सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करवा पाना बहुत मुश्किल होता है। इसलिए, इस वर्ष धार्मिक गुरुओं की सलाह को देखते हुए इसे स्थगित करने का फैसला किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPA के समय ही IB ने किया था आगाह, फिर भी PFI को बढ़ने दिया गया’: पूर्व मेजर जनरल का बड़ा खुलासा, कहा –...

PFI पर बैन का स्वागत करते हुए मेजर जनरल SP सिन्हा (रिटायर्ड) ने ऑपइंडिया को बताया कि ये संगठन भारतीय सेना के समांतर अपनी फ़ौज खड़ी कर रहा था।

‘सारे मुस्लिम युवकों को जेल में डाल दिया जाएगा, UAPA है काला कानून’: PFI बैन पर भड़के ओवैसी, लालू यादव और कॉन्ग्रेस MP

असदुद्दीन ओवैसी के लिए UAPA 'काला कानून' है। लालू यादव ने RSS को 'PFI सभी बदतर' कह दिया। कॉन्ग्रेसी कोडिकुन्नील सुरेश ने RSS को बैन करने की माँग की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe