Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजकर्नाटक: HC के आदेश के बाद हटाया गया सरकारी भूमि पर स्थापित अवैध क्रिश्चियन...

कर्नाटक: HC के आदेश के बाद हटाया गया सरकारी भूमि पर स्थापित अवैध क्रिश्चियन क्रॉस और जीसस की विशाल मूर्ति

सैकड़ों इसाई प्रदर्शनकारियों ने जिला प्रशासन की कार्रवाई के खिलाफ मौके पर प्रदर्शन किया। उन्होंने प्रशासन और कर्नाटक सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। पुलिस ने मामले को अपने हाथ में ले लिया और उन सभी स्थानीय इसाई प्रदर्शनकारियों को मौके से हटाया।

कर्नाटक के चिक्काबल्लापुर में सुसाई पलिया हिल पर मौजूद एक अवैध क्रिश्चियन क्रॉस और यीशु मसीह की एक मूर्ति को बुधवार (सितम्बर 23, 2020) को जिला प्रशासन ने हटा दिया है। जनहित याचिका (पीआईएल) के जवाब में कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश के बाद यह कार्रवाई की गई।

सरकारी भूमि के अतिक्रमण के लिए बड़े आकार के क्रॉस और स्टैचू को सरकारी स्वामित्व वाली चरागाह भूमि, जिसे गोमला भी कहा जाता है, पर अवैध रूप से स्थापित किया गया था। अवैध कब्जे को हटाने की इस कार्रवाई को सहायक आयुक्त रघुनंदन, तहसीलदार तुलसी ने पुलिस अधीक्षक (चिक्काबल्लापुर) मिथुन कुमार की निगरानी में किया गया।

प्रशासनिक कार्रवाई की पुष्टि करते हुए, रघुनंदन ने बताया कि कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेशों पर कार्रवाई की गई थी, क्योंकि यह पाया गया था कि अधिकारियों की पूर्व स्वीकृति के बिना, सरकारी भूमि पर मूर्ति और क्रॉस का निर्माण किया गया था।

इसाई प्रदर्शनकारियों ने किया कार्रवाई के खिलाफ विरोध

इस दौरान इलाके में कानून व्यवस्था को नियंत्रित करने के लिए सैकड़ों पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था। कथित तौर पर, सैकड़ों इसाई प्रदर्शनकारियों ने जिला प्रशासन के संचालन के खिलाफ मौके पर प्रदर्शन किया। इसाई प्रदर्शनकारी, प्रशासन और कर्नाटक सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। पुलिस ने मामले को अपने हाथ में ले लिया और उन सभी स्थानीय इसाईयों को पीछे किया, जिन्होंने प्रशासन को न्यायालय के आदेशों को लागू करने से रोकने की कोशिश की।

केरल में भी चर्च ने किया था कब्जा करने का प्रयास

पिछले साल एक चर्च पर केरल की कम्युनिस्ट सरकार की मदद से, केरल में ‘पूनकवनम’ के नाम से जाने जाने वाले सबरीमाला मंदिर से जुड़े ‘पवित्र वनों’ का अतिक्रमण करने का आरोप लगाया गया था। मलयालम अख़बार ‘जन्मभूमि’ की एक रिपोर्ट ने बताया था कि इडुक्की ज़िले के सबरीमाला जंगलों के एक हिस्से पाँचालिमेडु के पास वनभूमि का भारी अतिक्रमण किया गया था। पूरे क्षेत्र को पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम के तहत पारिस्थितिक रूप से संवेदनशील के रूप में नामित किया गया है।

चिंताजनक विषय यह था कि चर्च ने ऐसे बोर्ड लगाए हुए थे जिनमें वन क्षेत्र को एक इसाई तीर्थस्थल होने का दावा किया गया था। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि इस कारनामे का उद्देश्य सबरीमाला मंदिर था, जो पिछले सत्तर सालों से धर्मांतरण वाले गिरोह के रडार पर रहा है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe